Live News »

Delhi Election 2020: राजस्थान कांग्रेस नेताओं ने संभाला मोर्चा, सीएम गहलोत और सचिन पायलट है स्टार प्रचारक

Delhi Election 2020: राजस्थान कांग्रेस नेताओं ने संभाला मोर्चा, सीएम गहलोत और सचिन पायलट है स्टार प्रचारक

जयपुर: दिल्ली विधानसभा चुनाव में राजस्थान के कांग्रेस नेताओं ने मोर्चा संभाल लिया. दिल्ली राज्य की 70 विधानसभा सीटों पर राजस्थान के कांग्रेस के नेताओं ने प्रचार की जिम्मेदारी हाथ में ले रखी है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पीसीसी चीफ सचिन पायलट स्टार प्रचारकों की भूमिका में है. गहलोत रह चुके दिल्ली विधानसभा के पहले कांग्रेस प्रभारी. हरीश चौधरी, डॉ रघु शर्मा, रमेश मीना, गोविन्द सिंह डोटासरा,शाले मोहम्मद, प्रमोद जैन भाया, राजेन्द्र यादव, टीकाराम जूली और भजन लाल जाटव समेत प्रमुख मंत्रियों और विधायकों को भी दिल्ली विधानसभा चुनाव में जिम्मेदारी दी है.

राजस्थान के कांग्रेस नेता भी दिल्ली पहुंच चुके: 
दिल्ली विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को कड़े मुकाबले से जूझना पड़ रहा है. आम आदमी पार्टी और बीजेपी से से हर सीट पर कांग्रेस को कड़ी प्रतिस्पर्धा करनी पड़ी है. हालांकि कुछ सीटों पर कांग्रेस मजबूत है. राजस्थान के कांग्रेस नेता भी दिल्ली पहुंच चुके है. सीएम अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम-पीसीसी चीफ सचिन पायलट बतौर स्टार प्रचारक विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों में प्रचार करेंगे. अशोक गहलोत पहले दिल्ली राज्य कांग्रेस के तब प्रभारी रहे थे जब वो एआईसीसी के महासचिव थे. गहलोत कहां कहां प्रचार करेंगे यह एआईसीसी ने तय किया है. मंत्री डॉ रघु शर्मा, रमेश मीना, हरीश चौधरी, शाले मोहम्मद, गोविन्द डोटासरा ने दिल्ली के दौरे किये है. 

--राजस्थान के कांग्रेस नेताओं को दिल्ली में कमान-- 
---इन विधायकों को दिया दिल्ली का टास्क
मुरारी लाल मीना, नरेन्द्र बुढ़ानिया, जी आर खटाना
रीटा चौधरी, शकुंतला रावत, कृष्णा पूनिया
राकेश पारीक, वेदप्रकाश सोलंकी, इंद्राज गुर्जर
दानिश अबरार, प्रशांत बैरवा, मुकेश भाकर
रामनिवास गावडिया, जाहिदा, रोहित बोहरा,
रफीक खान, अमीन कागजी, जगदीश चंद्र
चेतन डूडी सरीखे विधायकों को सौंपी कमान

---इन पीसीसी पदाधिकारियों को कमान---
दुर्रु मियां, मंजू शर्मा, भगवान सहाय सैनी, करण सिंह राठौड़
शंकर लाल मीना, अब्दुल रज्जाक भाटी,आबिद काजी
इमरान कुरैशी, पुष्पेन्द्र भारद्वाज, मनीष यादव
पंकज काकू, भंवर लाल पुजारी, भीमराज भाटी
राकेश बोयत, रामकुमार दाद्यीच 
सुरेश चौधरी,महेन्द्र रलावता, बालेन्दु सिंह शेखावत
राजेन्द्र गोदारा, करण सिंह उचियाडा,अजीजुद्दीन आजाद
पारस मल, हरजिन्द्र सिंह बराड, आर सी चौधरी,कमल मीना
रेहाना रियाज, अभिमन्यु पूनिया 
अर्चना शर्मा,भरत राम मेघवाल, शंकर यादव
घनश्याम मेहर,कुलदीप इंदौरा, ज्योति खंडेलवाल
पवन गोदारा, जगदीश श्रीमाली, मनीष धराणियां
नीरज डांगी, महेन्द्र रलावता
मुरारी लाल मीना, नरेन्द्र बुढ़ानिया, जी आर खटाना
रीटा चौधरी, शकुंतला रावत, कृष्णा पूनिया, कमल मीना 
राकेश पारीक, वेदप्रकाश सोलंकी, इंद्राज गुर्जर
दानिश अबरार, प्रशांत बैरवा, मुकेश भाकर
रामनिवास गावडिया, जाहिदा, रोहित बोहरा,
रफीक खान, अमीन कागजी, जगदीश चंद्र, चेतन डूडी 

