Live News »

राजस्थान पुलिस के लिए बड़ी चुनौती बनी साइबर ठगी, नहीं थम रही वारदातें

राजस्थान पुलिस के लिए बड़ी चुनौती बनी साइबर ठगी, नहीं थम रही वारदातें

जयपुर: साइबर ठगी यानी ऑनलाइन ठगी राजस्थान पुलिस के लिए बड़ी चुनौती बन गई है. कभी ओटीपी लेकर लोगों के खातों से पैसे उड़ाने वाले, कभी पेमेंट ऐप से चूना लगाने वाले या फिर नौकरी लगाने वाले और सेना पर भरोसे की आड़ लेने के बाद अब शातिर ठग हर रोज ठगी का नया तरीका इजाद कर रहे है. हर रोज साइबर थाने में दर्ज होते इन मामलों ने पुलिस की भी चिंता बढ़ा दी है. एक बार फिर शातिर ठगों ने जयपुर में कई लोगों को अपना शिकार बनाते हुए लाखों रूपए की ठगी की है. 

झांसों में न आने की नसीहत के बाद भी ऐसी वारदातें थम नहीं रही: 
राजस्थान की राजधानी जयपुर में ऑनलाइन व सोशल मीडिया के जरिए बढ़ती ठगी की वारदाते इन दिनों जयपुर पुलिस कमिश्नरेट के लिए बड़ी चुनौती बनता जा रहा है. दूर बैठे ये शातिर ठग सोशल मीडिया, इंटरनेट या फिर मोबाइल फोन के जरिए मासूम लोगों को अपने झांसे में लेकर ठगी का शिकार बना रहे है. पुलिस द्वारा ऐसे झांसों में न आने की नसीहत के बाद भी ऐसी वारदातें थम नहीं रही है. 

जयपुर में फिर शातिर ठगों ने दिया ठगी को अंजाम: 
जयपुर में फिर शातिर ठगों ने नौकरी लगाने, मेडिकल कॉलेज में दाखिल कराने और खाते से पैसा निकालने के साथ ही क्रेडिट कार्ड से ऑनलाइन शॉपिंग कर दीनदयाल जाखड़, बालेश्वर प्रसाद, प्रहलाद राय, नवीन अग्रवाल को अपना शिकार बनाया है. इन शातिर ठगों ने पीड़ितों को अपने झांसे में लेकर लाखों रूपए की ठगी को अंजाम दिया है. ठगी का शिकार होने की जानकारी लगते ही ये पीड़ित जयपुर पुलिस कमिश्नरेट के विशेष अपराध व साइबर अपराध थाने पहुंचे और मामला दर्ज कराया है. 

लालच के चलते लोग हो रहे ठगी का शिकार:  
ऑनलाइन या साइबर ठगी की वारदातों को लेकर जयपुर पुलिस का विशेष अपराध व साइबर पुलिस थाना लगातार मामलों की जांच कर शातिर ठगों को पकड़ने में जुटा हुआ है. पुलिस मीडिया या सोशल मीडिया के जरिए लोगों को ऐसे ठगों से सावधान रहने की नसीहत भी दे रही है. लेकिन फिर भी जागरूकता की कमीं और लालच के चलते लोग ठगी का शिकार हो रहे है. 

...सत्यानारायण शर्मा फर्स्ट इंडिया न्यूज जयपुर

और पढ़ें

Most Related Stories

Rajasthan Corona Updates: पिछले 24 घंटे में 3 मरीजों की मौत, 236 नए पॉजिटिव केस आये सामने, अकेले जयपुर में मिले सर्वाधिक 32 केस 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 24 घंटे में 3 मरीजों की मौत, 236 नए पॉजिटिव केस आये सामने, अकेले जयपुर में मिले सर्वाधिक 32 केस 

जयपुर: राजस्थान में लगातार कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है. राजस्थान में पिछले 24 घंटे में 3 मरीजों की मौत हो गई. जबकि 236 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. जयपुर में 2, राजसमंद में एक मरीज की मौत हो गई. सर्वाधिक 32 केस अकेले जयपुर में सामने आये है. अजमेर में 2, बाड़मेर में 4, भरतपुर में 2, भीलवाड़ा में 9, बीकानेर में 7, चित्तौड़गढ़ में 4, दौसा में 1, धौलपुर में 2, डूंगरपुर में 12, गंगानगर 1, झालावाड़ 12, झुंझुनूं 5, जोधपुर 7, कोटा 10, नागौर 13, पाली 23, प्रतापगढ़ 1, राजसमंद 11, सवाई माधोपुर 1, सीकर 25, सिरोही 27, उदयपुर 25 केस सामने आये है. वहीं राजस्थान में कुल 170 लोगों की कोरोना की चपेट में आने से मौत हो चुकी है. वहीं अब तक कुल 7 हजार 536 पॉजिटिव मरीज मिल चुके है.

