Live News »

पार्षद की दबंगई, पालिकाध्यक्ष को जबरदस्ती बैठाया गाड़ी में, जबरन करवाए हस्ताक्षर 

पार्षद की दबंगई, पालिकाध्यक्ष को जबरदस्ती बैठाया गाड़ी में, जबरन करवाए हस्ताक्षर 

सिरोही: सिरोही जिले के माउंट आबू में पालिकाध्यक्ष को जबरदस्ती गाड़ी में बैठाकर जबरन दस्तावेज पर हस्ताक्षर करवाने और जातिसूचक शब्दों से अपमानित करने का मामला सामने आया है. पालिकाध्यक्ष जीतू राणा ने मामला दर्ज करवाया और कांग्रेसी पार्षद विकास अग्रवाल पर आरोप लगाए. जिस पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की है.  

पार्षद की दबंगई:
जानकारी के अनुसार नगरपालिका अध्यक्ष जीतू राणा ने थाना में रिपोर्ट दी के 18 जनवरी को रात 8 बजे विकास अग्रवाल पार्षद वार्ड नं 1 का मेरे पास फोन आया कि मैं आपसे मिलना चाहता हुं और आपके घर आकर आपसे बात करना चाहता हूं. कुछ ही समय पश्चात मेरे घर के बाहर आये तथा मुझे फोन किया. परन्तु मैंने उस का फोन नहीं उठाया, तत्पश्चात वह मुझे जबरदस्ती एक ब्राउन कलर की गाडी मे बिठाया और कहा कि तु एसटी का आदमी है, इतनी दादागिरी क्यों कर रहा है. फिर डॉ हरिसिंह चौहान के घर के सामने ले गये तथा मेरे सामने 2 कागज प्रस्तुत कर कहा कि इस पर हस्ताक्षर कर दो. मेरे द्वारा कहा गया कि मेरे पीए द्वारा पढाये बिना कोई हस्ताक्षर नहीं करता हूं. इस पर गाडी में उपस्थित विजय लालवानी ने कहा कि भीलड़ों को ज्यादा नेतागिरी आयी है.

नगर पालिका में सैटिंग !
अधिकारी ने बताया कि इस प्रकार मेरे को डरा-धमकाकर 2 हस्ताक्षर करवाये गये तथा तारिख भी लिखने को कहा गया. इस दौरान मेरे से यह भी पुछा गया कि तुम्हारी मोहर कहां है. मैंने कहा कि नगरपालिका ऑफिस में है, तत्पश्चात 15-20 मिनिट बाद पुनः विकास अग्रवाल को फोन किया कि मेरा पीए आ गया है, आपको मोहर लगवानी हो तो कागज लेकर आ जाओ तो उन्होने कहा कि विजय लालवानी की नगर पालिका में सैटिंग है. वह मोहर अपने आप लगा लेगा. पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. 

और पढ़ें

Most Related Stories

कोरोना के लॉकडाउन में ऑनलाइन शादी, वीडियो कॉल से किया निकाह

कोरोना के लॉकडाउन में ऑनलाइन शादी, वीडियो कॉल से किया निकाह

आबूरोड(सिरोही):कोरोना वायरस जहां लोगों को घरों में बंद रहने के लिए मजबूर कर रहा हैं, तो वहीं शादी समारोह के आयोजन भी प्रभावित हो रहे हैं. ऐसे में कई जोड़े शादी की रस्मे अब डिजिटल अंदाज में निभा रहे हैं. ऐसा ही एक मामला आबूरोड में भी सामने आया है. आबूरोड डूबनगर बस्ती निवासी मोहम्मद इरफान खान ने पालनपुर निवासी मिनाज बानो के साथ वीडियो कॉलिंग के जरिए निकाह किया. वैसे तो परिवार ने तीनों भाई-बहन की एक साथ विवाह करने व आयोजन में सभी मेहमानों को न्यौता दिया था. लेकिन, कोरोना वायरस के कारण आयोजनों को स्थगित करना पड़ा.

