जयपुर बोलने की कला से कैसे मिलेगी सफलता? बताएंगे रेडियो सरताज आरजे कार्तिक, ​Digital Baal Mela मंच पर आज शाम 4 बजे बच्चे जानेंगे शब्दों की अहमियत

बोलने की कला से कैसे मिलेगी सफलता? बताएंगे रेडियो सरताज आरजे कार्तिक, ​Digital Baal Mela मंच पर आज शाम 4 बजे बच्चे जानेंगे शब्दों की अहमियत

बोलने की कला से कैसे मिलेगी सफलता? बताएंगे रेडियो सरताज आरजे कार्तिक, ​Digital Baal Mela मंच पर आज शाम 4 बजे बच्चे जानेंगे शब्दों की अहमियत

जयपुर: बोलने की कला!! एक ​व्यक्ति में अच्छे वक्ता होने का गुण उसकी सफलता को दुगनी कर देता है.ना सिर्फ राजनीति बल्कि ये आपकी पेशेवर जिंदगी में भी चार चांद लगा देता हैै. ऐसे मेें शब्दों की अहमियत जानना बेहद जरूरी है. इसी सिलसिले में बाल राजनीति में कदम रखने जा रहे बच्चों का एक अच्छा वक्ता, सार्वजनिक मंच पर अपनी बात रखने का हौसला होना बेहद जरूरी है.बच्चों की इसी कला को निखारने अब डिजिटल बाल मेला के मंच पर आ रहे है एफएम के सरताज आरजे कार्तिक. जी हां फ्यूचर सोसाइटी और एलआईसी द्वारा प्रायोजित देश का पहला रचनात्मक मंच डिजिटल बाल मेला 2021 सीजन 2 में आज बच्चे आरजे कार्तिक से संवाद कर बोलने की कला के साथ ही शब्दों की अहमियत को समझेंगे.

इन दिनों जहां हर दिन बच्चों को राजनीति का पाठ पढ़ाया जा रहा है वहां बच्चों के लिए ये जानना बेहद जरूरी है कि उन्हें राजनीति में आकर किस तरह लोगों को अपनी बातों से प्रभावित करना है. किस तरह अपने सुझावों को पेश करना है किस तरह जनता के हितों के लिए आवाज उठानी है. किस तरह अपने भाषण को आक​र्षित बनाना है. ये सभी चीजें राजनीति में होना जरूरी है जो बच्चों को एक अच्छा वक्ता होने के गुणों से मिलती है.

बाल राजनीति में कदम रखने जा रहे बच्चों को 14 नवंबर बाल दिवस के मौके पर राजस्थान विधानसभा में देश को संबोधित करने का सबसे बड़ा मौका मिल रहा है. जिसके लिए बच्चों को अभी से तैयार करने की कवायद शुरू हो चुकी है. एक तरफ वो राजनीति को करीब से जान रहे है तो वही दूसरी तरफ बच्चों के कौशल विकास को भी विकसित करने का सुनहरा अवसर दिया जा रहा है. जिसके लिए आरजे कार्तिक बच्चों से लाइव सेशन करेंगे और बच्चों के मनोबल को बढ़ाते हुए उन्हें ​हर किसी से डील करने के टिप्स देेंगे, राजनेता हो या कोई भी हस्ती अपनी बातों से कैसे प्रभावित किया जाता है ये कार्तिक इस मंच के जरिये बच्चों को बताएंगे.

एफएम सरताज आरजे कार्तिक का परिचय:
'​कर दिखाओं कुछ ऐसा कि दुनिया करना चाहे आपके जैसा' ये पंक्ति तो आपने सुनी ही होगी. सप्ताह के पहले दिन सोमवार को अपनी इन पंक्तियों से लोगों के मन में उल्लास भरने वाले कोई और नहीं एफएम के सरताज आरजे कार्तिक है. जिनकी आवाज, जिनके शब्द, जिनकी हर एक कहानी की दुनिया मिसाल देती है. जयपुर राजस्थान के जन्में आरजे कार्तिक एक मशहूर रेडियो होस्ट, YouTuber और कहानीकार है. जिन्होने अपने बोलने की कला से पूरी दुनिया को दीवाना बना दिया है. उनकी आवाज का जादू इस कुछ ऐसा है कि बच्चे-बच्चे से लेकर हर उम्र के लोग उनकी बातों को दिल से सुनते है.