जयपुरिया की तर्ज पर एक जून से SMS भी होगा कोरोना फ्री, OPD से IPD तक में चिकित्सा सेवाओं में दिखेगा बदलाव

अब तक 170 लोगों की मौत:
राजस्थान में कोरोना से अब तक 170 लोगों की मौत हुई है. इनमें जयपुर में सबसे ज्यादा 85 (जिसमें चार यूपी से) की मौत हुई. इसके अलावा, जोधपुर में 17, कोटा में 16, पाली और नागौर में 6, भरतपुर में 5, अजमेर में 6, चित्तौड़गढ़ और सीकर में 4-4, बीकानेर में 3, जालौर, करौली, अलवर और भीलवाड़ा 2-2, उदयपुर, बांसवाड़ा, चूरू, प्रतापगढ़, सवाई माधोपुर और टोंक में 1-1 की मौत हो चुकी है. वहीं दूसरे राज्य से आए एक व्यक्ति की भी मौत हुई है.राजसमंद में एक मरीज की मौत हो गई.

सोमवार को सामने आए 272 नए मामले: 
इससे पहले सोमवार को प्रदेश में कोरोना के 272 नए मामले सामने आए हैं. इसमें सर्वाधिक 50 पॉजिटिव केस अकेले पाली जिले में सामने आये है. इसके अलावा अलवर में 5, बाड़मेर में 5, भीलवाड़ा में एक, चूरू में 17, दौसा में एक, डूंगरपुर में एक, जयपुर में 13, जालोर में 5, झुंझुनूं में 3, जोधपुर में 47, कोटा में 7, नागौर में 48, राजसमंद में 3, सवाई माधोपुर में एक, सीकर में 44, सिरोही में 9 और उदयपुर में 12 पॉजिटिव केस मिले हैं. 

28 मई को कांग्रेस का महा अभियान, प्रवासी श्रमिकों ,कामगारों की आवाज करेगी बुलंद,  AICC की VC में बनी रणनीति

28 मई को कांग्रेस का महा अभियान, प्रवासी श्रमिकों ,कामगारों की आवाज करेगी बुलंद,  AICC की VC में बनी रणनीति

28 मई को कांग्रेस का महा अभियान, प्रवासी श्रमिकों ,कामगारों की आवाज करेगी बुलंद,  AICC की VC में बनी रणनीति

जयपुर: 28मई को कांग्रेस महा अभियान शुरु करने जा रही है. अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी ने विडियो कांफ्रेसिंग की. प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और डिप्टी सीएम सचिन पायलट VC में शामिल हुए. तय हुआ है कि वर्तमान परिस्थिति में संकट के दौर से गुजर रहे लाखों की संख्या में प्रवासी श्रमिकों, किसानों, संगठित क्षेत्रों के कामगारों, एमएसएमई, छोटे कारोबारियों और दैनिक मजदूरों की आवाज को केन्द्र सरकार तक पहुंचाने के लिये कांग्रेस आवाज बुलंद करेगी. प्रदेश कांग्रेस कमेटी भी 28मई को सुबह 11 बजे से दोपहर 2 बजे तक ऑनलाईन अभियान चलायेगी. इस सम्बन्ध में मंगलवार को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव के.सी. वेणुगोपाल ने समस्त राज्यों के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्षों और कांग्रेस विधायक दल के नेताओं की वी.सी. आयोजित की.

जयपुर एयरपोर्ट से फ्लाइट संचालन का दूसरा दिन, कुल 11 फ्लाइट्स का हुआ संचालन, 20 में से 9 फ्लाइट रहीं रद्द

ऑनलाइन अभियान की तैयारियों पर विस्तृत चर्चा:
इसमें ऑनलाइन अभियान की तैयारियों पर विस्तृत चर्चा की गई. सचिन पायलट ने कहा कि सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने समय-समय पर केन्द्र सरकार को प्रवासी श्रमिकों और मजदूरों की पीड़ा को कम करने हेतु अनेक उपयोगी सुझाव दिए , जिन्हें केन्द्र सरकार ने सिरे से नकार दिया और प्रवासी श्रमिकों, किसानों, दैनिक मजदूरों, एमएसएमई, लघु उद्यमियों और गैर-संगठित क्षेत्रों के कामगारों को किसी प्रकार का सहयोग करने की बजाय उन्हें अपने हाल पर छोड़ दिया है. इन वर्गों की आवाज को केन्द्र सरकार तक पहुँचाने के उद्देश्य से उक्त अभियान चलाया जायेगा.