India Lock Down: केन्द्र सरकार का फैसला, अब देश के 80 करोड़ लोगों को 2 रुपए प्रति किलो के हिसाब से मिलेगा गेहूं

लॉकडाउन से आयोजन की अनुमति नहीं मिल रही थी:
शहर के लुनियापुरा डूबनगर निवासी अहमद खान पठान के पुत्र इरफान खान पठान, पुत्री रूबिना बानो व तब्बसुम बानों की शादी पालनपुर में तय की गई थी. शादी समारोह का आयोजन मंगलवार व बुधवार को होना था. लेकिन कोरोना वायरस के कारण किए गए लॉकडाउन से आयोजन की अनुमति नहीं मिल रही थी. ऐसे में दोनों परिवार ने अहमद खान पठान व मिनाज बानो का निकाह ऑनलाइन वीडियो कॉल के जरिए किया. मौलाना ने रस्मों रिवाज के साथ निकाह करवाया. अहमद खान पठान ने बताया कि प्रशासन की ओर से धारा 144 लगाए जाने से आयोजनों की अनुमति नहीं मिल रही थी. आयोजन में भीड़भाड़ होने की आशंका के चलते वीडियो कॉलिंग के माध्यम से निकाह की रस्म अदा की गई. दो बेटियों का निकाह कोरोना वायरस को लेकर किए गए लॉकडाउन के बाद करवाएंगे.

राज्यपाल कलराज मिश्र ने आमजन को दी वरीयता, राजभवन के चिकित्सा दल को किया रिलीव
 

ट्रेन की चपेट में आने से महिला समेत 3 संतान की हुई मौत

 ट्रेन की चपेट में आने से महिला समेत 3 संतान की हुई मौत

पिंडवाड़ा (सिरोही): सिरोही जिले के पिंडवाड़ा थाना क्षेत्र में बुधवार देर रात एक महिला अपने दो बेटों और एक बेटी के साथ ट्रेन की चपेट में आ गई, जिससे चारों लोगो की दर्दनाक मौत हो गई हैं. सूचना मिलते ही पिंडवाड़ा थाने से पुलिस जाब्ता मौके पर पहुंचा और चारों मृतकों के शवों को कब्जे में लेकर मोर्चरी में रखवाया गया. पुलिस ने कड़ी मशक्कत करके मृतकों की शिनाख्त करवाई.

बीजेपी में शामिल होने के बाद पहली बार भोपाल पहुंचे ज्योतिरादित्य सिंधिया, हुआ जोरदार स्वागत

चारों मृतक एक ही परिवार के सदस्य:
पुलिस के मुताबिक चारों मृतक एक ही परिवार के हैं जिसमें कड़ा बेकरिया निवासी कन्यादेवी उसके पुत्र विष्णु व मोंटी तथा उसकी आठ वर्षीय बेटी लीला के रूप में इनकी शिनाख्त हुई हैं.मृतका के पिता भगाराम गरासिया ने बताया कि उसकी कन्यादेवी और उसके पति के बीच किसी बात को लेकर विवाद हो गया था.

 जिससे नाराज़ होकर कन्यादेवी अपने तीनों संतान के साथ घर से चली गई थी, जिसके कुछ घण्टों बाद ही ये इस हादसे के शिकार हो गए हैं. पिता की रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया हैं, वही ये आत्महत्या हैं या दुर्घटना इसको लेकर पुलिस जांच कर रही हैं.

दिल्ली में कोरोना महामारी घोषित, सभी सिनेमाहॉल 31 मार्च तक रहेंगे बंद 

बेमौसम की बारिश ने फेरा किसानों के अरमानों पर पानी, फसलें हुईं चौपट

बेमौसम की बारिश ने फेरा किसानों के अरमानों पर पानी, फसलें हुईं चौपट

सिरोही: प्रदेश के सिरोही जिले में गुरुवार शाम हुई बेमौसम की बारिश ने किसानों के अरमानों पर पानी फेर दिया हैं. तीन चार माह से पाल पोष कर बड़ी की फसलें जब पकने के समय आया तो कुदरत के कहर ने किसानों को कहीं का नही छोड़ा. खेत में लहलहाती फसलें एक झटके में चौपट हो गई. किसानों के पास इस कुदरत के इस कहर का कोई उपाय नहीं बचा. कुछ बचा हैं तो बस इन किसानों के आंखों में आंसू और मन में सरकार से कुछ मदद की आश..

मध्यप्रदेश में होने वाला आईफा अवॉर्ड्स कैंसिल, कोरोना वायरस की वजह से टला आयोजन  

जल्द गिरदावरी कर किसानों को दी जाएगी राहत: 
हालांकि प्रदेश सरकार के मुखिया ने गुरुवार को ही ट्वीट कर किसानों के इस दुःख की घड़ी में साथ देने और जल्द से जल्द गिरदावरी कर किसानों को राहत पहुंचाने की बात तो जरूर की हैं, पर ये राहत इन किसानों तक कब पहुंचेगी ये भविष्य के गर्भ में हैं. बैंक, सेठ, साहूकार और ना जाने किन किन से ऋण लेकर इन किसानों ने अपनी फसलों की बुवाई की थी. जिस बड़ा करने और पकने लायक बनाने में इन किसान परिवारों ने दिन रात एक कर दिया था. इन चार महीनों में ये किसान अपनी नींद तक भूल गए थे. 

