Live News »

जेल में भी कोरोना का प्रकोप, अजमेर जेल से 140 बंदी किये गए स्थानांतरित

जेल में भी कोरोना का प्रकोप, अजमेर जेल से 140 बंदी किये गए स्थानांतरित

अजमेर: केंद्रीय कारागृह से आज करीब 140 बंदी दूसरी जेलों में भेजे गए है. यहां उतने ही बंदी रखे जाएंगे जितनी जेल की क्षमता है. वहीं कोटा जेल से सभी महिला बंदियों को भी अजमेर केंद्रीय कारागृह में लाया गया. साथ ही आए दिन विभिन्न अपराधों के कारण आने वाले नए बंदियों के लिए जेल में अलग वार्ड बना दिया गया है. जेल अधीक्षक नरेंद्र सिंह चौधरी ने बताया कि केंद्रीय कारागृह से आज 100 बंदी टोंक की जेल में वह 40 बंदी हाई सिक्योरिटी जेल में स्थानांतरित किये गए है. जबकि कोटा जेल से सभी महिला बंदियों को अजमेर की महिला जेल में लाया जा रहा है.

VIDEO: राजस्थान के पहले कोरोना पॉजिटिव मिले इटली के यात्री की हार्टअटैक से मौत, उपचार के दौरान तोड़ा दम 

केंद्रीय काराग्रह  में 960 बंदियों को रखने की क्षमता: 
यह कार्रवाई उच्च न्यायालय के आदर्शों पर की गयी है. कोरोना संक्रमण की आशंका में बंदियों की सुरक्षा के मद्देनजर उच्च न्यायालय ने आदेश जारी किए हैं कि प्रदेशभर की जेलों में उतने ही बंदियों को रखा जाए जितनी बंदी रखने की क्षमता है. अजमेर के केंद्रीय काराग्रह  में 960 बंदियों को रखने की क्षमता स्वीकृत है. जबकि अभी यहां करीब 11 सौ बंदी है. महिला जेल में कोटा से भेजी जाने वाली महिला बंदियों के लिए पर्याप्त स्थान है. बंदियों को अन्य जेलों से स्थानांतरित करने के लिए पुलिस को सुरक्षा का बंदोबस्त किया गया. स्थानांतरित सिर्फ विचाराधीन बंदियों को ही किया गया है. इनको ही किया जाएगा.

सरकार ने वर्क फ्रॉम होम सिस्टम किया लागू, इन 17 विभागों को छोड़कर सब जगह 50% कर्मचारी देंगे उपस्थित देंगे 

रोजाना के अपराधों में आने वाले नए बंदियों के लिए अलग से वार्ड बना:
चौधरी ने बताया कि रोजाना के अपराधों में आने वाले नए बंदियों के लिए अलग से वार्ड बना दिया गया है. जेल में आने के तुरंत बाद जेल अस्पताल के चिकित्सक उनकी पूरी जांच कर रहे हैं कम से कम 3 दिन उन्हें अलग बनाए गए नए वार्ड में रखने के बाद जब पुख्ता हो जाता है कि वह स्वस्थ है तो उन्हें अन्य वार्डों में भेजा जा रहा है. 

और पढ़ें

Most Related Stories

नामचीन स्कूल ने बच्चों की जान को डाला खतरे में...बिना अनुमति के स्कूल खोल करा दी 9 वीं और 11 वीं कक्षा की पूरक परीक्षा

नामचीन स्कूल ने बच्चों की जान को डाला खतरे में...बिना अनुमति के स्कूल खोल करा दी 9 वीं और 11 वीं कक्षा की पूरक परीक्षा

अजमेर: जिले के नामचीन माहेश्वरी पब्लिक स्कूल ने कोविड-19 के नियमों को ताक में रखते हुए और सरकार के आदेशों की अवहेलना करते हुए आज स्कूल खोल करके 9वीं और 11 वीं कक्षा के छात्रों की पूरक परीक्षा का आयोजन कर दिया. मामला उजागर होने के बाद शिक्षा विभाग और जिला प्रशासन हरकत में आया और स्कूल पहुंचकर कार्रवाई को अंजाम दिया. वहीं परीक्षाओं को बीच में उठा कर सभी छात्रों को पुनः घर की तरफ रवाना कर दिया. अब मामले की पड़ताल जारी है. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 68 नये पॉजिटिव केस आया सामने, अब भरतपुर जिला बना कोरोना का नया हॉटस्पॉट  