देवेन्द्र यादव के विधानसभा क्षेत्र बादली में राज्य कांग्रेस के सर्वाधिक नेता डटे हुये है इसके पीछे कारण यह है कि यादव पीसीसी के प्रभारी सचिव रहे हैं. दिल्ली विधानसभा में केजरीवाल की लहर चली तो फिर कांग्रेस के लिये मुश्किल होगी लेकिन CAA, महंगाई, शाहीन बाग समेत कई कारणों से उम्मीद है कांग्रेस का इस बार खाता खोल सकता है. देवेन्द्र यादव, हारुन यूसुफ़, अरविन्दर सिंह लवली, अल्का लाम्बा, आदित्य शास्त्री समेत कुछ कांग्रेस उम्मीदवारों से खासी उम्मीदें है.

...फर्स्ट इंडिया के लिये योगेश शर्मा की रिपोर्ट 

और पढ़ें

Most Related Stories

राजस्थान का मौजूदा राजनीतिक घटनाक्रम! कपिल सिब्बल का दिलचस्प ट्वीट, तो ओम माथुर ने री-ट्वीट कर कसा तंज

जयपुर: राजस्थान में विधायकों के खरीद फरोख्त प्रकरण तूल पकडता जा रहा है. वहीं राजस्थान के मौजूदा राजनीति घटनाक्रम पर वरिष्ठ कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल का दिलचस्प ट्वीट सामने आया है. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा है कि हमारी पार्टी के लिए चिंताजनक है. क्या घोड़ों के अस्तबल से उछलने के बाद ही हम जागेंगे ? और कुछ देर बाद ही सिब्बल के ट्वीट पर बीजेपी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर ने प्रतिक्रिया दी. उन्होंने री-ट्वीट करते हुए तंज कसा है. उन्होंने कहा कि जहां हरियाली होगी,वहीं कुलांचे भरने का मज़ा है,सूखे में खुर टूट जाते है. 

विधायक खरीद फरोख्त प्रकरण: मुख्यमंत्री आवास पर बढ़ी हलचल, करीब 20 मंत्री-विधायक पहुंचे सीएम आवास

अंतर्कलह पहले दिन से ही हो गई थी शुरू:
बीजेपी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर ने कहा कि सरकार बनने के साथ ही सत्ताधारी पार्टी में  कलह शुरू हो गई थी. कांग्रेस को बीजेपी पर आरोप मढ़ने से पहले अपने घर में झांकना चाहिए. जिसने पांच साल मेहनत की उसे मुख्यमंत्री नहीं बनाया गया. जो दिल्ली में थे उन्हें सीएम बना दिया गया. उसी दिन से साफ हो गया कि मेहनत किसी और ने की और फल कोई और खा रहा है. इनकी अंतर्कलह पहले दिन से ही शुरू हो गई थी. अभी के सियासी हालात के लिए कांग्रेस को बीजेपी को दोष नहीं देना चाहिए. 

