VIDEO: कांग्रेस प्रत्याशी ज्योति मिर्धा ने भरा नामांकन, कुछ इस तरह रही पिछले कार्यकाल की उपलब्धियां

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/04/16 01:06

नागौर। नागौर लोकसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी ज्योति मिर्धा और एनडीए के हनुमान बेनीवाल के मुकाबले ने इस सीट सूबे की हॉट सीटों में शामिल कर दिया है। नागौर लोकसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी डॉ. ज्योति मिर्धा आज नामांकन दाखिल कर दिया है। इस दौरान ज्योति मिर्धा के साथ उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी, डीडवाना विधायक चेतन डूडी, जायल विधायक मंजू मेघवाल, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, दीपेंद्र हुड्डा और जाकिर हुसैन गैसावत मौजूद रहे। अगर हम ज्योति मिर्धा के राजनीतिक जीवन के बारे में बात करें तो वह कुछ इस तरह से है....

राजस्थान मे जब भी राजनीति की बात की जाती है तो नागौर जिले का नाम उसमे जरूर शुमार किया जाता है। नागौर जिले को राजस्थान की राजनीति की शतरंज की बिसात का 'नाईट' भी माना जाता है। नागौर की राजनीतिक अहमियत इसलिए भी है कि ये जिला कई मशहूर राजनीतिक शख्शियतों की जन्मस्थली रहा है। स्व. नाथूराम मिर्धा, स्व. रामनिवास मिर्धा, हरिशंकर भाभड़ा, सहित ऐसे कई नाम है जिनके बगैर राजस्थान की राजनीति कोरे कागज की तरह लगती है, और इन शख्शियतों में एक और नाम जुड़ गया है स्व. नाथूराम मिर्धा की पौती डॉ. ज्योति मिर्धा का।  ज्योति मिर्धा नागौर संसदीय क्षेत्र से लगातार तीसरी बार लोकसभा चुनाव लड़ने जा रही है। 

बिंदु चौधरी को हराकर पहली बार लोकसभा में पंहुची थी ज्योति मिर्धा
2009 के लोकसभा चुनाव में ज्योति मिर्धा ने पहली बार लोकसभा का चुनाव लड़ा और बिंदु चौधरी को हराकर पहली बार लोकसभा में पंहुची। भले ही उस चुनाव में ज्योति मिर्धा को विरासत में मिली राजनीति और अपने दादा नाथूराम मिर्धा के नाम पर वोट मिले मगर सांसद बनने के बाद ज्योति मिर्धा ने जो परफॉर्मेंस दी वो नागौर के ग्रामीण इलाकों में बसे लोगों को आज भी याद है कि किस तरह ज्योति मिर्धा ने लोकसभा क्षेत्र की हर पंचायत में पहुंचकर अपने सांसद कोष की राशि गांवों के विकास कार्य के लिए दी। मगर दूसरी बार वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर में सीआर चौधरी के सामने ज्योति मिर्धा को हार का सामना करना पड़ा, लेकिन लोकसभा चुनाव 2019 के लिए भी कांग्रेस ने ज्योति मिर्धा पर भारी विरोध के बावजूद एक बार फिर भरोषा जताया है और ज्योति मिर्धा लगातार तीसरी बार नागौर लोकसभा से चुनावी मैदान में है। 

इस बार एनडीए के हनुमान बेनीवाल से मुकाबला
इस बार ज्योति मिर्धा का मुकाबला खींवसर विधायक और आरएलपी के राष्ट्रीय संयोजक जो एनडीए के प्रत्याशी के तौर पर ज्योति मिर्धा के सामने चुनावी मैदान में है। ज्योति मिर्धा को नागौर संसदीय क्षेत्र में वैसा ही प्यार और समर्थन मिलता है, जैसा अमेठी में गांधी परिवार को। उनके परिवार का राजस्थान के नागौर में बहुत सम्मान है। उनके दादा नाथूराम मिर्धा मारवाड़ के गांधी के रूप में प्रसिद्ध थे। वो 6 बार सांसद रहे। 2009 में जब वह यहां से चुनाव लड़ीं तो सोनिया गांधी उनके लिए प्रचार करने आईं थीं। उस दौरान जो जनसैलाब उनके समर्थन में उमड़ा था, उसे देख सोनिया भी अभिभूत हो गईं थीं। उनके दादा नाथूराम मिर्धा को तीन दलों की सरकार में रहकर मंत्री बनने का गौरव प्राप्त है।  

