वैक्सीनेशन को लेकर राजस्थान गवर्नमेंट का बड़ा फैसला, अब 18 वर्ष से ऊपर के सभी लोगों को मुफ्त में टीका लगाएगी गहलोत सरकार

वैक्सीनेशन को लेकर राजस्थान गवर्नमेंट का बड़ा फैसला, अब 18 वर्ष से ऊपर के सभी लोगों को मुफ्त में टीका लगाएगी गहलोत सरकार

वैक्सीनेशन को लेकर राजस्थान गवर्नमेंट का बड़ा फैसला, अब 18 वर्ष से ऊपर के सभी लोगों को मुफ्त में टीका लगाएगी गहलोत सरकार

जयपुर: कोरोना काल में राजस्थान सरकार (Government Of Rajasthan) ने एक बड़ा ऐलान किया है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश के सभी 18 वर्ष से ऊपर के लोगों को फ्री में टिका लगाने के निर्देश दिए है. पहले कहा जा रहा था की केंद्र सरकार पर दबाव बनाया जाएगा बाद में राजस्थान सरकार फैसला लेगी. ऐसे में CM गहलोत के संवेदनशील फैसले की प्रदेशभर में तारीफ़ हो रही है. 

3000 करोड़ रुपये की धनराशि खर्च कर निशुल्क कोविड वैक्सीन लगाने का फैसला किया: 
गहलोत ने ट्वीट करते हुए कहा है की यह बेहतर होता कि राज्य सरकारों की मांग के अनुसार भारत सरकार (Government Of India) 60 वर्ष एवं 45 वर्ष से अधिक आयुवर्ग की तरह ही 18 वर्ष से 45 वर्ष तक की आयु के युवाओं के वैक्सीनेशन का खर्च भी उठा लेती तो राज्यों का बजट डिस्टर्ब (Budget Disturb) नहीं होता. राजस्थान सरकार ने प्रदेश के 18 वर्ष से अधिक आयुवर्ग के सभी लोगों को लगभग 3000 करोड़ रुपये (3000 Crores) की धनराशि खर्च कर निशुल्क कोविड वैक्सीन लगाने का फैसला किया है.

 

वैक्सीनेशन प्रोग्राम का आज 100वां दिन:
देश में कोरोना के खिलाफ चल रहे वैक्सीनेशन प्रोग्राम (Vaccination Program) का आज 100वां दिन है. 16 जनवरी से 24 अप्रैल यानी 99 दिनों में 14 करोड़ 8 लाख 2 हजार से ज्यादा यानी देश की 10% आबादी को वैक्सीन की डोज दी जा चुकी है. इनमें 11 करोड़ 85 लाख लोग ऐसे हैं, जिन्हें एक डोज दी गई है. 2 करोड़ 22 लाख लोगों को दोनों डोज लग चुकी है. एक्सपर्ट्स के मुताबिक, कोरोना की तीसरी और फिर आगे कोई लहर न आए, इसके लिए देश की 70% आबादी को वैक्सीन लगाना जरूरी है.

एक मई से 18 से ऊपर वाले भी लगवा सकेंगे वैक्सीन:
अब तक हेल्थ केयर वर्कर्स (Health Care Workers), फ्रंट लाइन वर्कर्स (Front Line Workers), 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को और अन्य गंभीर बीमारियों से जूझ रहे लोगों को मुफ्त में वैक्सीन (Free Vaccin) लगाई जा रही थी. एक मई से केंद्र सरकार ने 18 साल से अधिक उम्र के लोगों को भी वैक्सीन लगवाने की मंजूरी मिल गई है. हालांकि, इस बार केंद्र सरकार ने फैसला लिया है कि ये 18 से 45 साल के बीच के लोग या तो प्राइवेट हॉस्पिटल में वैक्सीन लगवाएं या फिर राज्य सरकार की ओर से की जा रही व्यवस्था के तहत वैक्सीनेशन कराएं.  मतलब इन उम्र के लोगों को केंद्र सरकार की तरफ से फ्री वैक्सीन नहीं दी जाएगी. 

देश के 11 राज्यों ने पहले ही वैक्सीन फ्री का ऐलान किया: 
45 साल से अधिक उम्र के लोगों को पहले की तरह मुफ्त में वैक्सीन लगाना जारी रहेगा. ऐसे में 11 राज्यों (Eleven States) ने हर उम्र के लोगों को मुफ्त में वैक्सीन लगाने का ऐलान कर दिया है. आपको बता दे की इस से पूर्व देश के 11 राज्यों में फ्री वैक्सीन देने का ऐलान हो चूका है. फ्री वैक्सीन देने वाले राज्यों में  उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, बिहार, दिल्ली,  छत्तीसगढ़, पंजाब, केरल, असम, झारखण्ड, गोवा और सिक्किम है.  

परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने केंद्र पर लगाए भेदभाव के आरोप:
प्रदेश के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खचरियावास (Transport Minister Pratap Singh Khachariwas) ने वैक्सीन और ऑक्सीजन को लेकर केंद्र सरकार पर राजस्थान के साथ भेदभाव (Discrimination) करने के आरोप लगाए है. खाचरियावास ने कहा कि  केंद्र सरकार हमारे साथ सौतेला व्यवहार कर रही है. मंत्री ने कहा की केंद्र से अनुरोध है की वे हमसे पॉलिटिक्ल लड़ाई लडे किन्तु इसमें भेदभाव नहीं करे. केंद्र सरकार हमें पर्याप्त ऑक्सीजन (Enough Oxygen) नहीं दे रही है. जितना हमारा हक है उतना तो हमें देना चाहिए. राजस्थान में लोग बिना ऑक्सीजन के मर रहे है. उन्होंने कहा की पिछले कोरोना काल में ऑक्सीजन सहित सभी की जिम्मेदारी (The Responsibility) राज्य सरकारों के हाथ में थी इस लिए राजस्थान में किसी भी प्रकार की कोई अव्यवस्था नहीं हुई. उस काल में राजस्थान में पुरे विश्व में वाहवाही लूटी थी.  

और पढ़ें