मुंबई महाराष्ट्र सरकार का बड़ा फैसला, बढ़ते कोरोना के कारण 10वीं, 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं टाली

महाराष्ट्र सरकार का बड़ा फैसला, बढ़ते कोरोना के कारण 10वीं, 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं टाली

महाराष्ट्र सरकार का बड़ा फैसला, बढ़ते कोरोना के कारण 10वीं, 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं टाली

मुंबई: कोविड-19 के मामलों में तेजी से हो रही वृद्धि के मद्देनजर महाराष्ट्र सरकार ने इस महीने राज्य बोर्ड द्वारा आयोजित होने वाली 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं टालने का सोमवार को फैसला किया. राज्य में 12वीं बोर्ड की परीक्षा 23 अप्रैल से और 10वीं कक्षा की परीक्षा 30 अप्रैल से शुरू होने वाली थी.

12वीं कक्षा की परीक्षा मई के अंत में और 10वीं की परीक्षा जून में 
राज्य की स्कूल शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ ने ट्वीट किया कि महाराष्ट्र में कोविड-19 के मौजूदा हालात के मद्देनजर हमने 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को टालने का फैसला किया है. मौजूदा हालात परीक्षा आयोजित करने के अनुकूल नहीं हैं. आपका स्वास्थ्य हमारी प्राथमिकता है.  उन्होंने सिलसिलेवार ट्वीट में कहा कि पेशेवर पाठ्यक्रमों के लिए प्रवेश परीक्षा के कार्यक्रम को ध्यान में रखते हुए 12वीं कक्षा की परीक्षा मई के अंत में होगी और 10वीं की परीक्षा जून में आयोजित होगी. गायकवाड़ ने कहा कि हालात की निगरानी की जा रही है और स्थगित की गयी परीक्षाओं के लिए तारीखों की घोषणा जल्द की जाएगी.

विचार-विमर्श के बाद लिया गया फैसलाः
मंत्री ने कहा कि छात्रों, शिक्षकों, अभिभावकों, विभिन्न दलों के निर्वाचित प्रतिनिधियों, शिक्षाविदों, तकनीकी जानकारों के साथ विचार-विमर्श करने के बाद यह निर्णय किया गया. गायकवाड़ ने कहा कि हम सीबीएसई, आईसीएसई, आईबी, कैंब्रिज बोर्ड को भी पत्र लिखकर उनकी परीक्षाओं की तारीखों पर फिर से विचार करने के लिए कहेंगे.

विभिन्न वैकल्पिक मूल्यांकन किया जाएगा विचारः
फैसले को मंजूरी देने के लिए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का शुक्रिया अदा करते हुए गायकवाड़ ने कहा कि छात्रों के भविष्य, स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए विभिन्न वैकल्पिक मूल्यांकन पर भी विचार किया गया. मंत्री ने कहा कि परीक्षाएं स्थगित करना ही सबसे व्यावहारिक समाधान प्रतीत हुआ. महाराष्ट्र में रविवार को कोविड-19 के एक दिन में सर्वाधिक 63,294 मामले आए थे. राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 34,07,245 हो गई है.
सोर्स भाषा

और पढ़ें