एमबीएस और जेके लोन अस्पताल के संविदा कर्मियों ने ठेकेदार के खिलाफ की आवाज बुलंद

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/09/11 02:53

कोटा: जिले में एमबीएस अस्पताल के बाद अब जेके लोन अस्पताल के संविदा कर्मी भी आंदोलन पर उतर आए हैं. आज एमबीएस अस्पताल के साथ-साथ जेके लोन अस्पताल के संविदा कर्मियों ने भी कार्य का बहिष्कार कर दिया और ठेकेदार के खिलाफ आवाज बुलंद की. कर्मचारियों ने सुबह 10:00 बजे से लेकर दोपहर 12:00 बजे तक कार्य का बहिष्कार किया. इस दौरान अस्पताल की व्यवस्थाएं चरमरा गई. इस दौरान मरीज और उनके परिजनों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा.

घायल को एंबुलेंस से जाने के लिए स्ट्रेचर तक नहीं मिला: 
एमबीएस अस्पताल में तो घायल हालत में आए एक युवक को एंबुलेंस से उतारकर अस्पताल के अंदर ले जाने के लिए स्ट्रेचर तक नहीं मिला. करीब आधे घंटे तक एंबुलेंस के अंदर ही घायल व्यक्ति पड़ा रहा जब उसके परिजन अस्पताल पहुंचे तो वह जैसे तैसे घायल को अस्पताल के अंदर लेकर गए. वहीं जेके लोन अस्पताल में भी डिलीवरी के लिए आई प्रसूता का प्रसव अस्पताल के बाहर ही हो गया. प्रसूता को भी अस्पताल के अंदर ले जाने के लिए स्ट्रेचर नहीं मिला. 

कर्मचारियों के शोषण का आरोप: 
कर्मचारियों का आरोप है कि दोनों अस्पताल के ठेकेदार अस्पताल प्रशासन से मिलीभगत कर कर्मचारियों का शोषण कर रहा है. ना तो ठेकेदार पीएफ और ईएसआई जमा करा रहा है और ना ही समय पर वेतन भुगतान कर रहा है. साथ ही वेतन में भी घपलेबाजी कर रहा है. कार्य बहिष्कार के दौरान कर्मचारियों ने अस्पताल अधीक्षक का घेराव भी किया. अस्पताल में ट्रॉली चालक से लेकर रजिस्ट्रेशन, जांच रसीद और लैब काउंटर सहित सफाई कर्मी इस कार्य बहिष्कार में शामिल रहे. 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in