विधानसभा में कांग्रेस दल की विपक्षी हमलों का माकूल जबाव देने की तैयारी, ये रहे मुख्य रणनीतिकार

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/06/26 07:47

जयपुर: विधानसभा सत्र को लेकर सत्तापक्ष मुस्तैद है. विपक्ष के हमलों का जबाव देने की तैयारी के लिये गहलोत सरकार के सिपहसलार जुटे हुए हैं. सत्ता पक्ष के फ्लौर मैनेजमेंट का प्रमुख मकसद है कि बजट सत्र के दौरान कांग्रेस विधायक दल एकजुट होकर विपक्षी प्रहारों का जबाव दे. साथ ही मंत्रीपरिषद के सदस्य और सत्ताधारी दल के विधायक पूरी तैयारी के साथ सदन में आएं. खास रिपोर्ट:

प्रदेश की सबसे बड़ी पंचायत में खुद को साबित करने के लिये शतरंज की बिसात बिछने वाली है. लोकसभा चुनावों की जीत के जोश से सरोबार बीजेपी का विधायक दल पूरी सक्रियता के साथ कांग्रेस की सरकार को घेरने में जुटेगा. दूसरी ओर सत्ताधारी दल भी उतनी ही मुस्तैदी के साथ जबाव देने की तैयारी में जुटा है. सत्तापक्ष का फ्लोर मैनेजमेंट मारक रहे, यहीं कांग्रेस विधायक दल के प्रमुख रणनीतिकारों का मुख्य मकसद है. लिहाजा रणनीतिकार काफी सक्रिय नजर आए. संसदीय मामलता विभाग के मंत्री शांति धारीवाल मुख्य रणनीतिकार के तौर पर फ्लोर मैनेजमेंट की रणनीति बनाने में जुटे. वहीं मुख्य सचेतक महेश जोशी अहम भूमिका निभा रहे है. 

विधानसभा में कांग्रेस दल के मुख्य रणनीतिकार:
शांति धारीवाल (कैबिनट मंत्री संसदीय मामलात विभाग):

—धारीवाल संसदीय गुणों से लबरेज
—सत्तापक्ष की ऱणनीति का भार उन्हीं के कंधो पर
—विपक्ष की धार को कुंद करने में माहिर
—विपक्ष को विषय से भटकाने में निपुण
—विपक्षी एकता को छिन्न -भिन्न करने में मास्टरी
—सत्तापक्ष के फ्लोर मैनेजमेंट की जिम्मेदारी
—संसदीय कार्यशैली के अनुसार विपक्ष पर पलटवार करना

महेश जोशी (मुख्य सचेतक):
—फ्लोर मैनेजमेंट के सिद्धस्त प्लेयर
—कूल कस्टमर के नाते निभाते है भूमिका
—नये विधायकों को टिप्स देने का काम इन्हीं का
—विपक्षी दल के फ्लोर मैनेजमेंट को धवस्त करने की जिम्मेदारी
—दलगत सियासत से ऊपर उठकर अन्य दलों में गहरे ताल्लुकात
—कांग्रेस विचारधारा के निर्दलीयों को साध कर रखना

डॉ रघु शर्मा (चिकित्सा और स्वास्थय मंत्री):
—सत्ता पक्ष के फ्लोर मैनेजमेंट के प्रमुख रणनीतिकारों में शुमार
—मुख्य कार्य एक ही सदन में सत्तापक्ष को एकजुट रखना
—एकजुट होकर विपक्षी हमलों का कैसे जबाव दिया जाये इसकी रणनीति बनाना
—मंत्री है, लेकिन आक्रामक होकर पलटवार के लिये चर्चित

डॉ बीडी कल्ला (ऊर्जा-जलदाय मंत्री):
—सत्ता पक्ष के फ्लोर मैनेजमेंट के अनुभवी चेहरे
—वरिष्ठ नेता और नेता प्रतिपक्ष भी रह चुके है
—संसदीय परम्पराओं और नियमों के गहरे जानकार
—विपक्षी हमलों की धार को कुंद करने का कार्य करेंगे

प्रताप सिंह खाचरियावास (परिवहन मंत्री):
—सत्ता पक्ष के फ्लोर मैनेजमेंट के कुशल चेहरे
—धाराप्रवाह वक्ता के नाते विपक्षी हमलों को निस्तेज करना
—सदन के अंदर विपक्षी को उन्हीं के आरोपों को लेकर घेरना
—साथी मंत्रियों और विधायकों के बीच जोश पैदा करना

गोविन्द सिंह डोटासरा (शिक्षा मंत्री):
—सत्तापक्ष के फ्लोर मैनेजमेंट के तेज तर्रार चेहरे
—विषयों के प्रति गंभीरता और जबाव देने की मारक शैली
—विपक्ष को मंत्रियों पर हावी नहीं होने देना

रमेश मीना (खाद्य नागरिक आपूर्ति मंत्री):
—सत्तापक्ष के फ्लोर मैनेजमेंट में आक्रामक शैली के लिये चर्चित
—सदन के अंदर जोरदार प्रदर्शन करना इनकी आदत
—विपक्षी हमलों का माकूल जबाव देने में माहिर

महेन्द्र चौधरी (उप मुख्य सचेतक):
—सत्तापक्ष के फ्लोर मैनेजमेंट के तरकश के तीर
—इनकी शैली है रणनीति को अंजाम तक पहुंचाने की
—विधायकों की मजबूती और एकजुटता पर इनका फोकस

सत्तापक्ष को भली भांति पता है कि इस बार कई ऐसे मुद्दें है, जिन पर बीजेपी के विधायक उन्हें घेरेंगे. बीएसपी और सीपीएम समेत निर्दलीयों का भी सहयोग मिल सकता है. लिहाजा कांग्रेस विधायक दल के मास्टर माइंड भी पलटवार की रणनीति में जुटे. 

गुलाब चंद कटारिया, कैलाश मेघवाल, राजेन्द्र राठौड़, कालीचरण सराफ, किरण माहेश्वरी, सतीश पूनिया, रामलाल शर्मा, मदन दिलावर, जोगेश्वर गर्ग. यह कुछ ऐसे नाम है जो कांग्रेस सरकार के मंत्रियों को घेरने का काम करेंगे. इनके बीच अंडर स्टैडिंग भी है. वसुंधरा राजे की सदन में मौजूदगी इनके हौंसलो को बढ़ाने का काम करेगी. यही कारण है कि सत्तापक्ष के हरफनमौला अपने तरकश में हर वो तीर रखेंगे. जिसके जरिये सदन में विपक्षी हमलों का माकूल मुकाबला किया जा सके. इनमें संयम लोढ़ा भी कांग्रेस को सहयोग करने वाले सदन के अंदर प्रमुख चेहरे होंगे. बहरहाल कांग्रेस की रणनीति टिकी है मंत्रियों की तैयारी और विधायक दल की एकजुटता पर. 

... संवाददाता योगेश शर्मा की रिपोर्ट
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in