डिजिटल बाल मेला 2021 से बच्चों को मिल रही है नई मंजिल, हर रोज 4 बजे होता है सवालों का मंथन

डिजिटल बाल मेला 2021 से बच्चों को मिल रही है नई मंजिल, हर रोज 4 बजे होता है सवालों का मंथन

डिजिटल बाल मेला 2021 से बच्चों को मिल रही है नई मंजिल, हर रोज 4 बजे होता है सवालों का मंथन

जयपुर: कोरोना महामारी के दौर में बच्चों की नायाब प्रतिभा को मंच देने के लिए फ्यूचर सोसायटी और एलआईसी की ओर से प्रायोजित डिजिटल बाल मेला के सीजन—2 का आगाज के साथ ही बच्चों की सरकार कैसी हो में बच्चों का सफर शुरू हो चुका है. डिजिटल बाल मेला 2021 के जरिए अपनी नई मंजिल पाने वाले बच्चे हर रोज एक अलग विषय पर चर्चा करते हैं. अपनी सरकार बनाने के लिए जिज्ञासु बच्चे हर दिन इस प्लेटफॉर्म पर राजनेताओं संग अपने सवालों की बौछार करते है. गौरतलब है कि इस सीजन में बच्चों को देश के राजनेताओं संग लाइव रूबरू होने का भी सुनहरा मौका मिल रहा है. जिसमें काफी बड़ी तादाद में बच्चे भाग ले रहे है. हर दिन सैकड़ों की संख्या में बच्चे राजनेताओं से मुलाकात करते है उनके सामने अपनी परेशानी रखते है तो वही उनसे सवाल—जवाब करते है.

आपको बता दें कि अपनी सरकार बनाने के लिए उत्साहित बच्चे जोरों शोरो से अपनी एंट्रीज भेज रहे है. जिसमें पहली कुछ एंट्रीज में बच्चों ने बताया कि उन्हें अपनी सरकार कैसी चाहिए. अपनी सरकार के योजनाओं से पूरी तरह सहमति ना रखने वाले इन बच्चों ने ये भी बताया कि अगर वो किसी मंत्री पद पर होते तो क्या व्यवस्थाएं, क्या नियम, कानून लेकर आते. इस सिलसिले में बच्चों ने प्रधानमंत्री बनने के लिए भी अपनी इच्छा जाहिर की. जी हां इस मंच पर आई कुशलगढ़ की माही जैन ने कहा कि वो भविष्य मे प्रधानमंत्री बनना चाहती है. इतना ही नहीं इस सीट पर आकर माही देश से आरक्षण को पूरी तरह मिटाना चाहती है. माही ने कहा कि आरक्षण के कारण देश के विकास में काफी गहरा प्रभाव पड़ रहा है जिसे मिटाना बहुत जरूरी हैै ऐसे में मा​ही एक प्रधानमंत्री बनकर इस देश से आरक्षण का खातमा करना चाहती है. बता दें माही जैन की उम्र 16 है इतनी कम उम्र में उनकी ये सोच वाकई में तारीफें लायक है.

अपनी एंट्रीज में जहां एक ओर बच्चें अपनी सरकार बनाने के सुझाव भेज रहे है तो वही शाम को राजनेताओं संग सीधे संवाद में भी उन्होंने अपनी सरकार को सलाह देना शुरू कर दिया है. जी हां आपका बता दे कि बीते कल 17 जून को मनोज मेघवाल के सेशन में ऐसी कई चीजें हुई जिससे साफ तौर पर पता चलता है कि बच्चे अपनी सरकार बनाने को सीरियली ले रहे है.ऐसे में इस संवाद में उन्होंने विधायक से पूछा कि बच्चों के वैक्सीनेशन में इतनी देरी क्यों हो रही है जबकि और देशों में बच्चों को वैक्सीन लगनी भी शुरू हो गई है. इसके अलावा जयपुर की लावण्या राठौड़ ने विधायक से सरकार और प्राइवेट स्कूलों की महत्वता पर सवाल किया.

सरकारी और प्राइवेट स्कूलों में अंतर देख रहे इन बच्चों के इन सवालों से जाहिर है कि वो अपनी शिक्षा नीति में सुधार लाना चाहते है.सरकार द्वारा किये जा रहे कार्यों से वो पूरी तरह सहमति नहीं रखते है. ऐसे में बच्चों को अपने देश या अपने भविष्य के लिए जिस प्रकार की नीतियां, योजनाएं चाहिए बच्चे उसे खुले तौर पर राजनेताओं संग साझा कर रहे है ओैर इतना ही नहीं उनके द्वारा किये जा रहे कार्यो का भी आकलन कर रहे है भविष्य में सरकार की नीतियों को जानने के लिए उत्सुक बच्चे अब किसी भी प्रकार का समझौता नहीं करना चाहते है. ऐसे में देखा जा सकता है कि बच्चे अपनी सरकार कैसी चाहते है. वो अपनी सरकार में किस प्रकार से एक देश का भविष्य चाहते है.

वहीं जब इस सेशन में विधायक मनोज मेघवाल देरी से आये तो जाहनवी शर्मा ने उनसे देरी होने पर सवाल किया जिससे जाहिर है कि बच्चे अपनी सरकार में चाहे कोई मंत्री हो या विधायक लापरवाही को बिल्कुल भी जगह नहीं देंगे.

शाम 4 बजे बच्चों के सवालों से घिरते है राजनेता:
हर रोज डिजिटल बाल मेला 2021 में गूगल मीट पर बच्चे राजनेताओं संग सीधा संवाद करते है. इस दौरान बच्चे जहां तय विषय पर बात करते है तो वही उनसे अपनी सरकार बनाने के सुझाव भी लेते है. प्रतिभाशाली बच्चे इस मंच पर राजनेताओं के सामने अपने सवालों की बौछार करते है उनसे उनके द्वारा बनाई गई योजनाओं का आकलन करवाते है. भविष्य में सरकार द्वारा बनाए जाने वाले नियमों पर सवाल करते है. बालमन में आई अद्धभूत सोच हैै. जिससे साफ तौर पर देखा जा सकता है कि वो अपने देश के विकास के प्रति कितने सजग है. इस मंच पर अपनी हर विडंबना को समाप्त करने आए बच्चे राजनेताओं से अपने मन की बात करते है. ऐसे में हर शाम 4 बजे बच्चे राजनेताओं संग अपने सवालों का मंथन करते है.

देश के किसी भी हिस्से से'डिजिटल बाल मेला सीजन2' से जुड़ने के लिए बच्चें इस   https://meet.google.com/ysn-pfjh-shh. गूगल लिंक पर क्लिक करें. इस लिंक के जरिए बच्चे हर दिन होने वाले सेशन में शामिल हो सकते है और मंत्रियों से अपने मन की बात कर सकते है.तो वही 'डिजिटल बाल मेला सीजन2' में 'बच्चों की सरकार कैसी हो' की किसी भी प्रतियोगिता-रजिस्ट्रेशन, अवार्ड या मेले से संबंधित अन्य जानकारी के लिए आप मेले की आधिकारिक वेबसाइट, व्हाट्सऐप, फेसबुक पेज, इंस्टाग्राम पर संपर्क कर सकते हैं. 

और पढ़ें