10 हजार रुपये की मदद की जाये:
पायलट ने बताया कि कोरोना महामारी के कारण वर्तमान परिस्थिति में ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार उपलब्ध करवाकर आर्थिक सम्बल प्रदान करने में मनरेगा योजना मददगार साबित हुई है. उन्होंने बताया कि राजस्थान में मनरेगा के तहत श्रमिक नियोजन 40 लाख से अधिक हो गया है जो कि गत् 10 वर्षों में सर्वोच्च है. पायलट ने कहा कि कांग्रेस पार्टी मांग करेंगी कि लॉकडाउन के कारण अपना रोजगार खो चुके परिवार, जो आयकर के दायरे से बाहर हैं, उन्हें केन्द्र सरकार द्वारा तुरन्त प्रभाव से 10 हजार रुपये की मदद सीधे नकद के रूप में की जाए. उन्होंने प्रदेश के सभी कांग्रेसजनों से आह्वान किया है कि इसके लिए फेसबुक, ट्वीटर, इंस्टाग्राम, यू-ट्यूब तथा अन्य सोश्यल मीडिया माध्यमों से इस देशव्यापी ऑनलाईन कैम्पेन में अनिवार्य रूप से प्रतिभागी बनकर अपने उत्तरदायित्व का निर्वाह करें.

जयपुरिया की तर्ज पर एक जून से SMS भी होगा कोरोना फ्री, OPD से IPD तक में चिकित्सा सेवाओं में दिखेगा बदलाव

जयपुरिया की तर्ज पर एक जून से SMS भी होगा कोरोना फ्री, OPD से IPD तक में चिकित्सा सेवाओं में दिखेगा बदलाव

जयपुर: राजस्थान के सबसे बड़े एसएमएस अस्पताल में एक जून से मरीजों को काफी बदलाव देखने को मिलेगा. कोरोना महामारी के चलते आम मरीजों से दूर हुए एसएमएस अस्पताल को फिर से सामान्य मरीजों यानी नॉन कोविड पेंशेटस के लिए शुरू करने की कवायद जोरशोर से चल रही है.चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा के निर्देश के बाद अस्पताल अधीक्षक डॉ राजेश शर्मा ने कोरोना की गाइडलाइन की पालना करते हुए अस्पताल को नॉन कोविड मरीजों के लिए शुरू करने का एक्शन प्लान तैयार किया है.आखिर अस्पताल को फिर से आम मरीजों के लिए शुरू करने में क्या-क्या चुनौतियां रहेगी और इनसे निपटने के लिए क्या-क्या प्लान बनाया गया है. इसको लेकर अस्पताल अधीक्षक डॉ राजेश शर्मा ने खास बातचीत की हमारे संवाददाता विकास शर्मा ने.

-तीन माह बाद फिर से सामान्य मरीजों के लिए SMS अस्पताल
-नॉन कोविड अस्पताल के लिए चल रही जोरशोर से तैयारी
-अधीक्षक डॉ राजेश शर्मा की देखरेख में एक्शन प्लान तैयार
-एक्शन प्लान के मुताबिक संदिग्ध मरीजों पर रहेगी पैनी निगाह
-सर्दी, खासी, जुखाम के मरीजों के लिए अलग से रजिस्ट्रेशन काउंटर
-ऐसे संदिग्ध मरीजों के लिए अलग से चलाई जाएगी ओपीडी
-साथ ही जब तक मरीज की नहीं आएगी कोरोना रिपोर्ट
-तब तक उसे डेडिकेटेड वार्ड में रखकर दी जाएगी चिकित्सा सुविधा
-यदि किसी मरीज की रिपोर्ट आएगी कोरोना पॉजिटिव
-तो उसे तत्काल किया जाएगा आरयूएचएस में शिफ्ट

-एसएमएस में क्राउड मैनेजमेंट पर रहेगा प्रबन्धन का फोकस
-SMS को नॉन कोविड अस्पताल बनाने के लिए चल रही तैयारी
-ओपीडी में लोगों की भीड़ को मैनेज करने के लिए ये व्यवस्था
-एक-एक घंटे में सीमित लोगों का किया जाएगा रजिस्ट्रेशन
-चिकित्सक के कक्ष में भी एक-एक मरीज को दी जाएगी एंट्री
-ओपीडी में चिकित्सकों को खुद की सेफ्टी पर रखना होगा विशेष ध्यान
-जरूरत के हिसाब से पीपीई किट का उपयोग करेंगे चिकित्सक