करीब 20 मंत्री-विधायक पहुंचे मुख्यमंत्री आवास:
मुख्यमंत्री आवास पर विधायकों के पहुंचने का सिलसिला जारी है. सीएम गहलोत से मिलने करीब 20 विधायक पहुंचे. इससे पहले शनिवार को सीएम गहलोत जब कैबिनेट मीटिंग कर रहे थे तो, डिप्टी सीएम सचिन पायलट इस बैठक में शामिल नहीं हुए. इस वक्त वो दिल्ली में थे.आपको बता दें कि करीब 20 मंत्री-विधायक मुख्यमंत्री आवास पहुंचे. जिनमें शांति धारीवाल, गोविंद डोटासरा, महेश जोशी, सालेह मोहम्मद, टीकाराम जूली, भंवर सिंह भाटी, भजन लाल जाटव, प्रमोद जैन भया,हरीश चौधरी, महेंद्र चौधरी,बाबूलाल नागर, रामलाल जाट, जोगिंदर अवाना,राजेंद्र गुढ़ा संदीप यादव, लखन मीणा, रफीक खान, जोहरी लाल मीणा, रघुवीर मीना,शकुंतला रावत, मुख्यमंत्री आवास पर पहुंचे.इससे पहले इंटेलिजेंस के अफसर मुख्यमंत्री अवासर पर पहुंचे. मुख्यमंत्री गहलोत को प्रदेश की कानून व्यवस्था की रिपोर्ट देंगे. 

विधायक खरीद फरोख्त प्रकरण: सचिन पायलट को मिल चुका SOG का नोटिस, तब से ही खफा हैं पायलट !

विधायक खरीद फरोख्त प्रकरण: मुख्यमंत्री आवास पर बढ़ी हलचल, करीब 20 मंत्री-विधायक पहुंचे सीएम आवास

विधायक खरीद फरोख्त प्रकरण: मुख्यमंत्री आवास पर बढ़ी हलचल, करीब 20 मंत्री-विधायक पहुंचे सीएम आवास

जयपुर: राजस्थान कांग्रेस में सियासी संकट मामला काफी तूल पकड़ता जा रहा है. मुख्यमंत्री आवास पर विधायकों के पहुंचने का सिलसिला जारी है. सीएम गहलोत से मिलने करीब 20 विधायक पहुंचे. इससे पहले शनिवार को सीएम गहलोत जब कैबिनेट मीटिंग कर रहे थे तो, डिप्टी सीएम सचिन पायलट इस बैठक में शामिल नहीं हुए. इस वक्त वो दिल्ली में थे.

करीब 20 मंत्री-विधायक पहुंचे मुख्यमंत्री आवास:
आपको बता दें कि करीब 20 मंत्री-विधायक मुख्यमंत्री आवास पहुंचे. जिनमें शांति धारीवाल, गोविंद डोटासरा, महेश जोशी, सालेह मोहम्मद, टीकाराम जूली, भंवर सिंह भाटी, भजन लाल जाटव, प्रमोद जैन भया,हरीश चौधरी, महेंद्र चौधरी,बाबूलाल नागर, रामलाल जाट, जोगिंदर अवाना,राजेंद्र गुढ़ा संदीप यादव, लखन मीणा, रफीक खान, जोहरी लाल मीणा, रघुवीर मीना,शकुंतला रावत, मुख्यमंत्री आवास पर पहुंचे.इससे पहले इंटेलिजेंस के अफसर मुख्यमंत्री अवासर पर पहुंचे. मुख्यमंत्री गहलोत को प्रदेश की कानून व्यवस्था की रिपोर्ट देंगे. वहीं एसओजी के अधिकारियों के भी पहुंचे की चर्चा है.

