Live News »

शिक्षिका की 'दबंगई', बच्चों को पीटकर निकाला स्कूल से बाहर

शिक्षिका की 'दबंगई', बच्चों को पीटकर निकाला स्कूल से बाहर

सहारनपुर (आजम खान)। जहां एक तरफ देश के प्रधानमंत्री बच्चों की पढ़ाई पर जोर दे रहे हैं और देश भर में सर्व शिक्षा अभियान चलाया जा रहा है, वहीं एक शिक्षिका इन सब पर पलीता लगा रही है। एक प्राथमिक विद्यालय की एक शिक्षिका बच्चों को पीट रही है और कह रही है अपनी अपनी अनुपस्थिति लगाओ और यहां से चलते बनो। शिक्षिका की 'दबंगई' के वीडियो भी काफी वायरल हो रहे हैं। 

दरअसल मामला सहरानपुर के हकीकत नगर स्थित प्राथमिक विद्यालय का है। जहां पर एक कक्षा की शिक्षिका छुट्टी पर गई हुई थी, जिसके बदले में ऋतु नाम की शिक्षिका को उस कक्षा में पढ़ाने को कहा गया था, लेकिन शिक्षिका ऋतु ने कक्षा में आते ही बच्चों को डांटना फटकारना शुरू कर दिया और कक्षा से बाहर जाने को कहा। इतना ही नहीं शिक्षिका ने बच्चों को पिटाई की और उनके माता पिता के बारे में अभद्र भाषा का प्रयोग किया। शिक्षिका कह रही है कि जब तुम्हारी टीचर नहीं आई तो तुम लोग क्यों आये हो। यहां आकर हमारा दिमाग मत खाओ, डेली आकर मिड डे मील मत खाओ। साथ ही ये भी कहती नजर आ रही हैं कि रिज़ल्ट भी मुझे ही बनाना है, टीसी भी मुझे ही देनी है और रिकार्ड भी मुझे ही चढ़ाना है। इतने तेवर हैं तो पब्लिक स्कूल में जाकर पढ़ो यहां मत आया करो, अपने माँ-बाप को बुलाकर लाना।

एक दूसरी वीडियो में शिक्षिका कहती हुई नजर आ रही है कि जिसे बुलाना है बुला लो मेरी पावर तुम नहीं जानते। जब एक बच्चे के परिजन स्कूल शिकायत लेकर पहुंचे तो शिक्षिका ऋतु उनके साथ भी अभद्र व्यवहार करती है। 

और पढ़ें

Most Related Stories

फर्जी डिग्री के आधार पर नौकरी, अब तक कर चुका है हजारों ऑपरेशन

फर्जी डिग्री के आधार पर नौकरी, अब तक कर चुका है हजारों ऑपरेशन

यूपी के सहारनपुर में एक फ़िल्मी वाक़या सामने आया है फिल्म मुन्नाभाई और थ्री इडियट्स की तर्ज़ पर 10 सालों से प्रैक्टिस कर रहे फर्जी डॉक्टर को पुलिस ने अरेस्ट कर लिया है.सहारनपुर (ग्रामीण) के एसपी विद्यासागर मिश्र के अनुसार, 'देवबंद में ओमपाल (50) नामक शख्स यहां के लोकल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) में फर्जी डिग्री और फर्जी रजिस्ट्रेशन के आधार पर खुद को डॉक्टर राजेश आर के तौर पर दर्शा कर प्रैक्टिस कर रहा था. वह एक नर्सिंग होम भी चला रहा था। आरोपी अभी तक हजारों ऑपरेशन कर चुका था.इस शख्स ने मैसूरु यूनिवर्सिटी से एमबीबीएस की पढ़ाई करने वाले एक डॉक्टर के नाम से फर्जी डिग्री बनवा ली.

वह  सहारनपुर में सीएचसी में कॉन्ट्रैक्ट पर जुड़ा हुआ था. आरोपी के फर्जीवाड़े का खुलासा तब हुआ, जब फिरौती से जुड़ी एक कॉल के बाद वह पुलिस में शिकायत दर्ज कराने गया.एसपी ने बताया, 'आरोपी पहले मंगलुरु में एयर फोर्स बेस हॉस्पिटल में बतौर पैरामेडिक कार्यरत था, जिसकी पेंशन उसे अभी भी मिलती है. उसके साथ राजेश आर नामक एक डॉक्टर भी काम करते थे, जिसके बाद वह विदेश चले गए.राजेश के विदेश जाने के बाद ओमपाल ने उसकी एमबीबीएस की डिग्री पर अपनी तस्वीर लगाकर फर्जीवाड़ा कर लिया.

आरोपी का खेल तब खत्म हुआ, जब उसे किसी अज्ञात शख्स ने फोन कर असली पहचान का खुलासा करने के एवज में 40 लाख रुपयों की डिमांड की. इसकी शिकायत करने वह पुलिस के पास गया, जहां पर उसकी पोल खुल गई.डिग्री के आधार पर ही उसे सीएचसी में सर्जन की नौकरी मिली और उसने सर्जरी के कई सारे डिप्लोमा और सर्टिफिकेट बनवा लिए.

गणतंत्र दिवस को लेकर देवबंद ने छात्रों के लिए जारी किया ये फरमान

गणतंत्र दिवस को लेकर देवबंद ने छात्रों के लिए जारी किया ये फरमान

सहारनपुर। विख्यात इस्लामिक शिक्षण संस्थान दारुल उलूम देवबंद ने ए​​क सर्कुलर जारी कर संस्थान में पढ़ने वाले हर छात्र को गणतंत्र दिवस पर बाहर नहीं निकलने की हिदायत दी है। देवबंद के इस सर्कुलर में अल्पसंख्यक छात्रों के उत्पीड़न की बात कही गई, जिसके चलते उल्हें किसी से विवाद करने या उलझने से मना किया गया है। इसमें कहा गया है कि मजबूरी में यदि आपको सफर करना पड़े तो किसी से विवाद न करें, चुपचाप वापस आ जाएं।

सहारनपुर स्थित इस इस्लामिक संस्थान दारुल उलूम देवबंद ने सर्कुलर जारी कर संस्थान में पढ़ने वाले सभी छात्रों को ट्रेन में सफर करने से भी मना किया गया है। छात्रों को हिदायत दी गई है कि अगर वे बाहर गए तो उनका उत्पीड़न हो सकता है, इसलिए वे संस्थान परिसर में ही रहें। यूनिवर्सिटी के हॉस्टल विभाग के हेड ने कहा कि गणतंत्र दिवस पर छुट्टी होती है इसलिए सामान्यता हॉस्टल के छात्र बाहर घूमने निकल जाते हैं। ऐसे में किसी भी विवादित परिस्थिति से बचने के लिए छात्रों को अडवाइजरी जारी की गई है।

इस सर्कुलर में लिखा है कि, 'अगर कोई इमरजेंसी हो तो ही परिसर के बाहर निकलें और ऐसे में बाहर जाना पड़े तो जो परिस्थितियां हैं, उन्हें देखते हुए किसी भी विवाद में न पड़ें, न ही किसी से बहस करें।' गौरतलब है कि पूर्व में भी 23 नवंबर 2017 को ट्रेन में सफर कर रहे कुछ अल्पसंख्यक छात्रों को बागपत के पास प्रताड़ित किए जाने का आरोप लगा था। इसी तरह 1 मई 2015 को पांच मुस्लिम युवकों को दिल्ली-सहारनपुर ट्रेन में सफर के दौरान प्रताड़ित किया गया था।

Open Covid-19