पूर्व विधायक संघ के सम्मलेन में बोले सीपी जोशी, कहा-ज्यादा सवालों पर चर्चा हो इसलिए नई व्यवस्था लागू

Abhishek Shrivastava Published Date 2019/07/21 05:16

जयपुर: राजस्थान प्रगतिशील मंच (पूर्व विधायक संघ) का आज इंदिरा गांधी पंचायती राज संस्था में सम्मलेन हुआ. सम्मेलन के मुख्य अतिथि विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने विधानसभा सत्र को लेकर चल रहे विवादों पर अपनी बेबाक बात रखी. सम्मेलन में पूर्व विधायकों को विभिन्न सुविधाएं देने का नेता प्रतिप्रक्ष गुलाबचंद कटारिया ने समर्थन किया. खास रिपोर्ट:

बैठक में फैसला लेने के बाद भाजपा का विरोध:
विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने सम्मेलन में कहा उन्होंने विधानसभा सत्र के बजट सत्र में प्रश्नकाल में नई व्यवस्था लागू की. जिसका भाजपा विधायक विरोध कर रहे हैं, जबकि ये व्यवस्था लागू करने के लिए एक बैठक में फैसला किया गया था. इस बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ मौजूद थे. नियम कहते हैं कि एक सवाल पांच मिनट से ज्यादा नहीं होना चाहिए और पूरे प्रश्नकाल में दस से बारह प्रश्न आने चाहिए. मैं तो नियमों की पालना ही करा रहा हूं. जितने अधिक सवाल प्रश्नकाल में आएगी उतनी ही अधिकारियों की जवाबदेही तय होगी. 

मॉनिटरिंग के लिए समिति:
विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने कहा कि पूर्व विधायकों की मांगों पर सुनवाई होनी चाहिए, लेकिन पूर्व विधायक के अनुभव और कार्य क्षमता का भी लाभ लिया जाना चाहिए. उन्होंने घोषणा की कि संसदीय समितियों की सिफारिशों की पालना की मॉनिटरिंग के लिए समिति बनाई जाएगी. इस समिति में पूर्व विधायक शामिल किए जाएंगे. 

नेता प्रतिपक्ष कटारिया बोले मांगे जायज:
सम्मलेन में इससे पहले नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि पूर्व विधायकों की कई मांगे जायज हैं. इनकी मांगें पूरी की जानी चाहिए. उन्होंने कहा कि विधायक नहीं बनने के लिहाज से आप पूर्व विधायक हो सकते हैं, लेकिन जनता आपको आज भी विधायक कह कर संबोधित करती है और आपसे पहले जैसी ही अपेक्षा रखती हैं. कई पूर्व विधायक पांच-पांच बार तक विधायक रह चुके हैं. ऐसे विधायकों को जिले की समितियों में स्थान देना चाहिए. सरकार अधिकारियों के लिए आदेश जारी करे कि जिस तरह मौजूदा विधायकों का सम्मान किया जाता है, वैसे ही पूर्व विधायकों का भी सम्मान किया जाए. 

पूर्व विधायकों ने रखे विचार:
सम्मलेन की शुरूआत में पूर्व विधायक संघ के अध्यक्ष हरिमोहन शर्मा ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की जमकर तारीफ की. उन्होंने कहा कि पूर्व विधायकों की विधवाओं के लिए अशोक गहलोत ने ही पेंशन शुरू की थी. ऐसी व्यवस्था देश के कई राज्यों में नहीं हैं. उन्होंने यह भी कहा कि तत्कालीन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने भी पूर्व विधायकों को कई सुविधाएं दी. सम्मेलन की शुरूआत में कई पूर्व विधायकों ने अपने विचार व्यक्त किए. पूर्व विधायक शैलेन्द्र जोशी, रविन्द्र बोहरा, रामस्वरूप मीना, घनश्याम तिवाड़ी और बृजकिशोकर शर्मा ने पूर्व विधायकों की पेंशन कर्नाटक, हरियाणा और पंजाब की तर्ज पर बढ़ाने की मांग की. साथ ही भ्रमण के लिए दी जाने वाली राशि बढ़ाने, चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने और विभिन्न स्थानों पर प्रवास की सुविधा देने की मांग की गई. 

... संवाददाता अभिषेक श्रीवास्तव की रिपोर्ट 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in