गाजा में संघर्ष: इस्राइल के बराबर तो नहीं, लेकिन कम भी नहीं है हमास की ताकत, जानिए कौन हैं मददगार

गाजा में संघर्ष: इस्राइल के बराबर तो नहीं, लेकिन कम भी नहीं है हमास की ताकत, जानिए कौन हैं मददगार

गाजा में संघर्ष: इस्राइल के बराबर तो नहीं, लेकिन कम भी नहीं है हमास की ताकत, जानिए कौन हैं मददगार

तेलअवीव: बीते तीन-चार दिनों से इस्राइल व फलस्तीन (Israel and Palestine) के बीच सशस्त्र संघर्ष (Armed Struggle) जारी है. दोनों ओर मौतें हो रही हैं. हालांकि इस्राइल में कम मौतें हो रही हैं, लेकिन उससे मुकाबला कर रहा हमास भी डटा हुआ है. वह इस्राइल के बराबर तो नहीं उससे बहुत कमजोर भी नहीं है. उसके मित्र देश भी हैं, जो उसकी मदद कर रहे हैं. हालांकि इस्राइल की ताकत किसी से छिपी नहीं है. 

फलस्तीन के पास हैं जमीन से जमीन पर मार करने वाली मिसाइलें:
फलस्तीन की आजादी के लिए संघर्ष कर रहा हमास और इस्लामिक जिहाद (Hamas and Islamic Jihad) इस्राइल से बराबरी तो कतई नहीं कर सकते, लेकिन उसे नुकसान पहुंचाने की ताकत रखते हैं. ये पहले भी कई बार इस्राइल पर हमले कर चुके हैं. फलस्तीन के पास जमीन से जमीन पर मार करने वाली मिसाइलें हैं. हमास ने पिछले दिनों टैंक रोधी लक्षित मिसाइलों (Anti Tank Targeted Missiles) का भी इस्तेमाल किया था. 

मिस्र दे रहा मिसाइलें:
माना जा रहा है कि हमास व फलस्तीन को ये मिसाइलें मिस्र दे रहा है। उसके सिनाई प्रायद्वीप (Sinai Peninsula) से सुरंगों के माध्यम से हमास तक ये पहुंची हैं. यह भी कहा जा रहा है कि हमास और 'इस्लामिक जिहाद' के पास हथियारों का जो जखीरा है, उसका निर्माण गाजा पट्टी में हो रहा है. इनसे वह इस्राइल में काफी अंदर तक मार कर सकता है. 

ईरान से पहुंच रही तकनीकी मदद:
फलस्तीन के कब्जे वाली गाजा पट्टी में हमास व अन्य उग्रवादी गुटों के पास आधुनिक हथियार (Modern Weapon) बनाने की तकनीक ईरान से पहुंच रही है. विशेषज्ञों का कहना है कि गाजा पट्टी में हथियार कारखाने ईरान (Arms Factory Iran) की मदद से चल रहे हैं. इसीलिए इस्राइल इन्हें निशाना बना रहा है. 

हथियारों का स्टॉक है हमास के पास:
जानकारों का कहना है कि फलस्तीनी आतंकी संगठन (Palestine Terrorist Organization) हमास के पास हथियारों का भारी स्टॉक (Heavy Stock) है. इनमें अलग-अलग किस्म के हथियार शामिल हैं. उसने इस्राइल की ओर कई तरह की मिसाइलें दागी हैं. ये भारी विस्फोटकों से लैस हैं. कासम मिसाइलों (Kasam Missiles) की रेंज 10 किमी ही है, लेकिन मारक क्षमता अधिक है. हमास के पास कुदस 101, मिसाइलें, ग्रैड सिस्टम और सेजिल (Grad System and Sejil) 55 मिसाइलें भी हैं. कम दूरी तक मार करने वाले मोर्टार तो पहले से हैं. इसके अलावा हमास के पास 200 किमी तक मारक क्षमता वाली मिसाइलें भी हैं. इनमें एम-75, फज्र व अन्य मिसाइलें भी हैं. 

इस्राइल को एंटी मिसाइल सिस्टम बचा रहा:
इस्राइल पर हमास ने बीते तीन दिनों में एक हजार से ज्यादा मिसाइलें या रॉकेट दागे हैं. इनमें से 200 तो गाजा में ही गिर गए. इस्राइली सेना का कहना है कि उसकी ओर आने वाली 90 फीसदी मिसाइलों को उसका 'आयरन डोम एंटी मिसाइल सिस्टम' (Iron Dome Anti Missile System) ही रोक कर नष्ट कर देता है. इस्राइल के पास अन्य तमाम आधुनिक हथियार व दुनिया का सबसे शक्तिशाली इलेक्ट्रॉनिक डिफेंस (Powerful Electronic Defense) व खुफिया सिस्टम (Intelligence System) है. 

 

और पढ़ें