Live News »

VIDEO: कोरोना को हराया, अब जिन्दगी के लिए जंग! SMS अस्पताल में भर्ती चार पॉजिटिव में से तीन नेगेटिव

जयपुर: राजस्थान में सामने आए कोरोना के चार पॉजिटिव केस में से तीन मरीजों ने भले ही इस "मौत रूपी बीमारी" को हराया दिया हो, लेकिन दो मरीजों की हालात अभी भी नाजुक बनी हुई है. अस्पताल के आईसोलेशन में भर्ती इटालियन पर्यटक और दुबई से लौटे बुजुर्ग की कोरोना की रिपोर्ट कल नेगेटिव आ गई है. लेकिन दोनों ही मरीज दूसरी बीमारियों के चलते अभी भी जिन्दगी की जंग लड रहे हैं. इटालियन पर्यटक के लंस काफी डेमेज है, जबकि दुबई से लौटे बुजुर्ग की किडनियां खराब बताई जा रही है. ऐसे में दोनों मरीजों के लिए अस्पताल प्रशासन ने अब अलग से विशेष इंतजाम करने शुरू कर दिए है.

VIDEO: सीएम गहलोत ने शेरगढ़ के पास हुए सड़क हादसे में मृतकों के परिजनों को बंधाया ढांढस 

मरीजों की सेहत की पल पल की निगरानी के लिए मेडिकल बोर्ड का भी गठन:
दोनों मरीजों की सेहत को लेकर अस्पताल में आज एसीएस मेडिकल रोहित कुमार सिंह की अध्यक्षता में विशेष बैठक आयोजित की गई. बैठक में तय किया गया है कि अस्पताल के मेडिकल इमरजेंसी ICU को कोरोना डेडिकेटेड घोषित किया जाएगा. इस आईसीयू में वे पॉजिटिव मरीज चिकित्सकों की निगरानी  में रहेंगे, जिनकी रिपोर्ट आईसोलेशन में उपचार के बाद नेगेटिव आ गई है. दोनों मरीज अब आइसोलेशन से इस डेडिकेटेड ICU में शिफ्ट किए जा रहे है, ताकि उन्हें आगे कोरोना का खतरा न हो. इसके साथ ही दोनों मरीजों की सेहत की पल पल की निगरानी के लिए मेडिकल बोर्ड का भी गठन किया गया है. यहां बता दें कि राजस्थान में अब तक चार लोग पॉजिटिव आए है, इसमें से तीन मरीजों की रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी है. जबकि 24 वर्षीय पॉजिटिव आए युवक का अभी आईसोलेशन वार्ड में ही उपचार चल रहा है. 

सुप्रीम कोर्ट पहुंचा MP का सियासी मामला, बहुमत परीक्षण पर BJP ने दी याचिका 

और पढ़ें

Most Related Stories

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 5 मौत, 175 नए पॉजिटिव केस, बीकानेर में सर्वाधिक 44 नए पॉजिटिव मरीज मिले 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 5 मौत, 175 नए पॉजिटिव केस, बीकानेर में सर्वाधिक 44 नए पॉजिटिव मरीज मिले 

जयपुर: राजस्थान में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या में हर रोज बढ़ोत्तरी हो रही है. पिछले 12 घंटे में 5 मरीजों की मौत हो गई. जबकि 175 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. भरतपुर में दो, जयपुर-झुंझुनूं और राज्य से बाहर के 1-1 मरीज की मौत हो गई. सर्वाधिक 44 कोरोना पॉजिटिव मरीज बीकानेर में मिले. इसके अलावा अजमेर 9,अलवर 16,बाड़मेर 4,दौसा 3,धौलपुर 18, हनुमानगढ़ 3,जयपुर 26, झुंझुनूं 23, करौली 1,कोटा 5,राजसमंद 5, सिरोही 13,उदयपुर 2,अन्य राज्य के 3 मरीज पॉजिटिव मिले है. प्रदेश में मौत का आंकड़ा 396 पहुंच गया है. वहीं कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 17 हजार 119 पहुंच गई है. 

COVID-19: दुनियाभर में एक करोड़ के पार पहुंची कोरोना संक्रम‍ितों की तादाद, अब तक 5 लाख से ज्यादा लोगों की मौत  

पॉजिटिव से नेगेटिव हुए 13426 मरीज:
राजस्थान में कुल 13 हजार 426 मरीज पॉजिटिव से नेगेटिव हुए है. कुल 13 हजार 133 मरीज अस्पताल से डिस्चार्ज किए गए है. अस्पताल में उपचाररत कुल 3297 एक्टिव मरीज है. कुल कोरोना पॉजिटिव प्रवासियों की संख्या 4 हजार 847 पहुंच गई है.