ऊपर वाले के आगे किसी की नहीं चलती:
परिवार के हर सदस्य ने अपनी मेहनत कर इन फसलों को पकाने में अपनी अपनी भागीदारी निभाई थी, पर ऊपर वाले के आगे किसी की नहीं चलती. शायद ऊपर वाले को भी इन किसानों की खुशी देखी नही जा रही थी. और बरसात के महीनों में तरसाने वाले इंद्रदेव ने सर्दी के मौसम में ही बरसना शुरू कर दिया. और बरसात भी ऐसी की खेतों में पानी के नाले बहने शुरू हो गए. तेज़ हवा और बारिश के गठजोड़ ने किसानों को इस कदर दोहरी मार दी कि किसान न घर का रहा ना घाट का. 

VIDEO: एयरपोर्ट पर मिले 2 कोरोना संदिग्ध! दुबई से पहुंचे थे जयपुर

किसान धरती का अन्नदाता:
जिस किसान को धरती का अन्नदाता कहा जाता हैं, आज उसी अन्नदाता के घर खाना नही बन रहा हैं. इंद्रदेव के इस प्रकोप ने सिरोही जिले के किसानों के सारे सपने एक साथ मिट्टी पलित कर दिए हैं.गुरुवार तक जो किसान ठहाके लगाकर बात कर रहा था, आज उस किसान की हलक से एक शब्द तक नही निकल रहा हैं. हर चुनाव में किसानों के लिए बड़े बड़े वादे कर सरकार बनाने वाली पार्टियां कुदरत के कहर से टूटे इन किसानों को कब और कितनी राहत पहुंचती हैं ये देखने वाली बात होगी.
 

...विक्रम सिंह करणोत फर्स्ट इंडिया न्यूज सिरोही

सिरोही फोरलेन हाईवे पर भिड़े चार ट्रेलर, कोई जनहानि नहीं

सिरोही फोरलेन हाईवे पर भिड़े चार ट्रेलर, कोई जनहानि नहीं

सिरोही: सिरोही शहर के पास से गुजरने वाले फोरलेन हाईवे पर गुरुवार सुबह एक के बाद एक चार ट्रेलर आपस में भीड़ गए, लेकिन गनीमत की बात यह हैं कि ट्रेलर्स के केबिन चकनाचूर होने के बावजूद कोई जनहानि नहीं हुई. आपको बता दें कि सरणवा की पहाड़ियों में बनाए बाहरी घाट में फोरलेन हाईवे नम्बर 62 पर एक ट्रेलर चालक ने अचानक ब्रेक लगाए.

ईपीएफओ बोर्ड ने पीएफ पर घटाई ब्याज दर, 6 करोड़ कर्मचारियों को लगा झटका 

जिससे एक के बाद एक ट्रेलर आपस में टकराते गए, देखते ही देखते 4 ट्रेलर एक दूसरे से भिड़ गए, जिससे तीन ट्रेलर के केबिन पूरी तरह से चकनाचूर हो गए. एक साथ चार ट्रेलर के टकराने की सूचना मिलते ही कोतवाली पुलिस तुरन्त मौके पर पहुंच गई. वहीं स्वास्थ्य विभाग ने भी अपनी जीवनदायिनी सेवा 108 की गाड़ियां मौके के लिए रवाना कर दी.

Coronavirus Updates: हेल्थ मिनिस्टर हर्षवर्धन राज्यसभा में बोले- अब तक 29 मामलों की पुष्टि, WHO के संपर्क में सरकार

कोतवाल बुद्धाराम बिश्नोई मौके पर पहुंचे और मौका मुआयना कर जाम हुए हाईवे को खुलवाने के लिए दुर्घटनाग्रस्त वाहनों को हटाने की कार्रवाई शुरू हुई. वहीं एक तरफ की दो लेन से पूरे यातायात को डायवर्ट कर जाम खुलवाया गया. पूरे हादसे में प्रशासन के लिए राहत की बात यह रही कि इस भीषण हादसे में किसी प्रकार की कोई जनहानि नही हुई वही किसी भी व्यक्ति के चोट तक नही लगी.