दादा नाथू राम मिर्धा पांच बार रहे सांसद 
वर्ष 1977 के लोकसभा चुनाव में जब कांग्रेस उत्तर भारत की सारी सीटें हार गई थीं, तब नाथूराम मिर्धा नागौर की अकेली सीट कांग्रेस के टिकट पर जीते थे। डॉ ज्योति मिर्धा एसएमएस मेडिकल कॉलेज, जयपुर से एमबीबीएस ज्योति पेशे से डॉक्टर हैं। 15वीं लोकसभा में पहली बार वो जिस सीट से सांसद बनीं, वहां से उनके दादा नाथू राम मिर्धा पांच बार सांसद रहे। राजस्थान की राजनीति में एक बड़े जाट नेता माने जाने वाले नाथूराम को नागौर की जनता बाबा कहती थी। नागौर सीट को भाजपा ने प्रतिष्ठा का सवाल बनाते हुए केंद्रीय मंत्री सी आर चौधरी को फिर से उम्मीदवार नही बनाकर आरएलपी से गठबन्धन कर आरएलपी के हनुमान बेनिवाल के लिए छोड़ दी है। 

भाजपा को जहां हनुमान बेनीवाल में संजीवनी नजर आ रही है, वहीं ज्योति मिर्धा का कहना है कि बेनीवाल एक्सपोज हो गए है। पहले वो भाजपा के लिए पर्दे के पीछे काम कर रहे थे और अब उनके खुलकर भाजपा के साथ आने से उनकी असलियत सामने आ गई है जिसे जनता समझ गई है। ज्योति मिर्धा ने आज नामांकन दाखिल कर दिया है। उसके बाद कांग्रेस के समर्थन में एक चुनावी सभा भी हुई। 

नागौर की पूर्व सांसद ज्योति मिर्धा के कार्यकाल वर्ष 2009-2014 की उपलब्धियां...

1. नागौर लिफ्ट केनाल फेस -2 के लिए अंतरराष्ट्रीय संस्था जायका ( जापान) से 3000 करोड़ रुपए स्वीकृत कराए जिससे नागौर जिले को मीठा पीने का पानी उपलब्ध हुआ। यह देश की सबसे बड़ी पेयजल परियोजना है। 

2. कई सालों से बंद मकराना-परबतसर रेलवे लाईन का मुद्दा हल करवाया जिसके चालू होने से मकराना मार्बल उद्योग और इस क्षेत्र के निवासियों को बहुत बड़ा फायदा हुआ।

3. सन 2012-13 के बजट में केंद्र सरकार द्वारा ट्रैक्टर पर दस गुना ईनश्योरेंस राशि बढ़ा दी गई थी उसको संसद में उठा कर वापस कम करवाया। इससे देश भर के किसानों को हर साल हज़ारों रुपए का फायदा हुआ।

4. नरेगा योजना में इंटर लॉकिंग सी सी ब्लॉक को वापस शुरू करवाया जिससे नरेगा में हर गांव में पक्का काम हो रहा है।

5. सांसद मिर्धा ने अपने पूरे कार्यकाल में हर गांव में जाकर ग्राम वासियों की राय पूछ कर एमपीलैड के तहत सारे काम कराए।

6. लघु, सीमांत  और एस सी/ एस टी के किसानों के खेतों में  टांकों को नरेगा योजना से होने वाले कामों में जुड़वाया। इसका सबसे ज्यादा फायदा मारवाड़ क्षेत्र को हुआ।

