Live News »

तीन साल पहले हुई हत्या का बदला लेने के लिए चली गोलियां, एक की मौत 

तीन साल पहले हुई हत्या का बदला लेने के लिए चली गोलियां, एक की मौत 

गाजियाबाद। साल 2015 में हुई एक हत्या का बदला लेने के लिए एनसीआर में फिर गोलियां चली है। मामला गाजियाबाद के लोनी इलाके का है। जहां पर खून का बदला खून से लेने के लिए तीन लोगों को गोली मार दी गई। जिसमें एक की मौत हो गई और 2 घायल हैं। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और जांच में जुटी हुई है। 

गाजियाबाद के लोनी इलाके के महल कॉलोनी में ताबड़तोड़ फायरिंग हुई। घर के बाहर बैठे 50 साल के देवेंद्र और उनके बेटे विक्की पर बाइक सवार तीन बदमाशों ने ताबड़तोड़ गोलियां चलाई। उनके पास में मौजूद अंकित भी घायल हुआ, जो इलाके का रहने वाला है। अंकित की उंगली में गोली लगी है। बताया जा रहा है कि देवेंद्र और विक्की पर साल 2015 में नरेश नाम के युवक की हत्या का आरोप लगा था। जिसके बाद वह जेल गए और हाल ही में जमानत पर बाहर आए हैं। देवेंद्र के पेट में, और विक्की के सर में गोली लगी। दोनों में से अस्पताल ले जाते हुए विक्की को मृत घोषित कर दिया गया।

पुलिस पूरे मामले की जांच पड़ताल में जुटी हुई है। बताया जा रहा है कि साल 2015 में जिस शख्स की हत्या हुई थी, उसका बदला लेने के लिए यह गोलीबारी की गई है। उस एंगल समेत तमाम एंगल्स पुलिस खंगाल रही है। घटना के बाद मौके पर पहुंचे परिजन काफी घबराए हुए थे।

पुलिस ने लाश को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। और जिन लोगों पर शक है उनके सभी ठिकानों पर दबिश दे रही है। पुलिस का कहना है कि जल्द मामले में गिरफ्तारी कर ली जाएगी। एनसीआर में खून का बदला खून लेने की प्रथा नई नहीं है। इससे पहले भी कई बार ऐसी वारदात सामने आई, जिसमें सालों से चली आ रही रंजिश वर्तमान में खून बहाने की वजह बनती आई है।

और पढ़ें

Most Related Stories

चोरों ने उड़ाई कुमार विश्वास की फॉर्च्यूनर कार, घर के बाहर खड़ी थी

चोरों ने उड़ाई कुमार विश्वास की फॉर्च्यूनर कार, घर के बाहर खड़ी थी

गाजियाबाद: कवि कुमार विश्वास की कार उनके घर के बाहर से चोर चुरा ले गए. पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज कर लिया है. बता दें कि गाजियाबाद के इंदिरापुरम स्थित आवास के बाहर खड़ी फॉर्च्यूनर गाड़ी चोर लेकर फरार हो गए. मामला दर्ज होने के बाद पुलिस मामले की जांच कर रही है. 

राजस्थान सरकार ने किए 12 RAS अधिकारियों के तबादले, यहां देखे पूरी लिस्ट 

कविता के मंचों पर लगातार सक्रिय: 
कुमार विश्वास लगातार देश-विदेश में कविता के मंचों पर सक्रिय रहते हैं. इसके साथ ही सामाजिक मुद्दों पर भी कुमार विश्वास लगातार सरकारों को घेरते रहते हैं. कभी आम आदमी पार्टी से जुड़े रहे कुमार विश्वास अब बागी सुर रखते हैं. AAP के शुरुआती दिनों में कुमार विश्वास पार्टी के सबसे ज्यादा सक्रिय नेताओं में से एक रहे हैं.

नहीं थम रहा कोरोना वायरस का कहर, चीन में मृतकों की संख्या हुई 1523, 66 हजार से ज्यादा संक्रमित

Open Covid-19