नई दिल्ली कोविशील्ड वैक्सीन की कीमत तय, राज्य सरकारों को एक डोज 400 में तो निजी अस्पतालों को 600 रुपये में मिलेगी

कोविशील्ड वैक्सीन की कीमत तय, राज्य सरकारों को एक डोज 400 में तो निजी अस्पतालों को 600 रुपये में मिलेगी

कोविशील्ड वैक्सीन की कीमत तय, राज्य सरकारों को एक डोज 400 में तो निजी अस्पतालों को 600 रुपये में मिलेगी

नई दिल्ली: देश में कोरोना (Coronavirus) के बढ़ते मामलों के बीच भारत सरकार के निर्देशों के बाद सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) ने कोविशील्ड वैक्सीन की कीमतों (covishield price) की घोषणा कर दी है. राज्य सरकारों को वैक्सीन की एक डोज 400 रुपये में मिलेगी. वहीं, निजी अस्पतालों (private hospital) को इसके लिए 600 रुपये प्रति डोज चुकाने होंगे. 

गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने सोमवार को कहा कि एक मई से 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोग कोविड-19 की रोकथाम के लिए टीका लगवा सकेंगे. सरकार ने टीकाकरण अभियान में ढील देते हुए राज्यों, निजी अस्पतालों और औद्योगिक प्रतिष्ठानों को सीधे टीका निर्माताओं से खुराक खरीदने की अनुमति भी दे दी है. अभी तक सिर्फ केंद्र सरकार ही वैक्सीन खरीद रही थी और अलग-अलग राज्यों में बांट रही थी. 

अभी भी 50 फीसदी वैक्सीन केंद्र सरकार को मिलेगी:
केंद्र सरकार के अनुसार, अभी भी 50 फीसदी वैक्सीन केंद्र सरकार को मिलेगी, जबकि बाकी 50 फीदसी राज्य सरकारें सीधे वैक्सीन निर्माताओं से ले पाएंगी. इसके साथ ही प्राइवेट सेक्टर भी अब ऐसा कर सकता है. सीरम इंस्टीट्यूट के जारी एक बयान के अनुसार अगले दो महीने के लिए वह बड़े स्तर पर केंद्र और राज्य सरकारों को वैक्सीन उपलब्ध कराएगा. उसके बाद वैक्सीन का प्रोडक्शन बढ़ने के साथ ही रिटेल बाजार के लिए भी इसे खोल दिया जाएगा.  

अभी तक भारत सरकार को 200 रुपये प्रति डोज के हिसाब से वैक्सीन मिल रही थी:
बता दें कि सीरम इंस्टीट्यूट से अभी तक भारत सरकार को 200 रुपये प्रति डोज के हिसाब से वैक्सीन मिल रही थी. फिर सरकारी अस्पतालों में केंद्र सरकार द्वारा ये वैक्सीन मुफ्त लगाई जा रही थी, वहीं प्राइवेट सेंटर्स पर 250 रुपये प्रति डोज के हिसाब से दाम तय किया गया था. अब भारत सरकार के 1 मई से नई वैक्सीनेशन चरण में 18 साल से अधिक उम्र वाले सभी लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी. लेकिन तब भी  45 साल से अधिक उम्र वाले लोगों को जिस तरह से वैक्सीन लगाई जा रही है वो जारी रहेगी. यानी सरकारी सेंटर्स में इनके लिए वैक्सीन मुफ्त उपलब्ध रहेगी.  

और पढ़ें