आदमखोर का कलंक झेल रहा बाघ T-24, वन्यजीव प्रेमियों ने उठाई रिहाई की मांग

-क्रॉनिकल डिजीज के मरीज के लिए विशेष सुविधा
-रूटिन दवा के लिए बार-बार अस्पताल में नहीं आएंगे मरीज
-ऐसे मरीजों को एक बार में ही दो से तीन माह की मिलेगी दवा
-मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना के नियमों में इसके लिए होगा बदलाव
-फिलहाल ऐसे मरीजों को एक माह तक की दी जाती है दवाएं
-लेकिन अस्पताल में मरीजों की भीड़ कम करने के लिए ये व्यवस्था
-हालांकि, RMSCL में दवाओं की उपलब्धता पर रहेगा सबकुछ निर्भर

-SMS में भर्ती मरीजों को ऑनलाइन मिलेगी रेफरेंस की सुविधा
-नॉन कोविड अस्पताल के लिए चल रही जोरशोर से तैयारी
-अधीक्षक डॉ राजेश शर्मा की देखरेख में एक्शन प्लान तैयार
-वार्ड में भर्ती मरीज को दूसरी स्पेशिलिटी के चिकित्सक से लेना होगा पराशर्म
-तो उसके लिए मरीज के परिजन नहीं भटकेंगे इधर से उधर
-सम्बधित वार्ड से सम्बन्धित विंग के चिकित्सक को ऑनलाइन भेजा जाएगा रेफरेंस
-रेफरेंस का आग्रह मिलते ही तय समय में चिकित्सक या उनके रेजिडेंट जाकर देखेंगे मरीज को

-एसएमएस अस्पताल का क्राउड मैनेजमेंट !
-नॉन कोविड अस्पताल के लिए चल रही जोरशोर से तैयारी
-अस्पताल में मरीजों के रजिस्ट्रेशन के लिए ऑनलाइन व्यवस्था पर जोर
-अस्पताल प्रबन्धन इसके लिए चलाएगा जारूकता कैम्पेन
-ताकि, एकसाथ भीड के बजाय सीमित दायरे में मरीजों को मिले उपचार

जयपुर एयरपोर्ट से फ्लाइट संचालन का दूसरा दिन, कुल 11 फ्लाइट्स का हुआ संचालन, 20 में से 9 फ्लाइट रहीं रद्द

आदमखोर का कलंक झेल रहा बाघ T-24, वन्यजीव प्रेमियों ने उठाई रिहाई की मांग

जयपुर: आदमखोर का कलंक झेलकर करीब पांच वर्ष से अपने घर यानी जंगल से बेघर हो एक बाड़े में जिंदगी काट रहे टी 24 यानी उस्ताद की रिहाई को लेकर वण्यजीव प्रेमियों में एक बार फिर मांग उठने लगी है. एनटीसीए से लेकर सीज़ेडए तक की नॉर्म्स को ताक पर रखकर उस्ताद को 16 मई 2015 को लॉकडाउन कर दिया गया था. उस्ताद पर चार लोगों की हत्या का अरोप लगाया गया, यह बात अलग है कि आज तक इनमें से एक भी घटना की पुष्टी नहीं हो सकी. पांच वर्ष से अपनी बेगुनाही की जंग लड़ रहे उस्ताद की हकीकत से पर्दा उठाती फर्स्ट इंडिया न्यूज़ की रिपोर्ट:

जंगल की दहाड़ पिंजरे की दर्दनाक जिंदगी:
रणथंभौर के जंगल में राज करने वाले 'उस्ताद' यानी बाघ टी 24 को 16 मई को लॉक डाउन में 5 वर्ष हो गए हैं. इंसान पर हमले के आरोप में उस्ताद को एक ऐसी सजा सुनाई गई जिससे उसकी जंगल की दहाड़ पिंजरे की दर्दनाक जिंदगी में बदल गई. उस्ताद आज पिंजरे में अपनी जिंदगी गुजार रहा है लेकिन सवाल उठता है कि बाघ के घर में घुसने वाले इंसान पर अगर बाघ ने हमला किया तो दोषी बाघ कैसे हुआ ? और क्या इस तरह की घटनाओं के बाद जंगल के राजा को इस तरह कैद करना उचित है..? रणथंभौर के लाहपुर क्षेत्र में वर्ष 2006 में जन्में बाघ टी 24 यानी उस्ताद के दो भाई टी 23 और टी 25 भी हैं.

