जयपुर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बोले, कानून-व्यवस्था को चुनौती देने वाले अपराधियों पर कड़ी कार्रवाई करें

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बोले, कानून-व्यवस्था को चुनौती देने वाले अपराधियों पर कड़ी कार्रवाई करें

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बोले, कानून-व्यवस्था को चुनौती देने वाले अपराधियों पर कड़ी कार्रवाई करें

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंगलवार को पुलिस के आला अधिकारियों से कहा कि राज्य में आंतरिक सुरक्षा के समक्ष चुनौती उत्पन्न करने वाले अपराधियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए. उन्होंने कहा कि सीमावर्ती जिलों में विशेष सतर्कता व चौकसी बरती जाए. गहलोत ने मंगलवार शाम को गृह विभाग के साथ बैठक में आन्तरिक सुरक्षा से जुड़े विभिन्न विषयों की समीक्षा करते हुए यह निर्देश दिए. गहलोत ने कहा कि अपराध के खिलाफ राज्य सरकार की नीति जीरो टॉलरेंस की रही है.

उन्होंने पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि राज्य में आंतरिक सुरक्षा के समक्ष चुनौती उत्पन्न करने वाले अपराधियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए और सीमावर्ती जिलों में विशेष सतर्कता बरती जाए.बैठक के बाद जारी आधिकारिक बयान के अनुसार गहलोत ने सीमावर्ती जिलों में कानून-व्यवस्था की स्थिति, मादक पदार्थों, जाली नोट, हथियारों आदि की तस्करी रोकने सहित अन्य गैर-कानूनी गतिविधियों पर सख्ती से अंकुश लगाने के निर्देश दिए.

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश की भौगोलिक स्थिति सामरिक दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण है. हमारे बड़े भू-भाग से भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा गुजरती है. पिछले कुछ सालों में सीमावर्ती जिलों में क्रूड आयल निकलने, रिफाइनरी, सोलर पावर प्लांट तथा विंड एनर्जी इकाइयों की स्थापना के कारण औद्योगिक एवं वाणिज्यिक गतिविधियां काफी बढ़ी हैं. बेहतर सड़क, रेल एवं हवाई कनेक्टिविटी के कारण यहां लोगों का आवागमन भी बढ़ा है. इसके चलते इस क्षेत्र में विशेष निगाह रखे जाने की आवश्यकता है. उन्होंने कहा कि आपराधिक घटनाओं का असर विकास गतिविधियों पर पड़ता है.

नागरिक प्रशासन और पुलिस के अधिकारी सेना व बीएसएफ के साथ सतत सम्पर्क एवं समन्वय बनाए रखकर सूचनाओं का नियमित आदान-प्रदान करें. गहलोत ने छोटी-छोटी घटनाओं को लेकर विरोध स्वरूप रास्ता रोकने तथा इस कारण कानून-व्यवस्था को प्रभावित करने की घटनाओं पर चिंता व्यक्त की और भविष्य में इन पर पूर्ण सतर्कता बरतने के निर्देश दिए. बैठक में गृह राज्यमंत्री राजेन्द्र सिंह यादव, मुख्य सचिव उषा शर्मा, अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह अभय कुमार, पुलिस महानिदेशक एम.एल. लाठर भी मौजूद थे.(भाषा) 

और पढ़ें