इलाहाबाद अब नहीं रहा इलाहाबाद, योगी कैबिनेट का फैसला

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/10/16 11:53

नई दिल्ली। लोकभवन में उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में कैबिनेट की बैठक में आज कई अहम फैसले लिए गए।इसमें सबसे बड़ा फैसला इलाहाबाद पर लिया गया है । कैबिनेट की बैठक में इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज करने को मंजूरी मिल गई है। योगी कैबिनेट के इस फैसले के बाद साधु-संतों में ख़ुशी का माहौल है। 

कैबिनेट मीटिंग के बाद प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि इलाहाबाद का नाम प्रयागराज करने पर कैबिनेट की मंजूरी मिल गई है । सिर्फ जिले का ही नाम प्रयागराज नहीं होगा बल्कि जहां जहां भी इलाहाबाद नाम का प्रयोग किया गया है उसका भी नाम बदल जाएगा। मसलन इलाहबाद यूनिवर्सिटी और इलाहाबाद जंक्शन का नाम भी बदल जाएगा।

जानकार बताते हैं कि इलाहाबाद का शास्त्रों में प्राचीन नाम प्रयाग ही मिलता है। लेकिन अकबर ने 1583 में प्रयाग में यमुना के तट पर किले का निर्माण कराया और इस शहर का नाम बदलकर अल्लाहाबाद कर दिया। जो कालान्तर में इलाहाबाद हो गया। प्रयाग की पहचान लौटाने का फैसला अब योगी सरकार ने लिया है बतादें योगी सरकार 435 सालों के बाद प्रयाग को पुराना नाम देने जा रही है। 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in