शनिवार को आये थे 284 नए मरीज:
राजस्थान में शनिवार को 11 मरीजों की मौत हो गई थी. जबकि 284 नए पॉजिटिव केस सामने आये थे. अजमेर में 1, भरतपुर में 1, जयपुर में 4, जोधपुर में 3, पाली में 1 और राजस्थान से बाहर के एक मरीज की मौत हो गई थी. प्रदेश में मौत का आंकड़ा 391 पहुंच गया था. वहीं पॉजिटिव मरीजों की संख्या कुल 16 हजार 944 हो गई थी. अलवर जिले में पिछले 24 घंटे में सर्वाधिक 56 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले. अजमेर 5, बाड़मेर 10, भरतपुर 42, बीकानेर 3, चूरू 10, दौसा 3, धौलपुर 32, डूंगरपुर 1, हनुमानगढ़ 1, जयपुर 17, जैसलमेर 1, जालोर 1, झुंझुनूं 3, जोधपुर 40, करौली 1, कोटा 16, नागौर 1, पाली 9, राजसमंद 2, सवाई माधोपुर 1, सीकर 12, सिरोही 8, उदयपुर 4 और दूसरे राज्य के 5  मरीज पॉजिटिव आये थे. 

COVID-19: देश में कोरोना ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, पिछले 24 घंटे में करीब 20 हजार नए केस, कुल मरीजों की संख्या 5 लाख पार

सोमवार से खुलेगी प्रदेश में अदालतें, हाईकोर्ट में रेगुलर सुनवाई के लिए रोस्टर भी जारी हुआ, सुनवाई के समय में भी किया गया बदलाव

सोमवार से खुलेगी प्रदेश में अदालतें, हाईकोर्ट में रेगुलर सुनवाई के लिए रोस्टर भी जारी हुआ, सुनवाई के समय में भी किया गया बदलाव

जयपुर: कोरोना महामारी के चलते 22 मार्च से के बाद सोमवार को राजस्थान हाईकोर्ट सहित प्रदेशभर की अदालतों में रेगुलर अदालतें शुरू होगी.राजस्थान हाईकोर्ट में लॉकडाउन और 15 जून से दो सप्ताह के ग्रीष्मावकाश के बाद सोमवार से नियमित कामकाज शुरू होगा. हाईकोर्ट में सुबह 10.30 से 4.30 बजे तक न्यायिक काम होगा इस बीच दोपहर 1 बजे एक घंटे का मध्यांतर होगा. राजस्थान हाईकोर्ट ने कोरोना के चलते 22 मार्च से ही अति आवश्यक प्रकरणों की सुनवाई करते हुए सिर्फ वीडियो कॉलिंग के जरिए ही सुनवाई तय की थी.

ग्रीष्मावकाश के बाद शुरू होगी सुनवाई:
ग्रीष्मावकाश के बाद सोमवार से शुरू हो रही सुनवाई में मुख्य न्यायाधीश इन्द्रजीत महांति हाईकोर्ट जयपुर पीठ में सुनवाई करेंगे.जयपुर में दो खंडपीठ और आठ एकलपीठ का गठन किया गया है.सभी न्यायालय में एक सौ मामले सूचीबद्ध होंगे, जिसमें नए, अत्यावश्यक तथा कोर्ट तिथि के मामले शामिल रहेंगे. अन्य मामले परस्पर पक्षकारों की सहमति से सूचीबद्ध हो सकेंगे. समान प्रकृति के मामलों को एक प्रकरण माना जाएगा. कोर्ट रूम के आकार के हिसाब से परस्पर दूरी सुनिश्चित करते हुए कुर्सियां लगाई जाएंगी. खाली कोर्ट रूम में सीमित संख्या में उचित दूरी के साथ अधिवक्ता बैठ सकेंगे.

गैंगस्टर आनंदपाल एनकाउंटर प्रकरण: सीबीआई का सबसे बड़ा दावा, कहा-फेक नहीं था एनकाउंटर 

सुनवाई के दोनों माध्यम:
अभी तक न्यायालय केवल वीडियोकालिंग के जरिए मामलों की सुनवाई कर रहा था लेकिन अब सुनवाई के दोनों माध्यम रहेंगे. अधिवक्ता व्यक्तिगत उपस्थिति भी दे सकेंगे और वीडियो कांफ्रेंसिंग से भी अपनी दलीलें दे सकेंगे. वीडियो कांफ्रेंसिंग से केवल उन्हीं मामलों की सुनवाई होगी, जिनमें मामले नए होंगे या सभी अधिवक्ता वीसी से उपस्थिति दे सकते हों। नए मामले व्यक्तिगत या ई-फाइलिंग के माध्यम से पेश किए जा सकेंगे.

मास्क पहनना अनिवार्य:
राजस्थान हाईकोर्ट में अब अधिवक्ताओं के साथ ही सभी पक्षकारों और स्टाफ को मास्क पहनना अनिवार्य होगा.इसके साथ ही हाईकोर्ट प्रशासन ने दस्ताने पहनने की भी सलाह दी गई है। अधिवक्ताओं को कोर्ट गाउन और कोट पहनना वैकल्पिक होगा. फिलहाल लॉ इंटर्न्स का कोर्ट परिसर में प्रवेश वर्जित रहेगा. सरकार की गाइडलाइन के अनुसरण में 65 वर्ष से अधिक उम्र के अधिवक्ताओं को व्यक्तिगत उपस्थिति से बचने की सलाह दी गई है, जिसके चलते हाईकोर्ट ने वीडियो कॉलिंग के जरिए भी सुनवाई की व्यवस्था को रखा है.

