नई दिल्ली देश में ओमीक्रोन के अब तक 422 मामले आए सामने, कोरोना संक्रमण ने एक बार फिर से लोगों को डराना किया शुरू

देश में ओमीक्रोन के अब तक 422 मामले आए सामने, कोरोना संक्रमण ने एक बार फिर से लोगों को डराना किया शुरू

देश में ओमीक्रोन के अब तक 422 मामले आए सामने, कोरोना संक्रमण ने एक बार फिर से लोगों को डराना किया शुरू

नई दिल्ली: देश के 17 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से कोरोना वायरस के नये स्वरूप ‘ओमीक्रोन’ के अब तक 422 मामले सामने आए हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने रविवार को यह जानकारी दी.

आंकड़ों के अनुसार, ओमीक्रोन के सर्वाधिक 108 मामले महाराष्ट्र में सामने आए हैं. इसके बाद दिल्ली में 79, गुजरात में 43, तेलंगाना में 41, केरल में 38, तमिलनाडु में 34 और कर्नाटक में 31 मामले सामने आ चुके हैं. मंत्रालय के सुबह आठ बजे तक के अद्यतन आंकड़ों के मुताबिक, भारत में पिछले 24 घंटे में कोविड-10 के 6,987 नए मामले आने से संक्रमण के कुल मामले 3,47,86,802 हो गए हैं. इस दौरान 162 मरीजों की मौत होने से मृतक संख्या बढ़कर 4,79,682 हो गई है.

उपचाराधीन मरीजों की संख्या कम होकर 76,766 हो गयी:
पिछले 59 दिनों से कोरोना वायरस संक्रमण के दैनिक मामले लगातार 15,000 से कम रह रहे हैं. मंत्रालय ने बताया कि उपचाराधीन मरीजों की संख्या कम होकर 76,766 हो गयी है जो संक्रमण के कुल मामलों का 0.22 प्रतिशत है. पिछले 24 घंटों में उपचाराधीन मरीजों की संख्या 266 घटी है.

कोविड-19 से स्वस्थ होने वाले मरीजों की दर 98.40 प्रतिशत:
स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार कोविड-19 से स्वस्थ होने वाले मरीजों की दर 98.40 प्रतिशत है जो मार्च 2020 के बाद से सबसे अधिक है. वहीं, संक्रमण की दैनिक दर 0.74 प्रतिशत है. यह पिछले 83 दिनों से दो प्रतिशत से कम रही है. साप्ताहिक संक्रमण दर भी 0.62 प्रतिशत दर्ज की गयी और यह पिछले 42 दिनों से एक प्रतिशत से कम बनी हुई है. इस बीमारी से स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 3,42,30,354 हो गयी है जबकि मृत्यु दर 1.38 प्रतिशत है. देशव्यापी कोविड-19 रोधी टीकाकरण अभियान के तहत अभी तक 141.37 करोड़ खुराक दी जा चुकी है.

देश में पिछले साल सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितंबर को 40 लाख से अधिक हो गई थी. वहीं, संक्रमण के कुल मामले 16 सितंबर को 50 लाख, 28 सितंबर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख और 20 नवंबर को 90 लाख के पार चले गए थे. देश में 19 दिसंबर को ये मामले एक करोड़ के पार, इस साल चार मई को दो करोड़ के पार और 23 जून को तीन करोड़ के पार चले गए थे. सोर्स- भाषा 

और पढ़ें