मामला उजागर होने के बाद शिक्षा विभाग और प्रशासन हरकत में आया: 
अजमेर जिले में कोरोना का प्रकोप अभी भी जारी है और शहरवासियों में इसका खौफ अभी भी देखने को मिल रहा है. लेकिन अजमेर का एक जाना माना नामचीन माहेश्वरी पब्लिक स्कूल इससे डर नहीं रहा ना ही उसे अपने स्कूल के विद्यार्थियों की जान माल के खतरे का डर सताता है. क्योंकि आज उसने कोविड-19 के नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए 9वी और 11वीं कक्षा के छात्रों की पूरक परीक्षा का आयोजन करवा दिया. मामला उजागर होने के बाद शिक्षा विभाग और प्रशासन हरकत में आया और शिक्षा विभाग के अधिकारी स्कूल परिसर पर पहुंचे. वहीं मौके पर क्रिस्चनगंज थाना पुलिस को भी बुलाया गया. जब अधिकारी वहां पर पहुचे तो स्कूल प्रशासन हरकत में आया और तुरंत बच्चों की परीक्षा रुकवा कर कक्षों से बाहर निकाल दिया गया और घरों की तरफ रवाना कर दिया. जब फर्स्ट इंडिया की टीम के द्वारा स्कूल प्राचार्य से बात करने को कोशिश की तो प्राचार्य ने कहा अभिभावकों के दबाव के चलते हमें यह परीक्षा करवानी पड़ी है और हमारे पास इस परीक्षा को करवाने की अनुमति भी है. लेकिन सोचने वाली बात यह है कि एक इतने बड़े स्कूल के प्राचार्य को झूठ बोलना कितना शोभा देता है.

केरल में हथिनी की हत्या से देश में रोष, प्रकाश जावड़ेकर ने कहा- दोषी बख्शे नहीं जाएंगे  

शिक्षा अधिकारी के द्वारा जांच टीम गठित: 
वहीं अभी तक सरकार के द्वारा स्कूलों को खोलने की अनुमति नहीं दी गयी है उसके बाबजूद अजमेर का एक नामचीन स्कूल अपने ही दम पर स्कूल को खोलकर परीक्षा आयोजित करवा लेता है. यह विषय सवालों के घेरे में खड़ा हो गया है. वहीं शिक्षा अधिकारी के द्वारा जांच टीम गठित करके पड़ताल शुरू कर दी है. अगर प्रशासन स्कूल प्रशासन के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाता है तो पुलिस आगे की कार्रवाई करेगी. देखना अब यह होगा कि बच्चों की जान को खतरे में डालने पर स्कूल प्रशासन पर अब किस तरह की कार्यवाही की जाती है. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए अजमेर से शुभम जैन की रिपोर्ट

शिकारियों के फंदे का शिकार हुआ पैंथर, वन विभाग की टीम ने किया रेस्क्यू

शिकारियों के फंदे का शिकार हुआ पैंथर, वन विभाग की टीम ने किया रेस्क्यू

अजमेर: प्रदेश में शिकारी अपनी काली कारतूतों को अंजाम देने से बाज नहीं आ रहे हैं. अजमेर के ब्यावर के वन क्षेत्रों में वे फंदा लगा कर पैंथर का शिकार करने का जाल बिछा रहे हैं. ब्यावर क्षेत्र के जंगल में लगाए गए एक ऐसे ही फंदे में पैंथर फंस गया, जिसे वन विभाग की टीम ने रेस्क्यू किया. इस घटना से वन विभाग की मॉनिटरिंग पर सवाल उठ रहे हैं. 

राजस्थान में भी चक्रवात निसर्ग का असर, तेज हवाओं के साथ कई इलाकों में हो रही बारिश 

शिकारी के फंदे बने पैंथर के दुश्मन: 
यह पहला मौका नहीं है, जब कोई पैंथर शिकारी की ओर से बिछाए गए फंदे में फंसा हो. पहले भी इस तरह की घटनाएं सामने आई हैं. वहीं, कई बार वन विभाग के अधिकारियों ने जंगल से कई फंदे भी जब्त किए हैं लेकिन अभी तक शिकारियों को पकड़ने में विभाग को काई सफलता नहीं मिली है. ऐसे में अब विभाग के अधिकारियों को अपनी जांच को तेज कर शिकारियों को पकड़ने की ठोस योजना तैयार करनी होगी. इससे पैंथर का शिकार करने वाले शिकारियों को फंदे में फंसाया जा सके. 

