Live News »

सफाई कर्मचारियों की हड़ताल जारी, वार्ता हुई विफल

सफाई कर्मचारियों की हड़ताल जारी, वार्ता हुई विफल

श्रीकरणपुर (श्रीगंगानगर)। श्रीकरणपुर नगर पालिका में नव नियुक्त हुए सफाई कर्मचारियों की भर्ती में धांधली के आरोपों के चलते पिछले 5 दिनों से वाल्मीकि समाज का आंदोलन उग्र होता जा रहा है। वहीं शहर के हालात यह हो गए है कि जगह-जगह पर गंदगी के लगे ढेर से लोगों का जीना दुर्भर हो रहा है। ऐसे में प्रशासन और पुलिस भी कोई कदम उठाने में बेबस नजर आ रही है, इस लड़ाई में शहर का तो बेड़ा गर्क हो ही रहा है साथ ही पालिका के रोजमर्रा के कामकाज भी ठप हो गए हैं। शुक्रवार को वाल्मीकि समाज के लोगों ने भर्ती के नाम पर उनके साथ हुए अन्याय के विरोध में नगर पालिका के बाद उपखंड कार्यालय पर पालिका प्रशासन व सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

कस्बे में हालात बिगड़ते देख उपखंड कार्यालय में शाम को वार्ता का दौर चला जिसमें एसडीएम संदीप काकड़, तहसीलदार अमर सिंह, अध्यक्ष अनीता लक्ष्मीनारायण जोहिया, ईओ लाल चंद सांखला, उपाध्यक्ष श्याम सुंदर सहित बोर्ड के पार्षदों ने भाग लिया। साथ ही अखिल भारतीय सफाई मजदूर कांग्रेस अध्यक्ष संतराम, उपाध्यक्ष लाल सिंह, महामंत्री दर्शन कुमार ने भी भाग लिया। इस वार्ता में सफाई कर्मियों की मांगों पर विस्तार पूर्वक चर्चा की गई, वार्ता के दौरान नगर पालिका अध्यक्ष व एसडीएम ने सफाई कर्मियों की मांग के अनुरूप नए कर्मिकों के अनुभव प्रमाण पत्र की जांच करने, सभी नवनियुक्त 28 महिला पुरुषों कर्मियों से सिर्फ और सिर्फ सफाई करवाने व जो पहले अनुबंध पर सफाई कर रहे थे उनमें से अत्यंत जरूरतमंदों के परिवार में से एक जने को पुनः अनुबंध पर रखने की बात कही गई। इस पर सफाई यूनियन पदाधिकारियों ने नगर पालिका मीटिंग बैठक में अंतिम निर्णय लेने की बात कही।

आपको बता दें कि सफाई कर्मचारियों की हड़ताल के चलते कस्बे में चारो ओर गंदगी का आलम होने से जिले भर में स्वच्छता अभियान में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली नगर पालिका बोर्ड में मानो अब सफाई व्यवस्था को ग्रहण लग चुका है। इस बीच पालिका प्रशासन द्वारा पुलिस संरक्षण में नई भर्ती हुए सफाई कर्मियों से बाजार में सफाई करने के प्रयास भी किए गए, लेकिन हड़ताली कर्मी टकराव की स्थिति में होने के कारण पालिका प्रशासन ने ऐसा नहीं कर सका।

और पढ़ें

Most Related Stories

Open Covid-19