उस्ताद के नाम से मशहूर T24 बाघ:
उस्ताद की दादी मशहूर बाघिन 'मछली' थी जिस पर दुनियाभर में कई डॉक्यूमेंटरी बनी. उस्ताद की मेटिंग पार्टनर नूर नाम की बाघिन है जिससे दो बाद में तीन शावक हुए. उस्ताद को उसकी ताकत और मिजाज के लिए जाना जाता है. बहरहाल रणथंभौर से उस्ताद के नाम से मशहूर T24 बाघ उस्ताद को वन रक्षक रामलाल सैनी पर हमला कर मौत के घाट उतारने के कथित आरोप में 16 मई 2015 को उदयपुर स्तिथ सज्जनगढ़ बायोलॉजिकल पार्क लाया गया था. इसके बाद ये बीच में कई बार बीमार पड़ा लेकिन उपचार के बाद स्वस्थ हो गया. कतिथ तौर पर चार व्यक्तियों की टाइगर द्वारा मौत के बाद होटल लॉबी के दबाव में टी.24 को उदयपुर स्तिथ बायोलॉजिकल पार्क शिफ्ट किया गया था. यह काम एक सीक्रेट मिशन की तरह किया गया था उस समय उदयपुर वाइल्डलाइफ के डी.एफ.ओ. टी मोहन राज थे.

वन्यजीव प्रेमियों में उस्ताद को कैद किए जाने का था रोष:
उस्ताद को जब मध्य रात्रि उदयपुर लाया गया तो पत्रकारों का जमावड़ा सज्जनगढ़ बायो पार्क के मैन गेट पर था लेकिन वन विभाग वाले पत्रकारों को गच्चा दे कर उसे सज्जनगढ़ के रामपुरा वाले गेट से अंदर ले गए. मीडिया के प्रेशर के बाद लगातार उस्ताद की सेहत की खबरें आने लगीं, लेकिन वन्यजीव प्रेमियों में उस्ताद को कैद किए जाने का रोष था. उस्ताद के लिए मानो पूरे भारतवर्ष के वन्यजीव प्रेमी एक हो गए थे. बीच में कई बार उस्ताद के गंभीर रूप से बीमार होने की भी खबरें आईं लेकिन किसी को भी उसकी वास्तविक हालात देखने के लिए अनुमति नहीं दी गयी. स्टेट वाइल्ड लाइफ बोर्ड के सदस्य धीरंद्र गोधा और सिमरत संधू का कहना है कि उस्ताद पर चार हत्याओं का अरोप लगाया गया. इनमें से एक भी साबित नही हुई. एनटीसीए और सीजेडए ने भी उस्ताद को लॉकडाउन करने को गलत माना है. इसलिए बेहतर होगा कि उस्ताद को वापस जंगल में छोड़ा जाए.

नौतपा में भट्टी सा तपा शेखावाटी, 50 डिग्री पहुंचा चूरू का तापमान  

उस्ताद की तरह ही टी104 भी फ़िलहाल कैद:
निवर्तमान वन मंत्री राजकुमार रिणवा उदयपुर उस्ताद को देखने भी गए थे लेकिन उस्ताद की रिहाई की बात जब पत्रकारों द्वारा पूछे जाने पर इसे सिरे से टाल गए. अब उस्ताद को कैद में लगभग 5 वर्ष भी गए हैं. साथ ही उसका व्यवहार भी बदल गया है, नॉन डिस्प्ले एरिया में उस्ताद जहां पहले किसी को देखते ही भड़क उठता था अब होल्डिंग एरिया में किसी पार्क कर्मी को देखकर छिपने की कोशिश करता है. डाइजेशन की समस्या होने की वजह से खाने में इसे फिलहाल कीमा ही दिया जा रहा है. उस्ताद की तरह ही टी 104 भी फ़िलहाल कैद में है. सवाल उठता है कि वन्यजीवों को लेकर काम कर रही बड़ी-बड़ी संस्थाएं, वन विभाग और मंत्रालय आज तक ऐसे ही कोई नीति तैयार नहीं कर पाया जिसमें बाघ और इंसान के आपसी संघर्ष की सजा किसको मिले यह तय हो पाए.

