लंबे समय से बीमार बंगाल टाइगर 'बी-2' ने ली आखिरी सांस, कंकाल का कराया जाएगा परीक्षण

लंबे समय से बीमार बंगाल टाइगर 'बी-2' ने ली आखिरी सांस, कंकाल का कराया जाएगा परीक्षण

लंबे समय से बीमार  बंगाल टाइगर 'बी-2'  ने ली आखिरी सांस, कंकाल का कराया जाएगा परीक्षण

नई दिल्लीः  हाल हीं में दिल्ली के एक चिड़ियाघर में  15 साल के बंगाल टाइगर का निधन हो गया है. बताया जा रहा है कि बंगाल टाइगर का नाम बी-2 था और वह लंबे समय से बीमार था. चिड़ियाघर के निदेशक रमेश पांडेय ने बताया कि 'बी-2' नाम के इस बाघ की कुछ महीनों से तबियत खराब थी. जिसके बाद आज सुबह सवा नौ बजे उसकी मौत हो गई है. 

पांडे ने कहा कि 'बी-2' को 2014 में भोपाल के वन विहार चिड़ियाघर से लाया गया था. उसने अपना औसत जीवन काल पूरा कर लिया था. बंगाल टाइगर की उम्र औसतन आठ से 10 साल होती है और अधिकतम उम्र लगभग 15 वर्ष होती है. उन्होंने कहा कि भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान, बरेली के विशेषज्ञों के परामर्श से जानवर को सर्वोत्तम संभव उपचार दिया गया. 

पांडे ने मामले की जानकारी देते हुए कहा है कि पशु चिकित्सकों के एक पैनल द्वारा कंकाल का परीक्षण किया जाएगा और उसके बाद उसे हिस्टो-पैथोलॉजिकल और अन्य परीक्षाओं के लिए आईवीआरआई भेजा जाएगा ताकि मौत के कारणों का पता लगाया जा सके. दिल्ली चिड़ियाघर में एक साल पहले तक तीन रॉयल बंगाल टाइगर थे. फिलहाल मामले की जांच बारिकी से की जा रही है. (सोर्स-भाषा)

और पढ़ें