Unlock-1.0: आज से सड़कों पर दिखेंगी राजस्थान रोडवेज की बसें, 200 मार्गों पर संचालन शुरू 

जेएलएन अस्पताल में मरीज की मौत, परिजनों ने लगाया डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप

जेएलएन अस्पताल में मरीज की मौत, परिजनों ने लगाया डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप

अजमेर: जेएलएन अस्पताल में मरीज की मौत के बाद परिजनों ने डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगते हुए हंगामा खड़ा कर दिया. हंगामे के बाद मौके पर कोतवाली थाना पुलिस पहुंची और परिजनों से समझाइश शुरू कर दी. वही परिजनों ने अभी तक मुकदमा दर्ज भी नहीं करवाया है. जानकारी के मुताबिक अजमेर संभाग के सबसे बड़े जवाहरलाल नेहरू अस्पातल के अस्थाई इमरजेंसी वार्ड के बहार रविवार को बोराज निवासी मदन सिंह रावत ने हंगामा खड़ा कर दिया. मदन सिंह ने जानकारी देते हुए बताया की सुबह उनकी बुजुर्ग माँ की अचानक तबियत खराब हुई जिसके बाद वह सीधे अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड पहुंचे जहा से उन्हें कार्डियोलोग्य विभाग भेज दिया गया.

शव के अंतिम संस्कार को लेकर बवाल, जलती चिता पर पानी डालकर पुलिस ने रोका अंतिम संस्कार

डॉक्टरों ने किया मृत घोषित: 
वह पर भी डॉक्टरों ने उनकी जांच कर के वापिस इमरजेंसी भेज दिया और इमरजेंसी वार्ड में एक डॉक्टर ने मेरी मां को देख कर दो दवाई देकर वापिस घर भेज दिया. घर पहुंचने के बाद माँ की दुबारा तबियत खराब हुई और जैसे ही में अस्पताल उन्हें लेकर पंहुचा तो उन्हें डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया.

नहीं हुआ है अभी तक मुकदमा दर्ज:
वहीं विवाद बढ़ते देख मौके पर कोतवाली थाना पुलिस भी पहुंची और मृत महिला के पुत्र के साथ समझाइश शुरू कर दी. वहीं परिजनों ने भी हाल फिलहाल किसी भी तरह का मुकदमा दर्ज नहीं करवाया है. 

चिकित्सा मंत्री डॉ.रघु शर्मा ने प्रदेशवासियों से की अपील, तंबाकू,पान मसाला,अन्य व्यसनकारी पदार्थों को छोड़ने की अपील

अजमेर: पिछले 12 घंटे में दो कोरोना पॉजीटीव मरीजों की मौत

अजमेर: पिछले 12 घंटे में दो कोरोना पॉजीटीव मरीजों की मौत

अजमेर: जिले में पिछले 12 घंटे में दो कोरोना पॉजीटीव मरीजों की मौत होने के बाद प्रशासन हड़कंप में मच गया. वहीं मेडिकल टीमों के लिए भी चिंता बढ़ गई. बताया जा रहा है कि एक बुजुर्ग की देर रात्रि में मौत हो गई वहीं एक पॉजीटीव मरीज की मौत सुबह हुई. 

Coronavirus: भारत कोरोन संक्रमित देशों की सूची में टॉप-10 में शामिल, लगातार चौथे दिन सबसे ज्यादा बढोत्तरी 

दोनों मृतकों को अन्य गंभीर बीमारियां भी थी: 
डॉ संजीव माहेश्वरी ने जानकारी देते हुए बताया कि देर रात्रि में बुजुर्ग पूर्व में मृत विनोद जो कि कोरोना पॉजिटिव था उनका ही पिता है. उनकी स्थिति ज्यादा गंभीर थी क्योंकि उनकी किडनी भी खराब हो चुकी थी और अन्य बीमारियां भी उन्हें थी जिस कारण से उनकी मौत हुई है. वहीं दूसरे मरीज में भी काफी बीमारियां थी जो कि आज सुबह मृत घोषित किया गया है. वहीं दोनों शवों को चीरघर में रखवा  दिया है. दोनों का नगर निगम के द्वारा रिष घाटी स्तिथ शमसान पर क्रियाकर्म किया जाएगा. 

जलती गर्मी में लू से बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स  

अजमेर कृषि उपज मंडी की दुकानों में लगी आग, बारदाने की दुकानें जलकर हुई राख

अजमेर कृषि उपज मंडी की दुकानों में लगी आग, बारदाने की दुकानें जलकर हुई राख

अजमेर: जिले की रामगंज स्थित कृषि उपज मंडी में रविवार सुबह अचानक दुकानों में आग लग गई. आग की खबर लगते ही इलाके में हड़कम्प मच गया. सूचना मिलने पर रामगंज थाना पुलिस और अग्निशमन की गाड़ियां मौके पर पहुंची. काफी मशक्त के बाद आग को बुझाया गया. मंडी की करीब 6 से 7 दुकाने जलकर खाक हो चुकी थी. ये सभी दुकानें बारदाने की बताई जा रही है. 