सिर्फ ई पास से मिलेगा अधिवक्ताओं को प्रवेश:
राजस्थान हाईकोर्ट में प्रवेश के लिए अब अधिवक्ताओं को ई पास लेना होगा.हाईकोर्ट की वेबसाईट से अधिवक्ता खुद ही पास के लिए आवेदन कर सकते है.जिन अधिवक्ताओं के केस सूचीबद्ध होंगे उन्ही अधिवक्ताओं के ई प्रवेश पास जारी किये जायेगे इसके साथ ही प्रवेश द्वार पर सभी अधिवक्ताओं, स्टाफ तथा अन्य पक्षकारों को थर्मल स्केनिंग के बाद प्रवेश दिया जाएगा.

COVID-19: दुनियाभर में एक करोड़ के पार पहुंची कोरोना संक्रम‍ितों की तादाद, अब तक 5 लाख से ज्यादा लोगों की मौत  

Rajasthan Corona Updates: पिछले 24 घंटे में 11 मौत, 284 नए पॉजिटिव केस, सर्वाधिक 56 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले अलवर में 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 24 घंटे में 11 मौत, 284 नए पॉजिटिव केस, सर्वाधिक 56 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले अलवर में 

जयपुर: राजस्थान में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढते जा रहे है. पिछले 24 घंटे में 11 मरीजों की मौत हो गई. जबकि 284 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. अजमेर में 1, भरतपुर में 1, जयपुर में 4, जोधपुर में 3, पाली में 1 और राजस्थान से बाहर के एक मरीज की मौत हो गई है. प्रदेश में मौत का आंकड़ा 391 पहुंच गया है. वहीं पॉजिटिव मरीजों की संख्या कुल 16 हजार 944 हो गई है.

अनलॉक 2.0 में हवाई सेवा बढ़ाने की कवायद, 7 नए शहरों को जोड़ेंगी एयरलाइन

सर्वाधिक 56 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले अलवर में:
प्रदेश के अलवर जिले में पिछले 24 घंटे में सर्वाधिक 56 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले. अजमेर 5, बाड़मेर 10, भरतपुर 42, बीकानेर 3, चूरू 10, दौसा 3, धौलपुर 32, डूंगरपुर 1, हनुमानगढ़ 1, जयपुर 17, जैसलमेर 1, जालोर 1, झुंझुनूं 3, जोधपुर 40, करौली 1, कोटा 16, नागौर 1, पाली 9, राजसमंद 2, सवाई माधोपुर 1, सीकर 12, सिरोही 8, उदयपुर 4 और दूसरे राज्य के 5  मरीज पॉजिटिव मिले है.

जयपुर में कोरोना का बढ़ता दायरा:
राजधानी जयपुर में कोरोना वायरस का दायरा बढ़ता जा रहा है. पिछले 24 घंटे में 4 मरीजों की मौत हो गई. जबकि 17 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. खोरा बिसल में एक, बनीपार्क में दो, कीर्ति नगर में एक, हसनपुरा एक, बेनाड रोड एक, मालवीय नगर दो, क्वॉरंटीन सेंटर से एक, मौजमाबाद से एक, शाहपुरा से एक, शास्त्री नगर से एक, सीकर रोड से दो, कनकपुरा एक और वैशाली नगर से दो पॉजिटिव मिले है. जयपुर में अब तक कोरोना की वजह से 156 मौतें हो चुकी है. वहीं कुल मरीजों की संख्या 3 हजार 223 हो गई है. 

जलदाय अधिकारियों के भ्रष्टाचार के कारनामे, बिना काम किए ही ठेकेदारों को दिया जा रहा पेमेंट

जलदाय अधिकारियों के भ्रष्टाचार के कारनामे, बिना काम किए ही ठेकेदारों को दिया जा रहा पेमेंट

जयपुर: भ्रष्टाचार के लिए बदनाम प्रदेश के जलदाय विभाग में अफसरों के एक के बाद एक कई कारनामें सामने आ रहे हैं. कहीं पर बिना काम किए ही ठेकेदारों को पेमेंट दिया जा रहा है, तो कहीं पर चहेतों को फायदा पहुंचानें के लिए वर्क ऑर्डर ही बदले जा रहे हैं. देखिए जलदाय विभाग में भ्रष्टाचार की पोल खोलती यह एक्सक्लुसिव रिपोर्ट. 

