जयपुर कोरोना प्रबंधन को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की बैठक, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने दिए सुझाव

कोरोना प्रबंधन को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की बैठक, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने दिए सुझाव

कोरोना प्रबंधन को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की बैठक, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने दिए सुझाव

जयपुर: भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने वर्चुअल संवाद में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को कोरोना प्रबंधन से संबंधित विभिन्न सुझाव दिये. डॉ. सतीश पूनियां ने कहा कि, इस समय मनोवैज्ञानिक वातावरण थोड़ा भय का है, लोग जांच से भी डरते हैं, अस्पताल जाने से भी डरते हैं. सामान्य जागरूकता को दोबारा से दोहराने की आवश्यकता, सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क एवं सैनेटाइजर के उपयोग के लिये जागरुकता अभियान चलाने की भी आवश्यकता है. उन्होंने कहा कि जिस तरह से युद्धस्तर पर जनप्रतिनिधि लोगों के बीच में सैनेटाइजर मशीनों के माध्यम से भरोसा पैदा कर रहे थे.

टेस्टिंग एवं जागरूकता के लिए स्वयंसेवी संगठनों का लेना चाहिए सहयोग:
अब मुझे लगता है कि जागरूकता के लिये स्वयंसेवी संगठनों को इसमें शामिल करना चाहिए. जैसे मुम्बई के धाराबी जैसी बड़ी बस्ती में स्वयंसेवी संगठनों ने टेस्टिंग की, जिसके अच्छे परिणाम सामने आये, सरकार एवं भामाशाहों ने पीपीई किट उपलब्ध करवाये, जिससे टेस्टिंग बढ़ी और संक्रमण को रोकने में कामयाबी मिली. डॉ. पूनियां ने कहा कि, लोगों पर कोरोना का मनोवैज्ञानिक असर कम कैसे हो, इसका प्रचार-प्रसार कैसे किया जाये, यह बहुत जरूरी है, दूसरा जो परिधि के अस्पताल हैं, आस-पास की सीएचसी, बड़े अस्पताल हैं, बड़े डिवीजनल हेडक्वाटर्स हैं, सामान्य बीमारी के लोग भी वहां उपचार करा सकें, इस व्यवस्था को सुदृढ़ करने पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि, होम आइसोलेशन व्यवस्था को व्यवस्थित करने पर राज्य सरकार को ध्यान देने की जरूरत है.

कोरोना वॉरियर्स ने की पूरी लगन एवं जज्बे के साथ लोगों की सेवा: 
डॉ. पूनियां ने कहा कि, निजी अस्पतालों में आमजन के इलाज को सुगम बनाने को लेकर सुझाव दिए कि, निजी अस्पतालों की अपनी समस्या है और मरीजों की अपनी समस्या है, इसलिए दोनों की समुचित व्यवस्था हो, कोई समाधान निकले, अस्पतालों की सुरक्षा सुनिश्चित हो, पिछली योजनाओं की बकाया राशि का भुगतान हो.  डॉ. पूनियां ने कहा कि, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पिछले दिनों सात राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ जो संवाद किया, उसमें मुख्यमंत्रियों से निवेदन किया था कि उपखण्ड स्तर से संबंधित टीमों की स्वयं मुख्यमंत्री नियमित मॉनिटरिंग करें, उनका मनोबल बढाया जाएगा तो सही रिपोर्ट मिलेगी. डॉ. पूनियां ने कहा कि, एचआरसीटी की सरकारी एवं निजी अस्पतालों की दरों में भारी अंतर है, इस पर कोई उचित कदम उठाएं. उन्होंने कोरोना वॉरियर्स को बहुत धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि इन्होंने कोरोना काल में पूरी लगन एवं जज्बे के साथ लोगों की सेवा की, उनका मनोबल एवं सुविधायें बढ़ाने को लेकर राज्य सरकार प्रयास करे.

..फर्स्ट इंडिया के लिए ऐश्वर्य प्रधान की रिपोर्ट

और पढ़ें