COVID-19: देश में 24 घंटे में 6767 नए केस और 140 मरीजों की मौत, कुल मरीजों की संख्या हुई 1 लाख 31 हजार 868

फायर बिग्रेड ने बुझाई आग:
जानकारी के मुताबिक अजमेर जिले ओर आसपास के क्षेत्रों में अनाज की पूर्ति करने वाली कृषि अनाज मंडी में रविवार सुबह तड़के भीषण आग लग गई. आग की सूचना मिलते ही दुकानदार, मंडी के पदाधिकारी, फायर बिग्रेड  और पुलिस मौके पर पहुंची. आग ने धीरे धीरे विकराल रूप धारण कर लिया. वहीं फायर बिग्रेड के द्वारा आग को बुझाया गया. 

आग लगने के कारणों को नहीं हुआ खुलासा:
वहीं करीब 6 से 7 दुकानें जलकर खाक हो गई. सभी दुकानें वारदाने की बताई जा रही है. जानकारी के मुताबिक दुकान में वारदाने का सामान होने की वजह से आग की लपटें तेज होती नजर आई. वहीं फायर बिग्रेड के द्वारा दुकान की पीछे की दीवार को तोड़कर आग बुझाई गई. हालांकि अभी तक आग लगने के कारणों का खुलासा नहीं हुआ है. 

एक पिता की अनूठी पहल, प्रवासी बेटे के आइसोलेशन के लिए बना दिया सर्व सुविधाओं युक्त ढाई दिन का झोपड़ा

अलीपुरा में कोरोना पॉजिटिव मिलते ही मचा हड़कम्प, मुंबई से लौटा युवक पाया गया संक्रमित 

अलीपुरा में कोरोना पॉजिटिव मिलते ही मचा हड़कम्प, मुंबई से लौटा युवक पाया गया संक्रमित 

अजमेर: पीसांगन उपखण्ड क्षेत्र के अलीपुरा में मुंबई-महाराष्ट्र से लौटे युवक के कोरोना पॉजिटिव आते ही प्रशासन हरकत में आया. प्रशासन ने सीमित क्षेत्र को सील करते हुए सम्पर्क में आए लोगों की स्वास्थ्य परीक्षण करने के साथ प्रभावित इलाके में हाइपो क्लोराइड का छिड़काव शुरू कर दिया.

प्रसव पीड़ा से तड़प रही प्रसूता के लिए हड्डियों का डॉक्टर बना देवदूत, वार्ड में पहुंचने से पहले ही कराया प्रसव 

चिकित्सा टीम पहुंची मौके पर:
मुख्य ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी डॉ. घनश्याम ने बताया कि अलीपुरा में 42 वर्षीय मुंबई से लौटा प्रवासी कोरोना जांच में पॉजिटिव पाया गया. युवक के पॉजिटिव निकलने के साथ ही उपखण्ड अधिकारी समदरसिंह भाटी, पुलिस उप अधीक्षक ग्रामीण विनोदकुमार सिप्पा, थानाधिकारी नरेंद्रसिंह राठौड़ मय जाब्ता चिकित्सा टीम के साथ मौके पर पहुंचे.

युवक की खंगाली जा रही है ट्रेवल हिस्ट्री:
पीड़ित युवक की ट्रेवल हिस्ट्री और सम्पर्क में आए शख्सों की सूची तैयार कर स्वास्थ्य परीक्षण किया, साथ ही सम्पर्क में आए 9 और गुजरात से लौटे 11 प्रवासियों को सेंपल के लिए अजमेर भेजा, सरपंच प्रतिनिधि रमजान खान ने प्रभावित इलाके में सोडियम हाइपो क्लोराइड का छिड़काव शुरू करवाया.

Rajasthan Corona Updates: राजस्थान में कुल 6 हजार 657 कोरोना संक्रमित, अब तक 156 मरीजों की मौत, 163 नए मामले आये सामने

सामूहिक दुष्कर्म का आरोपी निकला कोरोना पॉजिटिव, अजमेर के दरगाह थाना क्षेत्र का मामला

सामूहिक दुष्कर्म का आरोपी निकला कोरोना पॉजिटिव, अजमेर के दरगाह थाना क्षेत्र का मामला

अजमेर: राजस्थान के अजमेर जिले में लगातार कोरोना वायरस के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं. वहीं राहत की खबर यह भी है कि अब अजमेर जेएलएन अस्पताल में कोरोनावायरस मरीज भी नेगेटिव ज्यादा होने लगे हैं, वहीं डॉक्टरों द्वारा पॉजिटिव मरीजों का सफल इलाज करके अधिकतर मरीजो को छुट्टी भी दे दी गई है.