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 4 मौत, 153 नए पॉजिटिव केस, अलवर में सर्वाधिक 42 पॉजिटिव मरीज मिले

शनिवार को भी इन मंत्रियों और विधायकों ने की सीएम से मुलाकात: 
राजस्थान में विधायकों की खरीद-फरोख्त के जरिए सरकार गिराने की साजिश के खुलासे के बाद राजस्थान सरकार के मंत्रियों और विधायकों ने शनिवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात की. मुख्यमंत्री आवास पर हुई मुलाकात में एक दर्जन मंत्री और एक दर्जन विधायक मौजूद रहे. बसपा से आए 6 में से 4 विधायक और आधा दर्जन से अधिक निर्दलीय विधायक सीएम से मिले. मुख्यमंत्री से करने वालों में चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा, यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल, परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास, चिकित्सा राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग, श्रम मंत्री टीकाराम जूली, महिला बाल विकास विभाग मंत्री ममता भूपेश, खेल मंत्री अशोक चांदना, मुख्य सचेतक महेश जोशी, उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी शामिल रहे. 

अनुपम खेर के परिवार के 4 सदस्यों को हुआ कोरोना, मां और भाई निकले कोरोना संक्रमित, ट्वीट करके दी जानकारी

विधायक खरीद फरोख्त प्रकरण: मुख्यमंत्री आवास पर बढ़ी हलचल, करीब 20 मंत्री-विधायक पहुंचे सीएम आवास

विधायक खरीद फरोख्त प्रकरण: मुख्यमंत्री आवास पर बढ़ी हलचल, करीब 20 मंत्री-विधायक पहुंचे सीएम आवास

जयपुर: राजस्थान कांग्रेस में सियासी संकट मामला काफी तूल पकड़ता जा रहा है. मुख्यमंत्री आवास पर विधायकों के पहुंचने का सिलसिला जारी है. सीएम गहलोत से मिलने करीब 20 विधायक पहुंचे. इससे पहले शनिवार को सीएम गहलोत जब कैबिनेट मीटिंग कर रहे थे तो, डिप्टी सीएम सचिन पायलट इस बैठक में शामिल नहीं हुए. इस वक्त वो दिल्ली में थे.

करीब 20 मंत्री-विधायक पहुंचे मुख्यमंत्री आवास:
आपको बता दें कि करीब 20 मंत्री-विधायक मुख्यमंत्री आवास पहुंचे. जिनमें शांति धारीवाल, गोविंद डोटासरा, महेश जोशी, सालेह मोहम्मद, टीकाराम जूली, भंवर सिंह भाटी, भजन लाल जाटव, प्रमोद जैन भया,हरीश चौधरी, महेंद्र चौधरी,बाबूलाल नागर, रामलाल जाट, जोगिंदर अवाना,राजेंद्र गुढ़ा संदीप यादव, लखन मीणा, रफीक खान, जोहरी लाल मीणा, रघुवीर मीना,शकुंतला रावत, मुख्यमंत्री आवास पर पहुंचे.इससे पहले इंटेलिजेंस के अफसर मुख्यमंत्री अवासर पर पहुंचे. मुख्यमंत्री गहलोत को प्रदेश की कानून व्यवस्था की रिपोर्ट देंगे. वहीं एसओजी के अधिकारियों के भी पहुंचे की चर्चा है.

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 4 मौत, 153 नए पॉजिटिव केस, अलवर में सर्वाधिक 42 पॉजिटिव मरीज मिले

शनिवार को भी इन मंत्रियों और विधायकों ने की सीएम से मुलाकात: 
राजस्थान में विधायकों की खरीद-फरोख्त के जरिए सरकार गिराने की साजिश के खुलासे के बाद राजस्थान सरकार के मंत्रियों और विधायकों ने शनिवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात की. मुख्यमंत्री आवास पर हुई मुलाकात में एक दर्जन मंत्री और एक दर्जन विधायक मौजूद रहे. बसपा से आए 6 में से 4 विधायक और आधा दर्जन से अधिक निर्दलीय विधायक सीएम से मिले. मुख्यमंत्री से करने वालों में चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा, यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल, परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास, चिकित्सा राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग, श्रम मंत्री टीकाराम जूली, महिला बाल विकास विभाग मंत्री ममता भूपेश, खेल मंत्री अशोक चांदना, मुख्य सचेतक महेश जोशी, उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी शामिल रहे. 