उस्ताद की जल्द रिहाई की मांग:
बाघों के रहवास में यानी उनके प्राकृतिक आवास में इंसानी दखल बढ़ता जा रहा है. ऐसे में उस्ताद या किसी अन्य बाघ ने इंसान पर हमला किया तो उसे किस नीति के तहत एक छोटे से पिंजरे में आजीवन कैद कर दिया जाता है. इस विषय पर पहले भी बहस होती रही हैं लेकिन आज तक कोई स्पष्ट नीति नहीं बन पाई. गुजरात में जहां मानव की स्वयं की गलती से जब इंसान शेरों द्वारा मार दिया जाता है तो कुछ समय कैद में रखने के बाद उसे दोबारा छोड़ दिया जाता है देखना ये होगा कि राजस्थान में बाघों के पुनर्वास के लिए किस प्रकार के कदम उठाए जाते हैं. इस मामले में सरिस्का टाइगर फाउंडेशन के दिनेश दुर्रानी और स्टेट वाइल्ड लाइफ बोर्ड के सदस्य सुनील मेहता कहते हैं कि उस्ताद को उस अपराध की सजा दी गई जो उसने किया ही नहीं. इसलिए बेहतर होगा उस्ताद को जल्द रहलीज किया जाए. दरअसल टी 24 यानी उस्ताद पर चार इंसानों के कत्ल का अरोप है. चारों घटनाएं कोर क्षेत्र की हैं और चारों में उस्ताद को महज शक यानी उसकी आक्रमकता के आधार पर आरोपी माना गया. जबकि हकीकत में चारों घटनाओं में उस्ताद के होने के कोई प्रत्यक्ष साक्ष्य नहीं हैं. ऐसे में बेहतर होगा सरकार उस्ताद को अपने घर यानी जंगल में जितना जल्दी हो छोड़ दे. 

जयपुर एयरपोर्ट से फ्लाइट संचालन का दूसरा दिन, कुल 11 फ्लाइट्स का हुआ संचालन, 20 में से 9 फ्लाइट रहीं रद्द

जयपुर एयरपोर्ट से फ्लाइट संचालन का दूसरा दिन, कुल 11 फ्लाइट्स का हुआ संचालन, 20 में से 9 फ्लाइट रहीं रद्द

जयपुर: घरेलू फ्लाइट्स के संचालन का मंगलवार को दूसरा दिन इस लिहाज से बेहतर रहा कि फ्लाइट्स की संख्या में बढ़ोतरी हुई है. हालांकि मंगलवार को भी जयपुर से जाने वाली फ्लाइट्स में यात्रियों की संख्या बहुत अच्छी नहीं रही, लेकिन यह अपेक्षाकृत रूप से कल से ज्यादा रही. जयपुर एयरपोर्ट से 9 फ्लाइट का संचालन रद्द रहा. हवाई सेवाओं पर 2 माह के लंबे लॉक डाउन के बाद एविएशन इंडस्ट्री एक बार फिर रफ्तार पकड़ रही है. धीरे-धीरे एयरलाइंस फ्लाइट की संख्या में बढ़ोतरी कर रही हैं. जयपुर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से 11 फ्लाइट्स का संचालन किया गया. जयपुर से जाने वाली फ्लाइट्स में आज कल की अपेक्षा यात्री भार थोड़ा ज्यादा देखा गया. मंगलवार को इंडिगो एयरलाइन ने अपनी फ्लाइट की संख्या में बढ़ोतरी की.

इंडिगो ने किया जयपुर से चार फ्लाइट का संचालन:
सोमवार को जहां एयरलाइन ने मात्र एक फ्लाइट संचालित की थी, आज इंडिगो ने जयपुर से चार फ्लाइट का संचालन किया. हालांकि आज भी महाराष्ट्र के मुंबई के लिए एक भी फ्लाइट संचालित नहीं की गई. वहीं पश्चिम बंगाल के कोलकाता के लिए भी फ्लाइट का संचालन निरस्त रहा. हालांकि महाराष्ट्र के पुणे के लिए दो फ्लाइट संचालित की गई. स्पाइसजेट और एयर एशिया एयरलाइन ने पुणे के लिए जाने व आने की फ्लाइट संचालित की. मंगलवार सुबह सबसे पहली फ्लाइट इंडिगो एयरलाइन की बेंगलुरु के लिए संचालित हुई, जिसमें 180 सीटर विमान में मात्र 25 यात्रियों ने यात्रा की. स्पाइसजेट एयरलाइन की अमृतसर जाने वाली फ्लाइट में 80 यात्रियों की सीट पर मात्र 6 यात्री मौजूद रहे.

