Live News »

शहर की बदहाली पर नगर परिषद आयुक्त का किया घेराव, हुआ हंगामा
शहर की बदहाली पर नगर परिषद आयुक्त का किया घेराव, हुआ हंगामा

जैसलमेर: विश्वविख्यात स्वर्णनगरी ने बहुत कुछ दिया है. जैसलमेर की साख यहां के स्थापत्य कला व सौंदर्य ने बनाई है और अब पर्यटन से जुड़ी कुछ समस्याओं की वजह से जैसलमेर की साख गिर रही है. इसी साख को बचाने के लिए जैसलमेर वासी बेहद चिंतित है. जैसलमेर शहर में इन दिनों टूटी सड़के और सफाई व्यवस्था मुख्य परेशानी का कारण बने हुए है.

शहर की बदहाल स्थिति को लेकर आयुक्त को ज्ञापन 
आज जैसलमेर के जागरूक युवाओं ने शहर की बदहाल स्थिति को लेकर आयुक्त को ज्ञापन दिया. आयुक्त नगरपरिषद को जैसलमेर शहर की बदहाली के बारे में अवगत कराया, लेकिन ज्ञापन देने गए लोगों और आयुक्त में जमकर बहस हो गई. शहर की जागरूक जनता को आयुक्त संतुष्ट नहीं कर पाए. शहर की सड़कों के हालात को लेकर हाहाकार मचा हुआ है परन्तु आयुक्त को नजर नहीं आ रहा है. मामूली बरसात के बाद सड़क पर जमा बरसात का पानी औऱ सीवरेज पेयजल की पाइप लाइनों के लिए खोदी गई सड़क पर स्थित गढ्डों में भरी गई मिट्टी के निकलने से कोढ़ में खाज का कार्य हो गया हैं. आयुक्त ने लोगों की समस्या सुन उनको बाहर का रास्ता दिखा दिया. जिससे जिलेवासियों में भारी रोष व्यापत है. 

बरसात के पानी की निकासी को सुचारू करने के निर्देश 
लोगों ने आयुक्त को खरी खरी सुनाई लेकिन आयुक्त नगरपरिषद ने उनकी एक भी नहीं सुनी और जिला कलक्टर के पास जाने को कह दिया. जिसको लेकर आम जनता जिला कलक्टर को अवगत कराया. जिस पर जिला कलक्टर ने जिला कलक्टर नमित मेहता ने आयुक्त सुख राम खोखर को गडढों को भरवाने और बरसात के पानी की निकासी को सुचारू करने के निर्देश दिये. करीब 50 नगर परिषद के कर्मचारियों को लगाकर आगामी 30 जून तक सड़क के गड्ढे भरने और नालो की सफाई का अभियान चलाने का आश्वासन दिया.  

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें
और पढ़ें

Stories You May be Interested in