कलयुगी बाबा की करतूत..! इलाज के बहाने पिलाई महिला को नशे की दवा, फिर किया दुष्कर्म

दरगाह क्षेत्र में मचा हड़कंप: 
वहीं गुरुवार को अजमेर के दरगाह थाना क्षेत्र से एक आरोपी भी कोरोना पोजीव मिला है.  जानकारी के मुताबिक दो दिन पूर्व दरगाह थाना पुलिस ने दो आरोपियों को सामूहिक दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार किया था, जिसमें से एक आरोपी की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद दरगाह क्षेत्र में हड़कंप मच गया.

खंगाली जा रही है मरीज की कांटेक्ट हिस्ट्री: 
वहीं आरोपी के पॉजिटिव आने के बाद दरगाह थाना पुलिस भी सख्ती में आ गई. वहीं  मेडिकल की टीम भी दरगाह थाना पहुंची ओर थाने में संपर्क में आये पुलिस कर्मियों की भी जांच शुरू करवा दी है. जानकारी के मुताबिक पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में करीब 5 पुलिस कर्मी आये थे. उन्हें क्वारंटाइन भी किया जा सकता है. वहीं मरीज कि अब कांटेक्ट हिस्ट्री का भी पता लगाया जा रहा है. वहीं आरोपी को जेएलएन अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करवाया गया है, जहां पर उसका उपचार जारी है.

8 माह की गर्भवती सूरत से पैदल चलकर पहुंची यूपी बॉर्डर, कहा-रास्ते में किसी नहीं की मदद  

अजमेर में कोरोना संदिग्ध ने लगाई अस्पताल में फांसी, उत्तर प्रदेश का रहने वाला था संदिग्ध मरीज

अजमेर में कोरोना संदिग्ध ने लगाई अस्पताल में फांसी, उत्तर प्रदेश का रहने वाला था संदिग्ध मरीज

अजमेर: राजस्थान के अजमेर जिले के जवाहरलाल नेहरू चिकित्सालय में सोमवार को एक कोरोना संदिग्ध मरीज ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. मरीज टॉयलेट में रस्सी से फांसी का फंदा बना कर उस पर झूल गया. वह उत्तरप्रदेश का रहने वाला था. वे पिछले दो दिन से अस्पताल में भर्ती था. इस घटना से अस्पताल में भर्ती मरीज परेशान हैं.जानकारी के मुताबिक जेएलएन में बनाए गए कोविड-19 सस्पेक्टेड वार्ड में भर्ती बरेली निवासी एक युवक ने वार्ड के शौचालय में फांसी लगाकर जान दे दी. 

केंद्रीय गृह सचिव ने सभी राज्यों को दिए निर्देश, मेडिकल स्टाफ के साथ निजी क्लीनिकों को खोलने की दें अनुमति 

अस्पताल के टॉयलेट में लगाई फांसी:
वह सुबह टॉयलेट गया था. काफी देर तक बाहर नहीं आया तो वहां भर्ती मरीजों ने नर्सिंग स्टाफ को इस बारे में बताया. स्टाफ ने भी आवाज दी, लेकिन भीतर से कोई जवाब नहीं मिला. इस पर स्टाफ ने मशक्कत के बाद गेट को तोड़ा तो भीतर का नजारा देखकर सब सन्न रह गए.टॉयलेट में मरीज फांसी पर लटका था. अस्पताल प्रशासन ने इसकी सूचना पुलिस को दी. 

दो दिन पहले कराया था भर्ती :
तबीयत बिगड़ने पर मरीज को दो दिन पहले ही भर्ती कराया गया था. उसका सैंपल जांच के लिए भेजा गया था. कोरोना की रिपोर्ट अभी आई नहीं है, लेकिन वह तनाव में था. सुबह ही उसने आत्महत्या कर ली. मरीज ने रस्सी से फांसी का फंदा लगाया. सवाल यह उठ रहा है कि अस्पताल में रस्सी कहां से आई. अस्पताल प्रशासन अब जांच करवाने का मानस बना रहा है. अस्पताल के लिए यह चिंता की बात है क्योंकि इस बीमारी से कई लोग डिप्रैशन में भी चले जाते हैं.

Rajasthan Corona Updates: राजस्थान में कुल 3940 कोरोना संक्रमित, अब तक 110 लोगों की मौत, 126 नए पॉजिटिव आये सामने

Open Covid-19