जमीनी विवाद को लेकर आपस में भिड़े दो पक्ष, 11 घायल

जमीनी विवाद को लेकर आपस में भिड़े दो पक्ष, 11 घायल

सिरोही: जिले के सरूपगंज थाना क्षेत्र के रामपुरा गांव में जमीनी विवाद को लेकर दो पक्ष आपस में भीड़ गए. आपसी विवाद देखते ही देखते खूनी संघर्ष में तब्दील हो गया और दोनों पक्ष के करीब 11 लोग घायल हो गए. आपको बता दे कि सरूपगंज थाना क्षेत्र के रामपुरा गांव में लंबे समय से चल रहे एक जमीनी विवाद में एक पक्ष द्वारा निर्माण कार्य करवाया जा रहा था. जिस पर दूसरे पक्ष ने आपत्ति जताई, और देखते ही देखते दोनों पक्ष आपस मे भीड़ गए.

जयपुर के अजमेरी गेट में पटाखों की दुकान में लगी भीषण आग, बाजार में भगदड़ की स्थिति 

दो घायलों की हालत गम्भीर:
इस खूनी संघर्ष में दो महिलाओं सहित 11 लोग घायल हुए हैं. सभी घायलों को सरूपगंज अस्पताल लाया गया, जहां घायलों घायलों का उपचार किया गया. जिसमें से दो घायलों की हालत गम्भीर बताई जा रही है. जिनका उपचार जारी है. सूचना पर सरूपगंज थानाधिकारी भंवरलाल चौधरी अस्पताल पहुंचे और पूरे मामले की जानकारी ली. 

राजस्थान सरकार ने किए 12 RAS अधिकारियों के तबादले, यहां देखे पूरी लिस्ट 

VIDEO: पिता ही निकला बेटे का हत्यारा, फिर बनाई अपहरण की झूठी कहानी

पिंडवाड़ा(सिरोही): जिले के पिंडवाड़ा थाने में दर्ज पंकज सुथार हत्याकांड का आज 19 दिन बाद आखिरकार पुलिस ने पूरे मामले से पर्दा उठा दिया हैं. पुलिस ने मामले का खुलासा करते हुए मृतक पंकज सुथार के पिता प्रवीण सुथार सहित कुल पांच आरोपियों को हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर लिया हैं. पुलिस के अनुसार मृतक पंकज सुथार और उसके पिता प्रवीण सुथार में कई दिनों से अनबन चल रही थी. जिसको लेकर कई बार पुत्र पंकज ने पिता का गिरेबान तक पकड़ा था. जिससे खफा होकर पिता प्रवीण सुथार ने बेटे को मारने की योजना बनाई और बेटे को मारने के लिए पांच लोगों को एक लाख पच्चीस हजार रुपयों की सुपारी दी गई.

Delhi Elections: रविवार को तीसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे केजरीवाल, रामलीला मैदान में होगा समारोह

मफलर से पंकज का गला दबाकर हत्या की:
घटना के दिन जब पंकज हमेशा की तरह बस से जनापुर चौराहे पर उतरा, जहां से उसके पिता प्रवीण सुथार ने उसे मोटरसाइकिल पर बिठाया और लकड़ी खरीदने का कहकर उसे हाईवे की तरफ लेकर गया. पहले तो उसने अपने पुत्र का मोबाइल लिया फिर अपने पास रखे एक दूसरे मोबाइल से हत्या के लिए हायर किए लोगों को बुलाया. वहां पहले से घात लगाकर बैठे प्रवीण सुथार के हायर किए गए लोग एक कमांडर गाड़ी लेकर आए, और पंकज को गाड़ी में बैठाकर सुनसान जगह पर लेकर गया. रात के अंधेरे में उन लोगों ने मफलर से पंकज का गला दबाकर हत्या कर दी. सबूत मिटाने के लिए शव पर पेट्रोल छिड़कर आग के हवाले कर दियाऔर हत्यारे वहां से फरार हो गए और इसकी सूचना प्रवीण सुथार को भी दे दी. जिस पर प्रवीण सुथार सीधे जनापुर चौराहे पहुंचा और पंकज के अपहरण की कहानी गढ़ी गई. पिंडवाड़ा थाने पहुंचकर अपहरण होने की रिपोर्ट पेश की. लेकिन प्रवीण सुथार के जनापुर चौराहे पहुंचने की पुष्टि नही होने के चलते पिंडवाड़ा पुलिस ने यह कहते हुए मामला दर्ज नही किया कि पंकज को अंतिम बार सिरोही में देखा गया था तो मामला भी सिरोही कोतवाली थाने में दर्ज किया जाएगा. जिस पर दूसरे दिन कोतवाली थाने में मामला दर्ज करवाया गया. 