सोशल ​मीडिया के हीरो आरजे कार्तिक की पहचान सिर्फ भारत देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी उनका रूतबा कायम है.सर्वश्रेष्ठ रेडियो कार्यक्रम के लिए कई आईआरएफ पुरस्कार जीते चुके आरजे कार्तिक को सुनने के लिए लोग हर समय इंतजार करते है. उनकी प्रेरक कहानियां इतनी प्रचलित है कि बीमारी व्यक्ति भी बिस्तर से उठ जाता है तो वही हर रोज रोते हुए स्कूल जाने वाला बच्चा संडे को भी स्कूल जाने की जिद करने लगता है.

ये आरजे कार्तिक की ही बातों का कमाल है जिससे लोग इतने प्रभावित होते है. वे हर रोज लोगों का ​हौसला बनाने और हिम्मत ना हारने की ओर प्रेरित करते है. उनकी कहानियों के किस्से देशभर में सुर्खियों बटौरते है. आलम ये है कि लोग जिस दिन आरजे कार्तिक को नहीं सुनते उनका दिन अधूरा रह जाता है. अब अपनी इसी खुबी को बच्चों के साथ शेयर करने के लिए आरजे कार्तिक डिजिटल बाल मेला के मंच पर आ रहे है. 

जहां वो बच्चों को अच्छा वक्ता बनने के साथ ही उनके व्यवहार पर भी बात करेंगे. तो वही किस तरह अपनी मीठी बोली से लोगों का दिल जीता जाता है के गुर भी बच्चों को सिखाएंगे.ये संवाद बच्चों के लिए बेहद खास होने वाला है जिन्हें वो आजतक रेडियो, फेसबुक, इंस्टा या टवीटर पर सुनते थे अब बच्चे उनसे लाइव बात कर करेंगे और अपने मन की हर बात का जिक्र आरजे कार्तिक के सामने कर सकते है..

आज शाम 4 बजे आरजे कार्तिक से जुड़ेंगे बच्चे, गूगल मीट पर होगा संवाद:
Digital Baal Mela के मंच पर आज बच्चे शाम 4 बजे आरजे कार्तिक से लाइव संवाद कर सकते है. ये संवाद डिजिटल बाल मेला के गूगल मीट https://meet.google.com/ysn-pfjh-shh पर आयोजित किया जाएगा. जिसमें देशभर के बच्चे जुड़कर कार्तिक से अच्छा वक्ता बनने के टिप्स ले सकते है तो वही अपनी बातों से कैसे प्रभावित किया जाता है के गुण सीख सकते है. इस बीच बच्चे कार्तिक से कोई भी सवाल भी कर सकते है तो वही अपने मन की बातों को आरजे कार्तिक के सामने जाहिर कर सकते है.

डिजिटल बाल मेला लाया है बच्चों के लिए नई सौगात: 
15 जून को शुरू हुआ  ​Digital Baal Mela  2021 सीजन की थीम 'बच्चों की सरकार कैसी हो' है. ऐसे में इस सीजन के हर एक पहलू में बच्चों को राजनीतिक, सामाजिक, सरकार के हर एक पहलू से परिचित कराया जाएगा. आपको पता हो तो सरकार द्वारा की जाने वाली सभी गतिविधियां विधानसभा में पारित की जाती है. जिसके लिए बाल राजनीति में शामिल होने जा रहे बच्चों को विधानसभा जाना और वहां कि गतिविधियों, कार्यप्रणाली को करीब से समझना आवश्यक है. ऐसे में बाल राजनीति में अपना महत्वपूर्ण योगदान देने जा रहे बच्चों को अपनी सरकार बनाने के लिए देश में पहली बार किसी मंच के सहयोग से विधानसभा जाने का मौका मिलेगा. खास बात ये है कि ये मंच देशभर के बच्चों के लिए आयोजित किया गया है. देशभर के बच्चे इसमें भाग ले सकते है. और डिजिटल बाल मेला 2021 में बनने जा रहे इस इतिहास में अपना नाम कर सकते है.

डिजिटल बाल मेला की वेबसाइड के साथ अब बच्चे व्हॉटसप पर भी भेज सकते है अपनी एंट्री: 
'डिजिटल बाल मेला सीजन2' में #BacchoKiSarkaarKaisiHo की किसी भी प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए बच्चों को अपना रजिस्ट्रेशन कराना होगा जिसके लिए बच्चे रजिस्ट्रेशन के लिए वेबसाइड www.digitalbaalmela.com के साथ ही डिजिटल बाल मेला के व्हॉटसप नंबर 8005915026 पर भी अपनी एंट्री भेज सकते है.

और पढ़ें