7.  जायल में राजकीय महाविद्यालय की स्थापना करवाई 

8. पंचायती राज के 50 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में नागौर में केंद्र सरकार के राष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रम का आयोजन कर नागौर में 150 बैड के नए अस्पताल की स्थापना करवाई।

9. मूंडवा में अंबुजा सीमेंट द्वारा गलत तरीके से अधिग्रहीत की गई 132 बीघा भूमि को वापस किसानों को दिलवाया।

10. नागौर जिले की बड़ी ग्राम पंचायतों जैसे मौलासर, हरसोलाव, खुनखुना, बाजवास, ईनाना में यूनियन बैंक की शाखाएं खुलवाई ।

11. नागौर की ग्राम पंचायत कुसुंबी, सुद्रासन, भादवा और लालास में यूको बैंक की शाखाएं खुलवाई।

12. एमपीलैड के  दिशानिर्देशों में संशोधन करा कर स्कूलों में फर्नीचर देने और ग्राम सहकारी समिति में हॉल निर्माण करने के आदेश जारी करवाए।

13. नागौर जिला मुख्यालय पर स्वीकृत केंद्रीय विद्यालय की स्थापना हेतु अतिरिक्त भूमि का आवंटन कराया जिसके फलस्वरूप केंद्रीय विद्यालय शुरू हो सका।

14. इंडियाबुल्स फाउंडेशन के माध्यम से कई ग्राम पंचायतों में जल संरक्षण, शिक्षा और लैपटॉप वितरण के कार्य करवाए।

15. प्रधानमंत्री राष्ट्रीय सहायता कोष से नागौर जिले के सैकड़ों मरीजों के लिए लाखों रुपए स्वीकृत करवाए।

16. ग्राम अलाय में मीठे पानी का हाइड्रेंट लगवाया जिससे क्षेत्र के करीब 20 गावों को पीने का मीठा पानी उपलब्ध हुआ।

17. ग्राम बासनी में भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय से एक करोड़ से अधिक की राशि अल्पसंख्यक समाज के छात्रों के लिए स्वीकृत कराई।

18. ग्राम पालोट ( डीडवाना) में 20 लाख रुपए का पेयजल आपूर्ति हेतु प्रोजेक्ट राज्य सरकार से स्वीकृत करवाया। 

19. डीडवाना के रायसिंहपुरा गांव स्थित श्री जानकीदास महाराज आश्रम में 30 लाख रुपए का पेयजल आपूर्ति का प्रोजेक्ट शुरू करवाया।

20.  लाडनूं कस्बे के लिए 70 करोड़ रुपए का सीवरेज प्रोजेक्ट भारत सरकार के शहरी विकास मंत्रालय से स्वीकृत करवाया।

21. मोनसेंटो कम्पनी द्वारा राज्य सरकार से पी पी पी मॉडल पर जीएम फसलों के लिए करे गए एम ओ यू निरस्त करवाए ताकि किसानों का बीजों पर मालिकाना हक बना रहे।

22. नागौर में 10 करोड़ की लागत से डेयरी संयंत्र स्थापित करवाया जिससे हजारों दुग्ध उत्पादकों को फायदा हुआ।

23. नावां रेलवे स्टेशन पर जोधपुर-जयपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस ट्रेन नंबर 22477/22478 का स्टॉपेज शुरू करवाया।

24. छोटी खाटू रेलवे स्टेशन पर जोधपुर-सराय रोहिल्ला ट्रेन नंबर 22481/22482 का स्टॉपेज करवाया।

25. कुचामन रेलवे स्टेशन पर जोधपुर-हावड़ा सुपरफास्ट ट्रेन नंबर 12307/12308 का स्टॉपेज शुरु करवाया।

26. नागौर से आने-जाने वाली बीकानेर-सिकंदराबाद एक्सप्रेस ट्रेन को सप्ताह में दो बार करवाया। 

27. छोटी खाटू रेलवे स्टेशन पर रेलवे स्टेशन पर रेलवे रिजरवेशन की सुविधा की शुरुवात कराई।

....नरपत ज़ोया संवाददाता 1st इंडिया न्यूज नागौर 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in