जलदाय विभाग में एक एक्सईन के कारनामे !
-एक फर्म पर मेहरबान हुए एक्सईन साहब
-हाथ की सफाई से काम करने की तारीख ही बदल डाली
-कनिष्ठ लेखाकार के पत्र से हुआ मामले का खुलासा
-करीब 32 फीसदी कम रेट में दे दिया फर्म को ठेका
-ऐसे में काम की क्वालिटी पर भी उठ खड़े हुए सवाल
-अब मुख्यमंत्री गहलोत तक पहुंची मामले की शिकायत
-लेकिन उच्च अधिकारी पर्दा डालने की कोशिश में
-गांधी नगर शराब कांड मामले में भी चर्चित थे एक्सईन

एक्सईन ने दिखाई हाथ की सफाई:
ठेकेदार को फायदा पहुंचाने के लिए एक्सईन की सफाई का पहला नमूना आपको दिखाते हैं. फर्स्ट इंडिया के पास मौजूद दस्तावेज के अनुसार जयपुर के नगर खंड चतुर्थ दक्षिण में मैसर्स सैनी इंडस्ट्रीज को पाइपलाइन काम काम दिया गया था. आदेश के अनुसार 17 जून 2020 को काम शुरू होना था, लेकिन एक्सईन ने हाथ की सफाई दिखाते हुए इस तारीख को 27 अप्रैल कर दिया. मामले का खुलासा तो तब हुआ, जब कनिष्ठ लेखाकार ने पत्र लिखकर अपनी असहमति जताई. कनिष्ठ लेखाकार ने साफ लिखा है कि बिना लेखाकर्मी की जानकारी के एक्सईन ने यह बदलाव किया है, ऐसे में इस प्रकरण की जांच होनी चाहिए.

मान्यता खत्म, खेल खत्म ! 54 राष्ट्रीय महासंघों की मान्यता खत्म, अब देश में एक भी खेल संघ मान्यता प्राप्त नहीं

यह एक ही मामला नहीं:
यह एक ही मामला नहीं है. अब आगे आगे देखिए इन एक्सईन साहब के और कारनामें. जलदाय विभाग के स्टाफ क्वार्टर, एईन दफ्तर में मैंटीनेंस, इलेक्ट्रिक व सेनेट्री काम के लिए तीन निविदाओं 44, 45 व 46 के माध्यम से आदेश दिए गए, लेकिन नोटशीट पढ़कर ही समझ में आ जाता है कि साहब व ठेकेदार के बीच क्या खेल हुआ है. निविदा संख्या 44/2019-20 में 21 फीसदी कम रेट पर काम देने का फैसला हुआ, लेकिन खास बात यह है कि इसी काम के लिए जब पहले टेंडर किया था, तब 16 फीसदी रेट पर काम इसलिए देने से मना कर दिया कि इससे गुणवत्ता वाला काम नहीं होता. आप खुद नोटशीट देखिए, जिसमें साफ लिखा है कि 16 फीसदी रेट पर किसी के लिए भी गुणवत्ता पूर्वक काम करना संभव नहीं है और निविदा कमेटी ने इसे उचित नहीं माना. 30 लाख रुपए की निविदा संख्या 45/2019-20 में भी ऐसा ही खेल हुआ. इस काम के लिए पहले जब निविदा जारी की थी, तब रेट 14.22 बिलो आई थी, लेकिन कमेटी ने इसे सही नहीं माना, लेकिन अब इसकी रेट 22 फीसदी बिलो है. करीब 25 लाख रुपए के काम की निविदा संख्या 46/2019-20 में 21 फीसदी बिलो रेट को गुणवता पूर्ण काम के लिए उचित नहीं माना, लेकिन अब दोबारा निविदा निकाली तो 26 फीसदी बिलो रेट को भी उचित मान लिया. सवाल बिलकुल साफ है. इन तीनों टेंडर में जब पहले की बजाय अब और भी बिलो (below) रेट आई है, तो उसे उचित कैसे मान लिया. इतनी कम रेट में गुणवत्ता वाला काम कैसे होगा.

जलदाय विभाग के आला अफसरों की मेहरबानी:
गांधी नगर शराब कांड मामले में चर्चित थे इन एक्सईन साहब को एक और कारनामा बताते हैं. दिसंबर 2019 में एक आदेश के द्वारा भरतपुर की एक फर्म को ट्यूबवेल का काम दिया गया था, लेकिन नोट शीट में साफ लिखा है कि इस फर्म ने निर्धारति समयावधि में APS राशि, स्टाम्प व अनुबंध पत्र संपादित नहीं किए. ऐसे में सिफारिश की गई कि जुर्माना लगाकर जमानत राशि भी जब्त कर ली जाए. इस सिफारिश के बाद सभी एईन को निर्देश दिए गए कि फर्म के काम रोक दिए जाए. लेकिन फर्म से मिलकर साहब ने ऐसा खेल रचा कि न केवल उनके काम का मेजरमेंट कर लिया, बल्कि बिल बनाकर भुगतान के आदेश दे दिए. अब सवाल यह उठता है कि फर्म को सजा देने की बजाय अफसर की मेहरबानी क्यों है. खास बात यह है कि संबंधित अफसर पहले भी विवादों में रहा है, लेकिन जलदाय विभाग के आला अफसरों की मेहरबानी इस कदर है कि यहां पर खुला खेल चल रहा है. अब देखना है कि विभाग के प्रमुख सचिव इस खेल को रोककर प्रभावी कार्रवाई करेंगे या फिर जलदाय विभाग को ढर्रा पहले की तरह चलता रहेगा.

