सिडनी धीमी बल्लेबाजी को लेकर आलोचना का सामना कर रहे चेतेश्वर पुजारा को आया गुस्सा, कहा- मैं उससे बेहतर नहीं कर सकता

धीमी बल्लेबाजी को लेकर आलोचना का सामना कर रहे चेतेश्वर पुजारा को आया गुस्सा, कहा- मैं उससे बेहतर नहीं कर सकता

धीमी बल्लेबाजी को लेकर आलोचना का सामना कर रहे चेतेश्वर पुजारा को आया गुस्सा, कहा- मैं उससे बेहतर नहीं कर सकता

सिडनी: ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ यहां तीसरे टेस्ट के तीसरे दिन जरूरत से ज्यादा रक्षात्मक खेल के कारण आलोचना का सामना कर भारत के सीनियर बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने कहा कि मैं जो कर रहा था उससे बेहतर नहीं कर सकता था.

पुजारा ने 176 गेंदों में 50 रन बनाएः
पुजारा ने कहा कि ऑस्ट्रेलियाई टीम की शानदार गेंदबाजी के कारण उन्हें अपने टेस्ट करियर का सबसे धीमा अर्धशतक बनाने पर मजबूर होना पड़ा. उन्होंने 176 गेंद में 50 रन बनाए और उनकी धीमी बल्लेबाजी से ऑस्ट्रेलिया को मैच पर पकड़ बनाने में मदद मिली.

पुजारा ने कहा- कमिंस ने ‘श्रृंखला की सबसे बेहतर गेंद’ डाली वह कुछ नहीं कर सकेः
पुजारा ने दिन के खेल के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मैं अच्छी बल्लेबाजी कर रहा था और एक बेहतर गेंद पर आउट हुआ. मुझे बस इस बात को स्वीकार करना है. मैं जो कर रहा था, उससे बेहतर कुछ नहीं कर सकता था. मुझे लगता है कि मुझे सिर्फ बल्लेबाजी करनी है, मुझे पता है.  पुजारा के मुताबिक श्रृंखला में उनके खिलाफ शानदार गेंदबाजी कर रहे पैट्रिक कमिंस ने ‘श्रृंखला की सबसे बेहतर गेंद’ डाली जिस पर वह कुछ नहीं कर सके. उन्होंने कहा कि वह ऐसी गेंद फेंकते हैं जिसका सामना करना मुश्किल होता है. मुझे लगता है कि वह श्रृंखला की सर्वश्रेष्ठ गेंद थी. मुझे नहीं लगता कि मैं उस गेंद पर कुछ कर सकता था. अतिरिक्त उछाल के कारण मुझे उस गेंद को खेलना पड़ा. जब आपका दिन अच्छा नहीं होता है तो गलती पर बचने की गुंजाइश काफी कम होती है. पुजारा ने कहा कि इस टेस्ट मैच में दोनों टीमों का अंतर गेंदबाजों का अनुभव है.

पुजारा ने कहा- ऋषभ पंत के आउट होने के बाद मैच का रूख पलट गयाः 
पुजारा ने कहा कि अगर आप हमारे तेज गेंदबाजों को देखेंगे, वे अनुभवी नहीं है लेकिन वे सुधार कर रहे हैं, वे बेहतर होंगे. उनके लिए यह सीखने का अच्छा मौका है. उन्होंने कहा कि ऋषभ पंत के आउट होने के बाद मैच का रूख पलट गया और ऑस्ट्रेलिया ने दबदबा बना लिया. उन्होंने कहा कि अगर आप देखेंगे तो हम परेशानी में तभी आए जब पंत आउट हुए. उससे पहले हम अच्छी स्थिति में थे. चार विकेट पर 180 रन के साथ हम अच्छा कर रहे थे लेकिन पंत के आउट होने के बाद चीजें बदल गई.

रविन्द्र जडेजा की गेंदबाजी की कमी खलीः
पुजारा ने कहा कि टीम को दूसरी पारी में रविन्द्र जडेजा की गेंदबाजी की कमी खल रही है. उन्होंने कहा कि इमानदारी से कहूं तो इसका असर पड़ा है. हमारे पास सिर्फ चार गेंदबाज है. इससे गेंदबाजों पर अतिरिक्त दबाव पड़ता है. किसी गेंदबाज के कम होने से चीजे आसान नहीं होगी, खासकर तब वह गेंदबाज रविन्द्र जडेजा के जैसा हो जिन्होंने पहली पारी में चार विकेट लिए और एक छोर से दबाव बनाए रखा.
सोर्स भाषा

और पढ़ें