जयपुर VIDEO: मुख्यमंत्री गहलोत बोले, फिलहाल पूरी तरह के लॉकडाउन का विचार नहीं,लेकिन लोगों को सावधानी बरतने की जरूरत 

VIDEO: मुख्यमंत्री गहलोत बोले, फिलहाल पूरी तरह के लॉकडाउन का विचार नहीं,लेकिन लोगों को सावधानी बरतने की जरूरत 

VIDEO:  मुख्यमंत्री गहलोत बोले,  फिलहाल पूरी तरह के लॉकडाउन का विचार नहीं,लेकिन लोगों को सावधानी बरतने की जरूरत 

जयपुर: राजस्थान में फिलहाल पूरी तरह के लॉकडाउन का विचार नहीं है, लेकिन लोगों को सावधानी बरतने की जरूरत है. ये बात मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कही. सीएम गहलोत आज पीसीसी में प्रेसवार्ता को संबोधित कर रहे थे, तब लॉकडाउन के सवाल पर मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि प्रदेश में लॉकडाउन नहीं लगाया जाएगा, लेकिन लोगों को सावधानी बरतने की जरूरत है. सीएम गहलोत ने कहा कि लोगों में अभी भी जागरूकता की जरूरत है. प्रदेशवासी कोरोना गाइडलाइन की पालना करें. कोरोना के बढ़ते केसों को लेकर सरकार गंभीर है. पीसीसी में सीएम गहलोत ने कहा कि कोविड में सबसे ज्यादा मदद की पीड़ितों की. मृतक आश्रितों को मदद की. मदद करने में राजस्थान सरकार अग्रणी रही. कोविड से अनाथ हुए बच्चों की हमने मदद की. अगर कोई मदद से छूटा है तो हम जांच कराएंगें. 

सीएम गहलोत ने कहा कि पीएम की रैली में लोग नहीं जुटे. बरसात के कारण लोग नहीं आए. जब लोग नहीं थे तब पीएम को ग्रेसफुली अपना कार्यक्रम रद्द करना था. ये सब क्यों हुआ इसकी जांच होनी चाहिए. गहलोत ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी धर्म के नाम पर चुनाव जीत रही है. आप कब तक ऐसे राजनीति करोगे? कब तक चलेगा ऐसा? माहौल बनाने की आवश्यकता नहीं थी. पंजाब के सीएम का तो पूरे देश में वेलकम हो रहा.एक दलित वर्ग का व्यक्ति सीएम बना.सीएम गहलोत ने कहा कि पीएम के कॉमेंट की बात तो वो ही जाने लेकिन उन्हें कॉमेंट नहीं करना था. उनकी सुरक्षा में IB और SPG की बड़ी जिम्मेदारी थी.इस घटना को लेकर कांग्रेस को लपेटना अनुचित है. हमारे ब्लड में तो अहिंसा की भावना है. आरएसएस की भावना में हिंसा है.

 

गहलोत ने कहा कि पीएम का प्लेन भटिंडा उतरा. मौसम खराब होने के बाद अचानक सड़क मार्ग से जाने का प्लान बना. इंदिरा गांधी की हत्या के बाद पीएम सुरक्षा को लेकर एक्ट बदले थे. पीएम सिक्योरिटी ही रूट को तय करती है. उन्होंने कहा कि कल से जो माहौल बनाया गया वो दुर्भाग्यपूर्ण है. पीएम देश का पीएम होता है,वो किसी पार्टी का नहीं होता. सीएम गहलोत ने कहा कि ऐसे वक्त में राजनीति करो ये ठीक नहीं है. कांग्रेस से भला कौन समझ सकता है पीएम के खतरे को. इंदिरा गांधी और राजीव गांधी शहीद हो गए. पंजाब के सीएम बेअंत सिंह शहीद हो गए थे. कांग्रेस पर झूठा आरोप नहीं लगाना चाहिए.

इस मौके पर पीसीसी चीफ डोटासरा ने कहा कि पीएम की रैली असफल हो गई थी. इसलिए सुरक्षा में चूक का मसला उठाया गया. पीसीसी चीफ डोटासरा ने कहा कि जब बिना देश को सूचना दिए पीएम बिरयानी खाने पाक चले जाते हैं. तब खतरे की बात नहीं दिखी. पंजाब का सीएम भला व्यक्ति है. ऐसे दलित वर्ग के व्यक्ति पर लांछन लगाना ठीक नहीं. ये प्रधानमंत्री पद पर बैठे व्यक्ति को शोभा नहीं देता. 

डोटासरा ने कहा कि मुद्दा आप सबको पता है, किसानों के साथ केंद्र ने अत्याचार किया. तीन काले कानून लादने का काम किया. बिना संसद में चर्चा किए कानून वापस लिए.  प्रधानमंत्री नया षड्यंत्र करके झूठे राष्ट्रवाद पर चुनाव लड़ना चाहते. डोटासरा ने कहा कि पीएम की सुरक्षा की जिम्मेदारी केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधीन थी. बकायदा स्टेट कैबिनेट मंत्री गए. सीएम ने भी पूछा मेरे आने की जरूरत है या नहीं. क्योंकि मेरे साथी कोरोना पॉजिटिव आए हुए हैं. पीएम पर कोई हमला नहीं हुआ.

और पढ़ें