उत्तराखंडः मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने 18-44 वर्ष आयुवर्ग का कोविड टीकाकरण अभियान का किया आगाज

उत्तराखंडः मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने 18-44 वर्ष आयुवर्ग का कोविड टीकाकरण अभियान का किया आगाज

उत्तराखंडः मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने 18-44 वर्ष आयुवर्ग का कोविड टीकाकरण अभियान का किया आगाज

देहरादूनः मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने सोमवार को उत्तराखंड में 18 से 44 वर्ष आयुवर्ग के लोगों के लिए कोविड टीकाकरण अभियान आरंभ किया. राजधानी देहरादून में हरिद्वार बायपास मार्ग पर राधा स्वामी सत्संग न्यास में टीकाकरण की शुरूआत करते हुए मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि उत्तराखंड देश का पहला ऐसा राज्य है जहां इस टीके को निशुल्क लगाने की घोषणा की गई. उन्होंने कहा कि आज से यहां इस टीकाकरण अभियान की विधिवत शुरुआत हो गई है. 

प्रदेश के 50 लाख लोगों को लगाया जाएगा कोविड रोधी टीकाः
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में टीकाकरण अभियान का तीसरा दौर शुरू हो गया है जिसके तहत 18-44 वर्ष आयुवर्ग के लोगों का कोविड टीकाकरण होना है. उन्होंने कहा कि इस आयुवर्ग में प्रदेश के 50 लाख लोगों को कोविड रोधी टीका लगाया जाएगा. रावत ने कहा कि उत्तराखंड में सबसे पहले 18 से 44 वर्ष के लोगों के मुफ़्त टीकाकरण की घोषणा की गई और राज्य सरकार इस पर 400 करोड़ रुपए का खर्च वहन करेगी.

मुख्यमंत्री ने की टीकाकरण के बाद भी कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने की अपीलः
मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार का लक्ष्य कोविड टीकाकरण अभियान को न्याय पंचायत स्तर तक ले जाना है और इसके लिए न्याय पंचायत स्तर पर भी कैंप लगाए जाएं. मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी को टीकाकरण हेतु बनाए गए सभी बूथों पर बुजुर्गों, दिव्यांगों हेतु अलग से व्यवस्था करने के निर्देश भी दिए ताकि उन्हें किसी भी प्रकार की परेशानी न हो. मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने प्रदेशवासियों से अपील की कि टीकाकरण के बाद भी वे मास्क पहनें, हाथों को धोएं और कोविड प्रोटोकॉल का पूरा पालन करें. मुख्यमंत्री ने प्रदेश वासियों से भीड़भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचने को भी कहा.

देहरादून में केन्द्रों पर देखने को मिली अव्यवस्थाएंः
इस बीच, देहरादून में बनाए गए कई बूथों जैसे प्रेमनगर में अभियान की शुरूआत में ही अव्यवस्थाएं देखने को मिलीं जहां लोगों को कतारों में अपनी बारी का लंबा इंतजार करना पड़ा जिससे इन जगहों पर भीड़ इकट्ठी हो गई.
सोर्स भाषा

और पढ़ें