अनलॉक 2.0 में हवाई सेवा बढ़ाने की कवायद, 7 नए शहरों को जोड़ेंगी एयरलाइन

अनलॉक 2.0 में हवाई सेवा बढ़ाने की कवायद, 7 नए शहरों को जोड़ेंगी एयरलाइन

जयपुर: 1 जुलाई से केंद्र सरकार लॉकडाउन खोलने की दिशा में अनलॉक 2.0 शुरू करने जा रही है. अनलॉक 2.0 में हवाई सेवा को बढ़ाने के लिए भी विशेष कवायद की जा रही है. एयरलाइंस ने एयरपोर्ट अथॉरिटी को जयपुर एयरपोर्ट से 11 नई फ्लाइट शुरू करने का शेड्यूल दिया है. हालांकि सभी फ्लाइट शुरू होने पर असमंजस है. लेकिन यदि ये फ्लाइट शुरू हुई तो जयपुर एयरपोर्ट पर व्यस्तता एक बार फिर बढ़ जाएगी. कोरोना काल में हवाई सेवा संचालन शुरू हुए 1 माह से ज्यादा समय हो चुका है और अब केंद्र सरकार 1 जुलाई से अनलॉक 2.0 लागू करेगी. यानी इसके तहत ज्यादातर सेक्टर को खोलने की संभावनाएं बढ़ेंगी.

1 जुलाई से 11 नई फ्लाइट शुरू होने की संभावना:
हालांकि हवाई सेवा के दौरान नए नियमों और कोरोना बीमारी के डर से अभी हवाई यात्रा करने वाले यात्रियों की संख्या बहुत अधिक नहीं बढ़ सकी है. पिछले एक माह में फ्लाइट्स की संख्या में भी ज्यादा उछाल देखने को नहीं मिला है. लेकिन अब 1 जुलाई से उम्मीद की जा रही है कि हवाई सेवा की गति बढ़ेगी. माना जा रहा है कि इसी उम्मीद से एयरलाइंस ने 1 जुलाई से जयपुर एयरपोर्ट से 11 नई फ्लाइट शुरू करने का शेड्यूल एयरपोर्ट अथॉरिटी को दिया है. हालांकि सभी 11 नई फ्लाइट शुरू होने की संभावना कम है. आपको बता दें कि जयपुर एयरपोर्ट से वर्तमान में देश के 9 प्रमुख शहरों के लिए रोजाना औसतन 15 फ्लाइट संचालित हो रही हैं. अब अनलॉक 2.0 में यदि सभी 11 फ्लाइट शुरू होती हैं तो जयपुर एयरपोर्ट से कुल 16 शहरों के लिए औसतन 26 फ्लाइट रोजाना संचालित हो सकेंगी.

मान्यता खत्म, खेल खत्म ! 54 राष्ट्रीय महासंघों की मान्यता खत्म, अब देश में एक भी खेल संघ मान्यता प्राप्त नहीं

ये 11 फ्लाइट शुरू होने की उम्मीद, 7 नए शहर जुड़ेंगे
- देहरादून के लिए स्पाइसजेट की फ्लाइट SG-3467 शुरू होगी, सुबह 6:35 बजे जाएगी
- जैसलमेर के लिए स्पाइसजेट की फ्लाइट SG-3468 सुबह 10:10 बजे जाएगी
- जालंधर के लिए स्पाइसजेट की फ्लाइट SG-2750 सुबह 7:20 बजे जाएगी
- उदयपुर के लिए स्पाइसजेट की फ्लाइट SG-6632 शुरू होगी, सुबह 10 बजे जाएगी
- अहमदाबाद के लिए स्पाइसजेट की फ्लाइट SG-3781 शुरू होगी, रात 9:50 बजे जाएगी
- मुम्बई के लिए स्पाइसजेट की फ्लाइट SG-237 शुरू होगी, रात 9:10 बजे जाएगी
- कोलकाता के लिए इंडिगो की फ्लाइट 6E-498 शुरू होगी, दोपहर 12:45 बजे जाएगी
- बेंगलूरु के लिए एयर एशिया फ्लाइट I5-1721 सुबह 9:25 बजे जाएगी
- बेंगलूरु के लिए एयर एशिया फ्लाइट I5-1729 शाम 7:45 बजे जाएगी
- सूरत के लिए स्पाइसजेट की फ्लाइट SG-2763 शुरू होगी, सुबह 5:45 बजे जाएगी
- अमृतसर के लिए स्पाइसजेट की फ्लाइट SG-3522 शुरू होगी, शाम 5:55 बजे जाएगी

9 शहरों के लिए फ्लाइट संचालित:
अभी जयपुर एयरपोर्ट से 9 शहरों के लिए फ्लाइट संचालित हो रही हैं. जिनमें दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, बेंगलुरु, हैदराबाद, पुणे, गुवाहाटी, वाराणसी और आगरा एयरपोर्ट शामिल हैं. अब 1 जुलाई से जैसलमेर, देहरादून, अहमदाबाद, उदयपुर, जालंधर, अमृतसर और सूरत के लिए फ्लाइट शुरू होने की उम्मीद है. ऐसे में कुल 16 शहरों के लिए जयपुर एयरपोर्ट से सीधी फ्लाइट मिल सकेंगी. हालांकि इस बीच इंडिगो एयरलाइन बेंगलुरु के लिए 2 फ्लाइट बंद कर सकती है.