नौतपा में भट्टी सा तपा शेखावाटी, 50 डिग्री पहुंचा चूरू का तापमान  

ये 9 फ्लाइट रहीं रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 5:45 बजे सूरत जाने वाली फ्लाइट SG-2763 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 7:20 बजे जालंधर जाने वाली फ्लाइट SG-2750 हुई रद्द
- इंडिगो की सुबह 6:40 बजे मुंबई जाने वाली फ्लाइट 6E-218 नहीं हुई संचालित
- एयर इंडिया की सुबह 7:35 बजे आगरा जाने वाली फ्लाइट 9I-687 हुई रद्द
- इंडिगो की शाम 4:45 बजे कोलकाता जाने वाली फ्लाइट 6E-6156 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 8 बजे मुंबई जाने वाली फ्लाइट SG-279 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 9:45 बजे उदयपुर जाने वाली फ्लाइट SG-6632 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की दोपहर 2:15 बजे गुवाहाटी जाने वाली फ्लाइट SG-448 हुई रद्द
- एयर एशिया की शाम 5:15 बजे पुणे जाने वाली फ्लाइट I5-1427 आज शेड्यूल में रद्द थी

मुंबई से आये परिवार के 3 लोग पाए गए पॉजिटिव, गांव में मची खलबली, दुकानें हुई बंद 

यात्रियों की संख्या एयरपोर्ट पर एक साथ बढ़ गई:
मंगलवार सुबह जब बेंगलुरु, दिल्ली, अमृतसर और हैदराबाद की फ्लाइट का समय एक साथ था, तब यात्रियों की संख्या एयरपोर्ट पर एक साथ बढ़ गई. इस दौरान डिपार्चर गेट पर यात्रियों की कतार डिपार्चर गेट से लेकर अराइवल गेट तक पहुंच गई. करीब 100 मीटर लंबी कतार में सोशल डिस्टेंसिंग की पालना नहीं हो सकी. दरअसल चिकित्सा विभाग की टीमों के मेडिकल स्क्रीनिंग करने के दौरान अधिक समय लग रहा है, जिसके चलते यात्रियों की कतार लग रही है. इसके लिए जरूरी है कि एयरपोर्ट प्रशासन चिकित्सा विभाग के अधिकारियों के साथ बातचीत कर मेडिकल स्क्रीनिंग के काउंटर्स की संख्या में बढ़ोतरी करे। साथ ही डिपार्चर गेट भी एक से बढ़ाकर 2 किए जाएं. अन्यथा आने वाले दिनों में जब यात्रीभार और बढ़ेगा, तब यात्रियों और एयरपोर्ट प्रशासन के लिए परेशानी और बढ़ सकती है.

...फर्स्ट इंडिया के लिए काशीराम चौधरी की रिपोर्ट

राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा, पत्रकारिता ने समाज में एकजुटता पैदा की है

राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा, पत्रकारिता ने समाज में एकजुटता पैदा की है

जयपुर: राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा है कि पत्रकारिता ने समाज में एकजुटता पैदा की है. सकारात्मक वातावरण का निर्माण किया है और लोगों के मन में सद्भाव का भाव जगाकर समाज को जोडा है. इस नैतिक शक्ति ने कोविड-19 का डटकर मुकाबला करने में समाज को सक्षम बनाया है. राज्यपाल ने मीडिया के संवाददाताओं, छायाकारों और हाॅकर्स को कोरोना वारियर्स बताते हुए उन सभी का अभिनन्दन किया है.

भारत निर्माण में पत्रकारिता की भूमिका पर हुई वेबीनार:
राज्यपाल कलराज मिश्र मंगलवार को यहां राजभवन से वीडियो काॅन्फ्रेस के माध्यम से कोविड-19 के संकट में भारत निर्माण में पत्रकारिता की भूमिका विषय पर आयोजित वेबीनार को सम्बोधित कर रहे थे. वेबीनार का आयोजन अजमेर के महर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्यालय की ओर से किया गया. राज्यपाल ने कहा कि मीडिया ने कोविड- 19 के दौरान आम जन को केन्द्र व राज्य सरकार के द्वारा समय-समय पर दी गई एडवाइजरी, कोरोना वारियर्स द्वारा किये जा रहे कार्य और अन्य सावधानियों व सुविधाओं की जानकारी देकर सराहनीय कार्य किया है.

