उदयपुर चिंतन शिविर: बैठकों को लेकर कांग्रेस का गोपनीयता पर जोर

चिंतन शिविर: बैठकों को लेकर कांग्रेस का गोपनीयता पर जोर

चिंतन शिविर: बैठकों को लेकर कांग्रेस का गोपनीयता पर जोर

उदयपुर: कांग्रेस ने अपनी महत्वपूर्ण बैठकों के भीतर की सूचनाएं कई बार लीक होने के अतीत के अनुभवों के मद्देनजर चिंतन शिविर में अलग अलग विषयों पर हो रही बैठकों को लेकर गोपनीयता पर जोर दिया है. पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के संबोधन के बाद चिंतन शिविर की शुरुआत हुई. इस चिंतन शिविर में राजनीति, सामाजिक न्याय एवं सशक्तीकरण, अर्थव्यवस्था, संगठन, किसान एवं कृषि तथा युवाओं से जुड़े विषयों पर छह अलग-अलग समूहों में 430 नेता चर्चा कर रहे हैं.

इन समूहों की बैठकों की गोपनीयता रखने के मद्देनजर ही इसमें शामिल नेताओं को मोबाइल फोन अंदर ले जाने की अनुमति नहीं दी गई है. बैठकों के आरंभ होने से पहले कांग्रेस महासचिव अजय माकन ने कहा कि इन बैठकों में शामिल होने पर नेताओं से कहा कि मोबाइल फोन बाहर रखने के लिए लॉकर की व्यवस्था की गई है, ऐसे में सभी अपने मोबाइल वहां रखें. उन्होंने कहा कि बैठक स्थलों पर डेलीगेट के अलावा कोई और मौजूद नहीं रहेगा.

कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि अतीत के कुछ अनुभवों को देखते हुए इन बैठकों में गोपनीयता पर जोर दिया गया है. सूत्रों के अनुसार, पिछले दिनों कांग्रेस कार्य समिति की बैठक में सोनिया गांधी ने भी इस बात का उल्लेख किया कि इन बैठकों में जो बातें होती हैं वो सब बाहर चली जाती हैं. बैठकों को लेकर गोपनीयता रखने के संदर्भ में कांग्रेस के एक नेता ने कहा कि पार्टी की कोशिश है कि बैठकों के दौरान बातें लीक नहीं हों. इन बैठकों की महत्वपूर्ण बातों और इनमें जो भी निष्कर्ष निकलेगा, उस बारे में मीडिया के माध्यम से सभी लोगों को अवगत कराया जाएगा.

चिंतन शिविर के लिए राजस्थान के उदयपुर में जमा हुए कांग्रेस के 400 से अधिक नेता मुख्य रूप से शहर के तीन अलग होटलों में ठहरे हैं. कांग्रेस के नवसंकल्प चिंतन शिविर के प्रबंधन से जुड़े लोगों का कहना है कि पार्टी नेताओं एवं मीडियाकर्मियों के लिए चार होटल ताज अरावली, अनंता, रेडिसन ब्लू और रॉयल रिट्रीट बुक किए गए हैं. इसके अलावा भी शहर के कुछ छोटे होटल बुक किए गए हैं.

सूत्रों के मुताबिक, ताज अरावली होटल में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ठहरे हैं. इसके साथ ही, इस होटल में के.सी. वेणुगोपाल, शशि थरूर, मुकुल वासनिक, मल्लिकार्जुन खडग़़े, सचिन पायलट हरीश रावत, सचिन पायलट, अधीर रंजन चौधरी, दिग्विजय सिंह, जयराम रमेश तथा कई नेता ठहरे हुए हैं. वहीं, दिल्ली से आए पत्रकारों को रॉयल रिट्रीट में ठहराया गया है. भारतीय युवा कांग्रेस, एनएसयूआई के पदाधिकारियों और कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिवों को रेडिसन ब्लू में ठहराया गया है. कांग्रेस के चिंतन शिविर का मुख्य स्थल ताल अरावली के निकट है. इस मुख्य स्थल से कुछ दूरी पर मीडिया के काम करने के लिए अलग स्थान बनाया गया है.(भाषा) 

और पढ़ें