ये 2 फ्लाइट बंद हो सकती हैं
- बेंगलुरु के लिए इंडिगो की फ्लाइट 6E-839 बंद होगी, सुबह 6:10 बजे होती थी बेंगलुरु रवाना
- हालांकि यह फ्लाइट पिछले कुछ दिनों से चल रही है अनियमित
- बेंगलुरु के लिए इंडिगो की फ्लाइट 6E-498 बंद होगी, दोपहर 12:45 बजे जाती थी बेंगलुरु

वर्चुअल रैली में बोले नितिन गडकरी, कहा-कांग्रेस राज में 55 साल में जो नहीं हुआ हमने 6 साल में करके दिखाया है

सिक्योरिटी होल्ड एरिया में भी करने होंगे अतिरिक्त इंतजाम:
यदि 1 जुलाई से ये सभी फ्लाइट शुरू होती हैं तो जयपुर एयरपोर्ट प्रशासन को भी एयरपोर्ट पर अतिरिक्त इंतजाम करने होंगे. अभी यात्रियों को केवल एक डिपार्चर गेट से प्रवेश दिया जा रहा है, जिस पर सुबह के समय एक साथ फ्लाइट होने की स्थिति में लंबी कतार लग जाती है. क्योंकि इन दिनों डिपार्चर गेट पर ही मेडिकल स्क्रीनिंग और बैगेज सैनिटाइजेशन का कार्य किया जा रहा है. इस वजह से यात्रियों की कतार और भी ज्यादा लंबी हो जाती है. ऐसे में एयरपोर्ट प्रशासन को दूसरा डिपार्चर गेट भी शुरू करना होगा. जिससे कि एक ही समय में ज्यादा यात्रियों को डिपार्चर के लिए प्रवेश दिया जा सके. इसके अलावा सिक्योरिटी होल्ड एरिया में भी अतिरिक्त इंतजाम करने होंगे. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए काशीराम चौधरी की रिपोर्ट 

 जयपुर एयरपोर्ट पर टिड्डी दल का आतंक,  लैंड होती एक फ्लाइट को वापस कराना पड़ा टेक ऑफ

जयपुर: राजधानी जयपुर एयरपोर्ट पर शनिवार शाम टिड्डी दल के आने से फ्लाइट्स के संचालन में परेशानी हुई. एयरपोर्ट पर इंडिगो की एक फ्लाइट जब लैंड होने वाली थी, ठीक उसी समय रनवे पर बड़ी संख्या में टिड्डी दल जमा हो गया. इस कारण फ्लाइट की लैंडिंग को ऐनवक्त पर रोक दिया गया. इसके बाद फायर ब्रिगेड की गाड़ियों के हॉर्न बजाकर टिड्डियों को हटाया गया.

मान्यता खत्म, खेल खत्म ! 54 राष्ट्रीय महासंघों की मान्यता खत्म, अब देश में एक भी खेल संघ मान्यता प्राप्त नहीं

करीब 15 मिनट बाद लैंड हो सकी फ्लाइट:
पटाखों और साउंड गन के जरिए आवाज कर भी टिड्डियों को हटाया गया. इसके बाद 15 मिनट बाद यह फ्लाइट लैंड हो सकी. इस घटना के बाद एयरपोर्ट प्रशासन ने एयर ट्रैफिक के गश्ती दल फॉलो मी वाहनों के जरिए गश्त बढ़ा दी है. वहीं कुछ समय के लिए फ्लाइट्स की लैंडिंग भी रनवे के दूसरे हिस्से से करवाई गई. 

वर्चुअल रैली में बोले नितिन गडकरी, कहा-कांग्रेस राज में 55 साल में जो नहीं हुआ हमने 6 साल में करके दिखाया है

वर्चुअल रैली में बोले नितिन गडकरी, कहा-कांग्रेस राज में 55 साल में जो नहीं हुआ हमने 6 साल में करके दिखाया है

वर्चुअल रैली में बोले नितिन गडकरी, कहा-कांग्रेस राज में 55 साल में जो नहीं हुआ हमने 6 साल में करके दिखाया है

जयपुर: केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने शनिवार को वर्चुअल रैली को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना का संकट पूरे विश्व का है पूरा विश्व ही संकट से ग्रस्त है. कोरोना संकट गहरा है लेकिन संकट से पूरी ताकत से मिलकर जीत हासिल करेंगे. इस वायरस का इलाज वैक्सीन है हमारे देश के वैज्ञानिक भी वैक्सीन बनाने में कोशिश कर रहे हैं. ज्यादा दूर नहीं वो दिन जब जल्द हमारे देश मे वैक्सीन मिलेगी. जब तक टीका हासिल न हो हमे कोरोना से लड़ना है. 

