वैभव के 'वैभव' को बढ़ाने में लगे हुए हैं मुख्यमंत्री : राजेन्द्र राठौड़

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/04/14 04:48

चूरू। विधानसभा उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने आज चूरू जिलामुख्यालय स्थित आवास पर प्रेस कांफ्रेस कर प्रदेश की कांग्रेस सरकार पर जमकर हमला बोला। प्रेसवार्ता में राठौड़ ने प्रदेश की बिगडी आर्थिक हालत, चरमरायी कानून व्यवस्था, सर्मथन मुल्य पर फसल की खरीद सहित पानी और बिजली के मुद्दे पर सरकार को घेरा। राठौड़ ने मुख्यमंत्री पर प्रदेश की जनता की अनदेखी का आरोप लगाते हुए कहा कि पुत्र मोह में जकड़े सीएम, वैभव के 'वैभव' को बढाने में लगे हुए हैं। 

राठौड़ ने कहा कि पायलट सहित आधी सरकार दिल्ली दरबार में बैठी रहती है। राठौड़ ने सरकार की नाकामियां गिनाते हुए कहा कि साल 2009 के बाद ऐसा पहली बार हुआ है जब प्रदेश के साढे छ: लाख कर्मचारियों के समर्पित अवकाश के बिलों का भुगतान जानबुझकर रोका गया है। इस राशि का उपयोग अन्यत्र किया। उन्होने आरोप लगाया कि इसी तरह सार्वजनिक निर्माण विभाग के ठेकेदारों का तीन हजार करोड रूपये का भुगतान रोककर सरकार ने ठेकेदारों को सड़क पर लाने का काम किया है। 

किसानों की तरफदारी करते हुए राठौड़ ने कहा कि चना और सरसों की खरीद के लिये केन्द्र सरकार ने 4200 रूपये मुल्य निर्धारित किया है, लेकिन राज्य सरकार की नाकामी के चलते किसान को सड़क पर आकर 3800 रूपये में चना व सरसों बेचने को मजबुर होना पड रहा है। यहां तक कि सरकार ने किसानों के बारदानों तक की व्यवस्था नहीं की है। पूरे प्रदेश में नगरीय विकास के सारे काम ठप्प पड़े हैं तथा नगरीय योजनाओं का पैसा अन्य योजनाओं में खर्चे कर सरकार विकास को पलीता लगाने में लगी हुई है। 

उन्होने प्रदेश में कानून व्यवस्था पर सवालिया निशान लगाते हुए कहा कि प्रदेश की कानून व्यवस्था चरमरा गई है। धौलपुर में एसपी पर बजरी माफियाओं का हमला इस बात साबित करता है कि प्रदेश में सरकार का इकबाल चरमरा गया है। चूरू जिले में भी आये दिन गोली काण्ड हो रहे हैं। उन्होने कहा कि सरकार संवेदनशीलता के साथ किसी की बात तक सुनने को तैयार नहीं है इसका जवाब जनता वोट की चोट से देगी।      

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in