राजस्थान में लॉकडाउन 4.0 में बढ़ा छूट का दायरा, शादी के आयोजन के लिए नहीं लेनी होगी SDM से परमिशन 

उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी ने भी मीडिया के कार्यों की सराहना की:
कोविड-19 की स्थिति एक युद्व की भांति हैं. इस युद्व में मीडिया ने जान हथेली पर लेकर निर्भिकता से कार्य किया है. प्रिन्ट और इलेक्ट्रानिक मीडिया की इस मेहनत की, जितनी प्रंशसा की जाये, उतनी ही कम है. उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी ने कहा कि कोरोना से लडाई में मीडिया ने अग्रणी भूमिका निभाई है. मीडिया के द्वारा उठाये गये सवालों पर राज्य सरकार कार्यवाही करती है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्य में पत्रकारिता को बढावा दिया है. मुख्यमंत्री ने अपनी पहली ही बैठक में पत्रकारिता विश्वविद्यालय खोलने की पहल की थी. वेबीनार में हरिदेव जोशी पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति ओम थानवी और एमडीएस विश्वविद्यालय के कुलपति आर.पी.सिंह ने भी विचार व्यक्त किए.

जयपुर एयरपोर्ट पर उड़ी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां, आज डिपार्चर के दौरान रही यात्रियों की खासी भीड़

जयपुर एयरपोर्ट पर उड़ी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां, आज डिपार्चर के दौरान रही यात्रियों की खासी भीड़

जयपुर: जयपुर एयरपोर्ट पर मंगलवार को फ्लाइट संचालन का दूसरा ही दिन था कि एक साथ अधिक संख्या में यात्री आने पर सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखना संभव नहीं हो सका. एयरपोर्ट के डिपार्चर गेट से प्रवेश के दौरान मेडिकल स्क्रीनिंग की जा रही है.

केवल एक ही डिपार्चर गेट से दिया जा रहा है प्रवेश: 
मेडिकल स्क्रीनिंग के दौरान चिकित्सा विभाग की टीमों को यात्रियों से पूछताछ और बॉडी टेंपरेचर लेने में अधिक समय लग रहा है. चूंकि यात्रियों को केवल एक ही डिपार्चर गेट से प्रवेश दिया जा रहा है.

मुंबई से आये परिवार के 3 लोग पाए गए पॉजिटिव, गांव में मची खलबली, दुकानें हुई बंद 

नहीं हुआ सोशल डिस्टेंसिंग की पालना: 
इस कारण यात्रियों की कतार डिपार्चर गेट से लेकर अराइवल गेट तक पहुंच गई. इस दौरान यात्रियों के लिए निर्धारित सोशल डिस्टेंसिंग की पालना नहीं हो सकी. जायजा लिया फर्स्ट इंडिया न्यूज़ संवादाता काशीराम चौधरी ने.

राजस्थान में लॉकडाउन 4.0 में बढ़ा छूट का दायरा, शादी के आयोजन के लिए नहीं लेनी होगी SDM से परमिशन 

राजस्थान में लॉकडाउन 4.0 में बढ़ा छूट का दायरा, शादी के आयोजन के लिए नहीं लेनी होगी SDM से परमिशन 

जयपुर: कोरोना संकट की वजह से देशव्यापी लॉकडाउन जारी है. लॉकडाउन 4 में केन्द्र और राज्य सरकार की ओर कई चीजों में छूट का दायरा बढ़ा दिया है. राजस्थान सरकार ने लॉकडाउन 4.0 में छूट का दायरा बढ़ा दिया है. 

नौतपा में भट्टी सा तपा शेखावाटी, 50 डिग्री पहुंचा चूरू का तापमान  

शादी समारोह में 50 लोग हो सकेंगे शामिल :

लॉकडाउन में शादी समारोह के मामले में पहले की तरह शर्तें लागू रहेंगी. शादी समारोह की SDM को पूर्व सूचना देनी होगी. वहीं शादी समारोह में 50 अधिक लोग एकत्रित नहीं हो सकेंगे. सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करनी होगी. 

मास्क लगाना होगा अनिवार्य:
शादी समारोह में मौजूद सभी लोगों को मास्क पहनना अनिवार्य होगा. दरअसल पूर्व आदेश में एक शब्द को ठीक किया गया. पूर्व अनुमति की जगह पूर्व सूचना शब्द जोड़ा गया है. SDM से परमिशन लेनी की जरूरत नहीं,लेकिन सूचना देना जरूरी होगा. 

मुंबई से आये परिवार के 3 लोग पाए गए पॉजिटिव, गांव में मची खलबली, दुकानें हुई बंद 

Open Covid-19