आरोपी पिता ने पुलिस का ध्यान भटकाने का प्रयास किया:
वहीं मामला दर्ज होने के दूसरे दिन यानी 23 जनवरी को पंकज का शव रोहिड़ा थाना क्षेत्र के सिलवा फली के पास जंगलों में अधजली अवस्था में पड़ा मिला. शव की शिनाख्त के लिए जब प्रवीण सुथार को मौके पर बुलाया तो उसने तुरन्त शव की शिनाख्त कर इसे पंकज का शव होना बताया. पुलिस ने पिता की रिपोर्ट पर हत्या का मामला दर्ज कर पिंडवाड़ा थाना पुलिस ने अज्ञात हत्यारों की तलाश शुरू की. इस बीच आरोपी ने शातिराना अंदाज में पुलिस का ध्यान भटकाने व परिवार पर शक नही करें, उसके पूरे प्रयास किए. पहले तो जब तक हत्यारों की गिरफ्तारी नही हो तब तक शव नहीं उठाने की जिद पर अड़ गया. पुलिस प्रशासन की समझाइश के बाद शव का अंतिम संस्कार किया गया. 

AAP विधायक के काफिले पर फायरिंग में नरेश यादव नहीं थे टारगेट, हिरासत में आरोपी

हत्यारे पिता ने पुलिस पर लगाए ढिलाई बरतने का आरोप:
पुलिस इस गुत्थी को सुलझाने में लगी हुई थी कि प्रवीण सुथार ने एक बार फिर से समाज बंधुओं और ग्रामीणों को एकजुट कर पिंडवाड़ा थाने का घेराव करवाया. करीब चार घण्टे तक पिंडवाड़ा शहर का बाजार बंद रहा, लोगों ने पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए. हत्यारे पिता ने सिरोही विधायक से मिलकर पिंडवाड़ा थानाधिकारी सुमेरसिंह पर ढिलाई बरतने की शिकायत की. विधायक संयम लोढ़ा ने इस मामले को हाईप्रोफाइल बनाने के लिए विधानसभा तक लेकर गए. पिंडवाड़ा सीआई सुमेरसिंह को हटाने की भरसक कोशिश की गई. लेकिन सीआई सुमेरसिंह अपनी टीम के साथ पंकज के हत्यारे को ढूंढने के लिए आधुनिक तकनीक के सहारे दिन रात लगे रहे. देर रात जब मामले की पहली कड़ी उनके हाथ लगी और सीधे शक की सुई मृतक के पिता पर आई, तो डिप्टी किशोरसिंह, सीआई सुमेरसिंह रात को ही उसके घर गए और प्रवीण सुथार को थाने लाया गया. प्रवीण से मनोवैज्ञानिक तरीके से पूछताछ की तो एक के बाद एक राज खुलते गए और स्वयं प्रवीण सुथार ने अपने बेटे की हत्या के लिए सुपारी देने का पूरा राज खोल दिया. पुलिस ने चार हत्यारो को भी गिरफ्तार कर लिया हैं. वहीं एक आरोपी अभी तक पुलिस गिरफ्त से बाहर हैं.

Panchayati Raj Election 2020: सिरोही-पिंडवाड़ा में 17 करोड़पति लड़ रहे सरपंच का चुनाव, कई जगह रिश्ते भी लगे दांव पर

Panchayati Raj Election 2020: सिरोही-पिंडवाड़ा में 17 करोड़पति लड़ रहे सरपंच का चुनाव, कई जगह रिश्ते भी लगे दांव पर

सिरोही: जिले की दो पंचायत समितियों में पंच सरपंच के लिए कल मतदान होने वाला हैं. जिसके लिए जिला प्रशासन ने तैयारियां पूर्ण कर ली हैं. आज मतदान दलों को अंतिम प्रशिक्षण देकर मतदान केंद्रों के लिए रवाना भी कर दिया हैं. वहीं कल सवेरे 8 बजे से मतदान शुरू होगा, जो शाम 5 बजे तक चलेगा. मतदान समाप्ति के साथ ही मतगणना शुरू होगी और जल्द ही सरपंच के नतीजे भी आने शुरू हो जाएंगे. शांतिपूर्ण, भयमुक्त और निष्पक्ष चुनाव के लिए पुलिस प्रशासन ने भी पूरी तरह से माकूल व्यवस्था कर रखी हैं. तीसरे चरण के मतदान के लिए बनाए मतदान केंद्रों में से कुल 12 मतदान केंद्रों को अतिसंवेदनशील मतदान केंद्र घोषित किया गया हैं. वहां अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया, ताकि किसी भी प्रकार की कोई अप्रिय घटना घटित ना हो. वहीं मोबाइल टीमों द्वारा भी प्रत्येक बूथ पर पूरे दिन पेट्रोलिंग की जाएगी. 