अनुपम खेर के परिवार के 4 सदस्यों को हुआ कोरोना, मां और भाई निकले कोरोना संक्रमित, ट्वीट करके दी जानकारी

विधायक खरीद फरोख्त प्रकरण पर सबसे बड़ा अपडेट! गुड़गांव में हो रही विधायकों की बाड़ेबंदी 

जयपुर: राजस्थान में विधायक खरीद फरोख्त प्रकरण तूल पकडता जा रहा है. अब जानकार सूत्रों के हवाले से बड़ी खबर मिली है कि गुड़गांव में विधायकों की बाड़ेबंदी हो रही है. 17 से 18 विधायक बाड़ेबंदी में पहुंचे. हालांकि सवाई माधोपुर विधायक दानिश अबरार बाड़ेबंदी में नहीं पहुंचे. 

प्रदेश की सीमाओं पर कड़ी नाकाबंदी:
राजाखेड़ा विधायक रोहित बोहरा और डीडवाना विधायक चेतन डूडी भी बाड़ेबंदी में नहीं पहुंचे है. तीनों विधायक दानिश अबरार के निजी आवास पर मौजूद हैं.फिलहाल तीनों विधायक बाड़ेबंदी से अलग हैं. जानकारी के मुताबिक कांग्रेस के कुछ विधायकों के फोन बंद है. आज दिन भर से फोन बंद आ रहे है.इस बीच प्रदेश की सीमाओं पर कड़ी नाकाबंदी कर दी गई है.

20 से 25 विधायकों के ठहरने की व्यवस्था:
जानकार सूत्रों के हवाले से बड़ी खबर मिली है कि ITC ग्रांड भारत होटल में बाड़ेबंदी की गई है. होटल में 20 से 25 विधायकों के ठहरने की व्यवस्था है. बाड़ेबंदी का उद्देश्य सभी विधायकों को लाना नहीं है. एमपी फॉर्मूले के तहत 20-25 विधायकों को लाने की रणनीति बनाई गई है. राजस्थान सरकार को अस्थिर करने का फॉर्मूला बताया जा रहा है, लेकिन इस बीच एक बड़े सूत्र ने संकेत दिए है. गुड़गांव होटल से विधायकों को एकत्रित कर दूसरी जगह शिफ्ट किया जा सकता है.

खरीद-फरोख्त से जुड़े मसले पर बोले गुलाबचंद कटारिया, कहा-साबित कर दें मेरा रोल, तो पलभर में राजनीति से ले लूंगा संन्यास

कुछ मंत्रियों और विधायकों ने की CM से चर्चा:
सूत्रों के मुताबिक वहीं इससे पहले मुख्यमंत्री आवास पर मानेसर की भी चर्चा चल रही थी. कुछ मंत्रियों और विधायकों ने CM से चर्चा भी की है. मानेसर में एक होटल बुक होने के इनपुट दिए गए है.मुख्यमंत्री आवास पर भोपाल की भी चर्चा चली. प्रदेश के कुछ विधायकों को वहां ले जाने की चर्चा भी चली. गौरतलब है कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को प्रेसवार्ता की. जिसमें उन्होंने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि हम कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे है तो दूसरी तरफ ये लोग सरकार गिराने में लगे हैं. हम सबको सरकार बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है. सब कोरोना की तरफ ध्यान दे रहे हैं लेकिन ये लोग सरकार कैसे गिरे, कैसे तोड़फोड़ करें इसमें लगे हैं. बीजेपी के लोग धर्म, जाति के नाम पर लोकतंत्र की हत्या करने में जुटे हुए हैं. 

शिक्षक को नहीं किया गया एक वर्ष से वेतन का भुगतान, राजस्थान हाईकोर्ट ने टोंक जिला शिक्षा अधिकारी को किया तलब

खरीद-फरोख्त से जुड़े मसले पर बोले गुलाबचंद कटारिया, कहा-साबित कर दें मेरा रोल, तो पलभर में राजनीति से ले लूंगा संन्यास

उदयपुर: प्रदेश में विधायकों की खरीद-फरोख्त के मामले में मचे बवाल के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा भाजपा पर सरकार को गिराने के प्रयास करने के आरोप लगाने के बाद गुलाबचंद कटारिया ने अपनी प्रतिक्रिया दी. 