मुगल सल्तनत के खिलाफ राजस्थान के वीरों ने लड़ाई लड़ी:
उन्होंने कहा कि मुगल सल्तनत के खिलाफ राजस्थान के वीरों ने लड़ाई लड़ी.  नितिन गडकरी ने महाराणा प्रताप के बलिदान का जिक्र किया. कहा कि हमारे पूर्वजों ने देश की संस्कृति और इतिहास बचाने के लिए प्राणों की आहुति दी. इतिहास ही हमारी प्रेरणा है. अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाले क्रांतिकारियों को भी याद किया. संकटों का सामना हमने स्वाधीनता के पहले और बाद में भी किया है. छत्रपति शिवाजी के बलिदान का भी  जिक्र किया. उन्होंने सकारात्मकता, आत्मविश्वास और स्ट्रॉन्ग इच्छाशक्ति पर भाजपा कार्यकर्ताओं की सराहना की. बीजेपी सरकार के 6 साल के कार्याकाल को इतिहास गौरवशाली इतिहास है. 55-60 साल तक कांग्रेस पार्टी को शासन करने का मौका मिला.55 साल का कांग्रेस का इतिहास और 6 साल में मोदी के नेतृत्व में भाजपा का इतिहास. कांग्रेस 55 सालों में जो नहीं कर सकी वह भाजपा ने 6 साल में करके दिखाया.

गैंगस्टर आनंदपाल सिंह एनकाउंटर प्रकरण: 2 साल 6 माह बाद CBI की जांच पूरी, सांवराद हिंसा में 24 लोगों को माना आरोपी

श्यामाप्रसाद मुखर्जी ने किया देश की एकता, अखंडता के लिए बलिदान: 
नितिन गडकरी ने कहा कि श्यामाप्रसाद मुखर्जी ने देश की एकता, अखंडता के लिए बलिदान किया. सरदार वल्लभ भाई पटेल ने पूरे हिंदुस्तान को एक बनाने का काम किया. लेकिन पंडित जवाहरलाल नेहरू ने केवल कश्मीर के बारे में कहा कि यह मेरे ऊपर छोड़ दो मैं करूंगा. अगर यह काम सरदार पटेल को मिलता तो कश्मीर की समस्या नहीं होती. बाबा साहब अंबेडकर ने 370 को लेकर लिखा था कि 370 भारत के संविधान में टेंपरेरी है. टेंपरेरी कलम जल्दी ही निकालने की बात कही थी. लेकिन कांग्रेस के राज में कभी यह कलम नहीं निकल सका. पीएम मोदी सरकार दूसरी बार आई तो सबसे पहले 370 को हटाकर श्यामा प्रसाद मुखर्जी का सपना पूरा किया. 370 क्यों नहीं हटा, क्योंकि कांग्रेस तुष्टीकरण नीति के कारण हिम्मत नहीं कर सकी. तीन बार की लड़ाई में पाकिस्तान हार गया इसलिए हमारे साथ प्रॉक्सी वॉर शुरू की. आतंकवादियों को ट्रेनिंग देकर हिंदुस्तान में भेजा जाता है. मुंबई के बम विस्फोट की घटनाओं का जिक्र किया. आतंकवादियों ने निर्दोष लोगों की हत्या की, उस इतिहास को हम कभी भूल नहीं सकते है. कांग्रेस की सरकार आतंकवादियों के सामने घुटने टेकने का काम करती थी.

हम विस्तारवाली नहीं है, हम शांति और अहिंसा चाहते हैं:
गडकरी ने कहा कि हम विस्तारवाली नहीं है, हम शांति और अहिंसा चाहते हैं. सामर्थ्यवान और ताकतवर व्यक्ति ही शांति और अहिंसा को स्थापित कर सकता है. दुर्बल व्यक्ति के सत्य अहिंसा के भाषण को कोई नही सुनता है. किसी देश की जमीन को हड़पना नहीं चाहते ना हम किसी की जमीन को लेना चाहते है. नेपाल और भूटान के साथ हम हमेशा खड़े रहे. बांग्लादेश को स्वाधीनता दिलाई लेकिन 1 इंच जमीन अपने पास नहीं रखी. हमारे देश में आतंकवादी पाकिस्तान सरकार के आशीर्वाद से आते हैं. जम्मू कश्मीर में विकास की प्रक्रिया को हमने गतिशील किया है. केवल 60000 करोड़ के रोड टनल और अन्य विकास कार्य मेरे विभाग की ओर से चल रहा है. जम्मू कश्मीर को गरीबी भुखमरी और बेरोजगारी से मुक्ति देना चाहते हम. महिलाओ के स्वयंसेवी करने पर जोर दिया जा रहा है. बारामुला की 2000 महिलाओं को 12 से ₹15000 महीने का काम दिया है. 370 से मुक्ति देकर विकास पर केंद्र सरकार ने फोकस किया है.