तीसरे चरण के चुनाव सिरोही जिले में दिलचस्प चुनाव बने हुए:  
तीसरे चरण के चुनाव सिरोही जिले में दिलचस्प चुनाव बने हुए हैं. सिरोही और पिंडवाड़ा क्षेत्र की 73 ग्राम पंचायतों में कुल 17 उम्मीदवार ऐसे हैं जिनकी संपत्ति करोड़ों में हैं. इनमें कालंद्री से सरपंच चुनाव लड़ने वाले महिपालसिंह देवड़ा के पास 9 करोड़ 56 लाख की संपत्ति हैं. वहीं 19 उम्मीदवार ऐसे हैं जिनके पास संपत्ति के नाम पर कुछ भी नही हैं. अब देखना दिलचस्प रहेगा कि जनता करोड़पति को चुनती हैं या फिर गरीब को गणेश मानकर पांच साल के लिए सरपंच की कुर्सी सौंपती हैं. ये तो कल शाम को परिणाम आने के बाद ही साफ हो पायेगा.

चुनाव में कई जगहों पर रिश्ते भी दांव पर लग गए:
वहीं इस बार सरपंच के चुनाव में कई जगहों पर रिश्ते भी दांव पर लग गए हैं. पिंडवाड़ा पंचायत समिति की बात करें तो यहां की नितोड़ा ग्राम पंचायत में एक नही दो-दो देवरानियों-जेठानियों में सरपंच बनने का जुनून जग गया हैं. देवरानी चम्पादेवी रावल व जेठानी कमला देवी रावल, तथा देवरानी सुंदर प्रजापत व जेठानी सुंदरदेवी प्रजापत आमने सामने चुनाव लड़ रही हैं. वही नया सानवाड़ा में भी देवरानी श्यामकंवर व जेठानी अंजूकंवर ने सरपंच बनने के लिए आमने सामने ताल ठोक दी हैं. वही क्षेत्र की झाड़ोली ग्राम पंचायत में ताऊ भतीजा भी सरपंच बनने के लिए एक दूसरे के सामने खड़े हैं.

...विक्रमसिंह करणोत, 1st इंडिया न्यूज सिरोही

फोरलेन पर चलता ट्रक बना आग का गोला, मची अफरातफरी

फोरलेन पर चलता ट्रक बना आग का गोला, मची अफरातफरी

आबू रोड(सिरोही): आबू रोड पालनपुर फोरलेन नेशनल हाईवे पर आज उस वक्त अफरा-तफरी मच गई, जब सड़क मार्ग पर चलते एक ट्रक में अचानक आग लग गई. देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया. जिसे देख ट्रक ड्राइवर व खलासी ने ट्रक को बीच सड़क पर खड़ा करके ट्रक से नीचे कूदकर अपनी जान बचाई. फोरलेन पर ट्रक में आग की उठती लपटें देख एक बारगी तो दोनों तरफा यातायात थम सा गया. 

दमकल पहुंची तब तक पूरा ट्रक आग का गोला बन गया: 
सूचना मिलते ही गुजरात के अमिरगढ़ पुलिस का जाब्ता मौके पर पहुंचा. फोरलेन टोल कम्पनी एलएंडटी की रुट पेट्रोलिंग टीम भी मौके पर पहुंची और दमकल को मौके पर बुलाया. दमकल पहुंची तब तक पूरा ट्रक आग का गोला बन गया था, जिसे काबू करना नामुमकिन था. पर दमकलकर्मियों ने आग पर काबू पाने के खूब प्रयास किए, लेकिन तब तक ट्रक जलकर खाक हो चुका था. आपको बता दे ये ट्रक सिमेंट निर्माण सामग्री भरकर गुजरात के अहमदाबाद से हिमाचलप्रदेश के लिए जा रहा था, तभी ये हादसा हो गया. गनीमत रही इस हादसे में कोई जनहानि नही हुई. 
 

Open Covid-19