पलभर की देर किए बिना ले लेंगे राजनीति से संन्यास:
उदयपुर पहुंचे गुलाबचंद कटारिया ने मीडिया कर्मियों से बातचीत में साफ किया कि यदि सरकार बहुमत में है तो उसे डरने की कोई जरूरत नहीं है. साथ ही कटारिया ने कहा कि मुख्यमंत्री यदि इस बात को साबित कर दें की कटारिया का इसमें जरा सा भी हाथ है तो वह पलभर की देर किए बिना राजनीति से संन्यास ले लेंगे.

विधायक खरीद फरोख्त प्रकरण: एसओजी ने कहा-हमने फोन पर बातचीत के आधार पर दर्ज की है FIR 

कांग्रेस में अंदरूनी गुटबाजी:
कटारिया ने साफ किया कि कांग्रेस में अंदरूनी गुटबाजी है और जिस को छुपाने के लिए सत्ताधारी दल इस तरह के हथकंडे अपना रहा है. कटारिया ने कहा कि एसओजी पूरे मामले की जांच कर रही है और जांच में सब साफ हो जाएगा.

भरतपुर में फिर टिड्डियों का आतंक, किसानों के चेहरे पर छाई चिंता की लकीरें

कांग्रेस के मन में हताशा और निराशा है- सतीश पूनिया

कांग्रेस के मन में हताशा और निराशा है- सतीश पूनिया

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की प्रेसवार्ता के बाद बीजेपी प्रदेश मुख्यालय में गुलाबचंद कटारिया-सतीश पूनियां-राजेन्द्र राठौड़ की संयुक्त पीसी हुई. नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया VC के जरिये जुड़े. प्रेसवार्ता में सीएम गहलोत के बयानों का सतीश पूनिया ने जवाब दिया. उन्होंने कहा कि सीएम की प्रेसवार्ता से सबको उम्मीद थी को वो जनता के हित का कोई निर्णय सुनाएंगे. लेकिन मेरे अब तक के राजनीतिक करियर में मुख्यमंत्री गहलोत को इतना विचलित कभी नहीं देखा. 

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत 

देश में कांग्रेस विचारों से भी और व्यवहार से भी लगभग मुक्त हो गई: 
सीएम गहलोत ने पत्रकार वार्ता में जो बात कही उससे साफ तौर पर नजर आ रहा था कि उनकी मन में हताशा, निराशा और बौखलाहट ये सब नजर आ रही थी. इसका कारण पूरे देश में कांग्रेस विचारों से भी और व्यवहार से भी लगभग मुक्त हो गई. बड़े प्रदेशों में गिनती करें तो केवल राजस्थान बचा है. लेकिन रोचक बात ये है मुख्यमंत्री इतने पर्यावरण प्रेमी है, इतने जीवजंतु प्रेमी है कि कभी वो घोड़े की बात करते हैं और आज बकरे की कर दी. अब कोई उनसे पूछे की राजस्थान के विधायक बकरा मंडी कैसे हो सकते हैं. इसका जवाब उन्हें देना चाहिए. उन्होंने बेशर्मी जैसी भाषा का इस्तेमाल किया. हालांकि ये बात जरूर है कि वो घोड़े और बकरे की बात करते करते हाथि को भूल जाते हैं, हाथि का अस्तित्व ही खत्म कर देते हैं. 

