Live News »

चिदंबरम देश से बाहर जाने पर रोक, ED ने जारी किया लुकआउट नोटिस

चिदंबरम देश से बाहर जाने पर रोक, ED ने जारी किया लुकआउट नोटिस

नई दिल्ली: पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम को सुप्रीम कोर्ट से तुरंत राहत नहीं मिली है. चिदंबरम ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल करके अंतरिम संरक्षण की मांग की थी. लेकिन कोर्ट ने कहा कि वो यह याचिका सीजेआई को भेज रहे हैं, वे ही तय करेंगे कि याचिका पर सुनवाई कब होगी? 

ED-CBI की तरफ से कैविएट दाखिल: 
सुप्रीम कोर्ट में ईडी और सीबीआई की तरफ से कैविएट दाखिल किया गया है कि अदालत उनकी दलील सुने बिना कोई फैसला ना सुनाए. कैविएट दाखिल करने का मकसद ये होता है कि अदालत सिर्फ याचिकाकर्ता की दलीलों को सुनकर किसी तरह का फैसला ना दे दे, बल्कि उनकी भी दलील सुने. इस दौरान ED-CBI अदालत को बताएंगी कि पी. चिदंबरम की गिरफ्तारी क्यों जरूरी है और उनकी जमानत याचिका क्यों रद्द होनी चाहिए.

देश के सभी एयरपोर्ट पर अलर्ट: 
वहीं देश के सभी एयरपोर्ट को पी. चिदंबरम पर जारी लुकआउट सर्कुलर की जानकारी दी गई है. अगर पी. चिदंबरम देश से बाहर जाने की कोशिश करते हैं, तो उन्हें इजाजत नहीं जाएगी. बता दें कि मंगलवार दोपहर से ही उनपर गिरफ्तारी की तलवार लटकी है और ईडी-सीबीआई उनके घर का चक्कर काट रही है. दिल्ली हाईकोर्ट से INX मीडिया केस में राहत ना मिलने के बाद से ही चिदंबरम गायब हैं, उनका फोन भी स्विच ऑफ है.

चिदंबरम के घर नोटिस चिपकाया: 
इससे पहले दिल्ली हाईकोर्ट से जमानत याचिका खारिज होने के बाद ईडी और सीबीआई की टीम पी. चिदंबरम के जोर बाग स्थित निवास पर पहुंची, लेकिन वह वहां नहीं मिले. इसके बाद सीबीआई और ईडी की टीमें खाली हाथ वापस लौट आईं. मंगलवार रात करीब 11:30 बजे के आसपास दोबारा सीबीआई की टीम उनके घर पहुंची और नोटिस चिपका दिया. इसमें उन्हें 2 घंटे में सीबीआई के समक्ष पेश होने के लिए कहा गया, लेकिन 2 घंटे बीत जाने के बाद भी वह सीबीआई के समक्ष पेश नहीं हुए. सीबीआई और ईडी की टीम लगातार उनकी तलाश में जुटी हुई है.

यह है मामला: 
दअसल, सीबीआई आईएनएक्स मीडिया मामले में चिदंबरम की भूमिका की जांच कर रही है. जांच एजेंसी ने यह मामला 15 मई, 2017 को दर्ज किया गया था. चिदंबरम पर आरोप है कि वित्तमंत्री रहने के दौरान उन्होंने 2007 में 305 करोड़ रुपये का विदेशी फंड प्राप्त करने के लिए आईएनएक्स मीडिया समूह को एफआईपीबी मंजूरी देने में अनियमितता बरती थी. ईडी ने काले धन को सफेद बनाने (मनी लॉन्डरिंग) को लेकर उनके ऊपर 2018 में मामला दर्ज किया था. उनके बेटे कार्ति चिदंबरम भी मामले में आरोपी हैं.


 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें
और पढ़ें

Stories You May be Interested in