मान्यता खत्म, खेल खत्म ! 54 राष्ट्रीय महासंघों की मान्यता खत्म, अब देश में एक भी खेल संघ मान्यता प्राप्त नहीं

मान्यता खत्म, खेल खत्म ! 54 राष्ट्रीय महासंघों की मान्यता खत्म, अब देश में एक भी खेल संघ मान्यता प्राप्त नहीं

जयपुर: खेल मंत्रालय ने देश के 54 खेल संघों की मान्यता खत्म कर दी है और इसका सीधा असर अब खिलाड़ियों के भविष्य और ओलिंपिक तैयारियों पर पड़ेगा. मंत्रालय के इस आदेश के बाद देश में कोई भी खेल संघ मान्यता प्राप्त नहीं रह गया है. अब भविष्य को लेकर खिलाड़ी अधरझूल में है. 

-केंद्रीय खेल मंत्रालय को बड़ा फैसला
-कोर्ट के आदेश के बाद लिया फैसला
-54 राष्ट्रीय महासंघों की मान्यता वापस ली
-2 जून को अस्थाई मान्यता दी थी मंत्रालय ने
-लेकिन कोर्ट के आदेश के बाद वापस लेना पड़ा फैसला
-अब देश में एक भी खेल संघ मान्यता प्राप्त नहीं
-हॉकी, फुटबॉल व एथलेटिक्स सहित प्रमुख खेल संघ अधरझूल में
-खिलाड़ी भी अब भविष्य को लेकर हुए परेशान

खेल संघों के भविष्य पर ही सवालिया निशान:
कोरोना संकट के कारण देश में खेल गतिविधियां पहले से ही बंद है और अब खेल मंत्रालय के एक फैसले के बाद तो खेल संघों के भविष्य पर ही सवालिया निशान खड़ा हो गया है. दर असल दो जून को खेल मंत्रालय ने 54 खेल संघों को मान्यता का आदेश जारी किया था, लेकिन दिल्ली हाई कोर्ट कोर्ट ने कहा कि मंत्रालय ने 7 फरवरी के उसके आदेश का पालन नहीं किया और अदालत को पूर्व में सूचित किए बगैर फैसला लिया. इसके बाद खेल मंत्रालय के उप सचिव एसपीएस तोमर ने भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) के महानिदेशक संदीप प्रधान को लिखे पत्र में कहा कि पिछले 2 जून का 54 राष्ट्रीय महासंघों को अस्थाई वार्षिक मान्यता देने वाला पत्र वापस लिया जाता है. दरअसल 54 राष्ट्रीय खेल महासंघों को इस साल सितंबर तक मान्यता प्रदान की थी, लेकिन मंत्रालय ने भारतीय पैरालिंपिक समिति (PCI), भारतीय नौकायन महासंघ (RFI) और भारतीय स्कूल खेल महासंघ (SGFI) को फिर से मान्यता प्रदान नहीं की गई. जिसके कारण मामला कोर्ट में चला गया.

अब हरियाणा के गुरुग्राम पहुंचा टिड्डी दल, फसलों के ऊपर मंडराने से बढ़ी किसानों की चिंता
 
अब देश में एक भी खेल संघ मान्यता प्राप्त नहीं:
खेल मंत्रालय के इस आदेश के बाद देश में कोई भी खेल संघ मान्यता प्राप्त नहीं रह गया है. ऐसे में अब प्रतिबंधिक काल में न सिर्फ मंत्रालय द्वारा खेल संघों को मिलने वाला फंड बंद हो जाएगा, बल्कि इस दौरान विजेताओं को उनकी ओर से मिलने वाले प्रमाण पत्रों का भी कोई महत्व नहीं बचेगा, जिसके आधार पर खिलाड़ियों को सरकारी नौकरी मिलती रही है. कोर्ट ने मंत्रालय को अगले आदेश तक यथास्थिति बनाए रखने को कहा है. अब मंत्रालय को खेल संघों की मान्यता के लिए फिर से नया प्रार्थना पत्र अदालत में दाखिल करना होगा. वैसे तो कोरोना के चलते फिलहाल खेल गतिविधियां ठप पड़ी हुई हो, लेकिन अगर जल्द ही खेल संघों की मान्यता पर फैसला नहीं हुआ तो खेल गतिविधियां शुरू नहीं हो पाएंगी. बिना खेल संघों की मान्यता के कोई भी राष्ट्रीय चैंपियनशिप नहीं होगी. किसी भी अंतरराष्ट्रीय चैंपियनशिप के आयोजन की अनुमति नहीं मिलेगी.

-मान्यता खत्म, खेल खत्म
-संघों को मिलने वाला फंड बंद हो जाएगा
-खिलाड़ियों के प्रमाण पत्रों का महत्व नहीं बचेगा
-प्रमाण पत्र से खिलाड़ियों को सरकारी नौकरी मिलती रही है
-कोई भी राष्ट्रीय चैंपियनशिप नहीं हो पाएगी देश में
-अंतरराष्ट्रीय चैंपियनशिप के आयोजन की अनुमति नहीं मिलेगी

गैंगस्टर आनंदपाल सिंह एनकाउंटर प्रकरण: 2 साल 6 माह बाद CBI की जांच पूरी, सांवराद हिंसा में 24 लोगों को माना आरोपी

Open Covid-19