नई दिल्ली गुलाम नबी आजाद के बाद राज्यसभा में मल्लिकार्जुन खड़गे होंगे विपक्ष के नेता

गुलाम नबी आजाद के बाद राज्यसभा में मल्लिकार्जुन खड़गे होंगे विपक्ष के नेता

गुलाम नबी आजाद के बाद राज्यसभा में मल्लिकार्जुन खड़गे होंगे विपक्ष के नेता

नई दिल्ली: राज्यसभा (Rajya Sabha) में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद (Ghulam Nabi Azad) की विदाई के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता और लोकसभा में कांग्रेस के नेता रहे मल्लिकार्जुन खड़गे (Mallikarjun Kharge) को विपक्ष का नेता नामित किया गया है. इसके लिए कांग्रेस ने राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू को मल्लिकार्जुन खड़गे को राज्यसभा नेता बनाने की सूचना भी दे दी है.  

खड़गे राहुल गांधी के बेहद करीबी:  
इस बात की जानकारी संगठन के महासचिव वेणुगोपाल ने देते हुए कहा कि आजाद के रिटायर होने के बाद अब खड़गे पार्टी की तरफ से नामित किए गए हैं. यानी खड़गे राज्‍यसभा में विपक्ष के नेता होंगे. मल्लिकार्जुन खड़गे को राहुल गांधी का बेहद करीबी माना जाता है. बता दें कि राज्य सभा में विपक्ष के उप नेता आनंद शर्मा भी चाहते थे कि उन्‍हें विपक्ष का नेता उनको बनाया जाए मगर पार्टी नेतृत्व उन्हें ये जिम्मेदारी देने पर ज्यादा उत्साहित नहीं दिख रहे थे.

 

साल 2019 का लोकसभा चुनाव हार गए थे:
बता दें कि मल्लिकार्जुन खड़गे साल 2019 का लोकसभा चुनाव हार गए थे, जिसके बाद उन्हें पिछले साल राज्यसभा में सदस्य के तौर पर लाया गया. मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में वह 2014 से 2019 के बीच लोकसभा में नेता विपक्ष की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं और कई मुद्दों पर पार्टी की आवाज रहे हैं. खड़गे को अब राज्यसभा में कांग्रेस ने गुलाम नबी आजाद के विकल्प के तौर पर सदन के प्रतिपक्ष का नेता बनाने का फैसला किया है. मल्लिकार्जुन खड़गे कांग्रेस के दिग्गज और वरिष्ठ नेता होने के साथ पार्टी का दलित चेहरा भी हैं.  

और पढ़ें