VIDEO: मुख्यमंत्री हर कोई बनना चाहता है लेकिन बनता एक ही है- सीएम गहलोत 

देश के लोकतंत्र में आपातकाल लगाने का काम इंदिरा गांधी के समय हुआ:
बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि उन्होंने देश में लोकतंत्र की हत्या की बात कही. वो स्व इंदिरा गांधी के नेता के समय के नेता है. उनको ध्यान होना चाहिए कि देश में आपातकाल लगाने का काम देश के लोकतंत्र में पहली बार उन्ही की सरकार में हुआ. आज वो दुहाई देते हुए अनु. 356 का दुरुपयोग 93 कांग्रेस ने ही किया. इतना ही राजस्थान में भैरूसिंह जी की सरकार को अस्थिर करने के लिए भजनलाल जी का अटैची कांड बड़ा फैमस हुआ था. सीएम गहलोत ने अपनी बातों में कोरोना का जिक्र किया. मैं पिछले दिनों से देख रहा हूं कि सीएम गहलोत ने अपनी सरकार की विफलताओं को छिपाने के लिए कोरोना को लेकर बीजेपी नेताओं पर आरोप लगाने के अलावा कोई काम नहीं किया. राजस्थान कोरोना में पूरी तरह से फेल हो गया. इसके साथ ही पूनिया ने कई मुद्दों को लेकर प्रदेश सरकार पर निशाना साधा. 


 

VIDEO: मुख्यमंत्री हर कोई बनना चाहता है लेकिन बनता एक ही है- सीएम गहलोत

VIDEO: मुख्यमंत्री हर कोई बनना चाहता है लेकिन बनता एक ही है- सीएम गहलोत

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान सीएम गहलोत ने प्रदेश में चल रहे विधायकों की खरीद-फरोख के प्रकरण पर खुल कर बात की. इसके साथ ही पत्रकारों के सवालों का भी जादुई तरीके से जवाब दिया. एक सवाल के जवाब में सीएम गहलोत ने कहा कि मुख्यमंत्री बनना कौन नहीं चाहता. 5-7 लोग होंगे उनमें मुख्यमंत्री बनने की योग्यता होती है. लेकिन मुख्यमंत्री एक ही बन सकता है, और एक मुख्यमंत्री बनने के बाद बाकी सब शांत होते हैं. हमारे यहां घोर शांति है. 

ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर! तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ होगी प्राथमिक जांच 

गुटबाजी तो भाजपा में है: 
वहीं इस दौरान सीएम गहलोत ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि गुटबाजी तो भाजपा में है. इस कारण इनकी प्रदेश कार्यकारिणी भी नहीं बन पा रही है. वसुंधरा जी का आजकल नाम कम आता है, चेहरा तो वसुंधरा का होना चाहिए था. वसुधरा राजे का उपयोग तो आप नहीं कर पाते, 2 बार सीएम रहने के बाद भी उनका उपयोग नहीं हो रहा है. 

बकरा मंडी में जैसे बकरा खरीदते हैं वैसे ये लोग विधायकों को खरीद रहे- सीएम गहलोत 

हम सबको सरकार बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा: 
वहीं सीएम गहलोत ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि हम कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे है तो दूसरी तरफ ये लोग सरकार गिराने में लगे हैं. हम सबको सरकार बचाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है. सब कोरोना की तरफ ध्यान दे रहे हैं लेकिन ये लोग सरकार कैसे गिरे, कैसे तोड़फोड़ करें इसमें लगे हैं. बीजेपी के लोग धर्म, जाति के नाम पर लोकतंत्र की हत्या करने में जुटे हुए हैं. 

ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर! तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ होगी प्राथमिक जांच

ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर! तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ होगी प्राथमिक जांच

जयपुर: ACB से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर आ रही है. तीन निर्दलीय विधायकों के खिलाफ प्राथमिकी जांच होगी. विधायक खुशवीर सिंह, सुरेश टांक, ओम प्रकाश हुड़ला के खिलाफ जांच होगी. इन पर आदिवासी इलाकों में जाकर विधायकों को प्रलोभन देने का आरोप है. मिली जानकारी के अनुसार डूंगरपुर, बांसवाड़ा इन इलाकों में विधायकों को प्रलोभन दिया जा रहा था. डीजी आलोक त्रिपाठी ने इस खबर की पुष्टि की है. 
 

Open Covid-19