जयपुर VIDEO: कांग्रेस कमेटी के चिंतन शिविर ने राजस्थान के कार्यक्रमों और नियुक्तियों पर लगाया ब्रेक, देखिए खास रिपोर्ट

VIDEO: कांग्रेस कमेटी के चिंतन शिविर ने राजस्थान के कार्यक्रमों और नियुक्तियों पर लगाया ब्रेक, देखिए खास रिपोर्ट

जयपुर: अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के चिंतन शिविर ने राजस्थान की कांग्रेस के महत्वपूर्ण कार्यक्रमों और नियुक्तियों पर ब्रेक लगा दिया है. राजनेतिक नियुक्तियों की तीसरी सूची का इंतजार लम्बा हो सकता है. कई बड़े नेता सूची की बाट जोह रहे. बीते साल 29 दिसंबर को कोरोना की तीसरी लहर के चलते पीसीसी में जन सुनवाई कार्यक्रम या यूं कहे मंत्री दरबार को स्थगित कर दिया गया था ,ये अभी तक फिर से शुरु नहीं हुआ. अभी तो चिंतन शिविर में भाग लेने वालों की सूची तैयार हो रही.

इस बार गहलोत सरकार में बड़े स्तर पर सियासी नियुक्तियां हुई . नए और पुराने चेहरों को मौका दिया . साथ ही संगठन निष्ठ नेता को वरियता मिली. लेकिन अभी भी कुछ प्रमुख नेता और कार्यकर्ता नियुक्तियों से वंचित है . बहरहाल लगता है इन्हें नियुक्ति मिलने के लिए अभी ओर लंबा इंतजार करना होगा . अभी तक शेष रहे जिला अध्यक्षों के नामों का ऐलान नहीं हुआ .  जबकि संगठन चुनावों की प्रक्रिया जारी है.
चिंतन शिविर में राजस्थान से कौन होगा उस पर मंथन चल रहा है. माना जा रहा बेहद लिमिटेड नेता ही राजस्थान से शामिल होंगे इनमे प्रमुख तौर पर करीब एक दर्जन बड़े नेताओं के नाम है . 

----- चिंतन शिविर में कौन लेगा राजस्थान से भाग -- 

अशोक गहलोत.. मुख्यमंत्री

अजय माकन ..प्रभारी राजस्थान

गोविंद सिंह डोटासरा ..पीसीसी चीफ

सचिन पायलट ..सदस्य इकोमिक्स कमेटी AICC,पूर्व पीसीसी चीफ

नीरज डांगी राज्यसभा सांसद

रघुवीर मीणा ..सदस्य CWC कमेटी

मोहन प्रकाश राष्ट्रीय प्रवक्ता AICC

भंवर जितेंद्र सिंह.. महासचिव एआईसीसी

डॉ रघु शर्मा ..प्रभारी गुजरात कांग्रेस कमेटी

हरीश चौधरी ..प्रभारी पंजाब कांग्रेस कमेटी

जुबेर खान ..सचिव AICC

धीरज गुर्जर ..सचिव AICC

नमो नारायण मीणा ..पूर्व केंद्रीय मंत्री

गिरिजा व्यास ..पूर्व केंद्रीय मंत्री

लाल चंद कटारिया ..पूर्व केंद्रीय मंत्री

डॉ चंद्रभान ..पूर्व पीसीसी चीफ,बीसूका उपाध्यक्ष

डॉ बीडी कल्ला ..पूर्व पीसीसी चीफ ,शिक्षा मंत्री

नारायण सिंह ..पूर्व पीसीसी चीफ

शांति धारीवाल ..यूडीएच और संसदीय कार्य मंत्री

महेंद्रजीत मालवीय ...कैबिनेट मंत्री

अर्जुन बामनिया ..जनजाति कल्याण मंत्री

ममता भूपेश ..महिला बाल विकास मंत्री,राष्ट्रीय पदाधिकारी महिला कांग्रेस

रामेश्वर डूडी ..पूर्व नेता प्रतिपक्ष 

हेमाराम चौधरी..पूर्व नेता प्रतिपक्ष ,कैबिनेट मंत्री

साल 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस कार्यकर्ताओं की नाराजगी दूर करने और उनके कामों को प्राथमिकता पर लेने के लिए प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में बीते साल 15 दिसंबर को शुरू किया गया मंत्री दरबार भले ही कोरोना के तीसरी लहर के चलते स्थगित कर दिया गया हो लेकिन अब 4 माह बीतने के बावजूद भी जनसुनवाई को लेकर सस्पेंस बना हुआ है. कार्यकर्ताओं की जन सुनवाई के लिए प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में मंत्री दरबार फिर से लगेगा या नहीं इस पर प्रदेश कांग्रेस के पदाधिकारी भी कुछ बोलने को तैयार नहीं है. पार्टी के कार्यकर्ता पिछले 4 महीने से लगातार जन सुनवाई शुरू होने का इंतजार कर रहे हैं जिससे कि उनके कामों का प्राथमिकता पर निस्तारण हो सके. अब कहा यही जा रहा कि चिंतन शिविर के बाद पीसीसी में मंत्री दरबार की कार्यवाही शुरु होगी.पीसीसी के पदाधिकारियों का कहना है कि जनसुनवाई का शेड्यूल तो तैयार है लेकिन निर्णय नेतृत्व को लेना है.वर्तमान प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा के नेतृत्व बीते साल 15 दिसंबर को जनसुनवाई कार्यक्रम का आगाज किया गया था. 15 दिसंबर को मंत्री बीडी कल्ला और सुखराम बिश्नोई ने जनसुनवाई की थी. राज्य की कांग्रेस की प्राथमिकता में अब पार्टी का राष्ट्रीय चिंतन शिविर है . प्रदेश कांग्रेस कमेटी अब शिविर को सफल और ऐतिहासिक बनाने में जुटी है . नियुक्तियों के साथ ही कांग्रेस के बचे हुए जिला अध्यक्षों का मसला भी अटक गया है . अभी तक शेष रहे जिला अध्यक्षों के नामों का ऐलान नहीं हुआ . जबकि संगठन चुनावों की प्रक्रिया जारी है.
 

और पढ़ें