नई दिल्ली Delhi Fire: मुंडका में आग लगने की घटना के बाद अपने प्रियजनों की तलाश में अस्पताल पहुंचे व्याकुल परिजन

Delhi Fire: मुंडका में आग लगने की घटना के बाद अपने प्रियजनों की तलाश में अस्पताल पहुंचे व्याकुल परिजन

Delhi Fire: मुंडका में आग लगने की घटना के बाद अपने प्रियजनों की तलाश में अस्पताल पहुंचे व्याकुल परिजन

नई दिल्ली: दिल्ली के मुंडका में एक व्यावसायिक इमारत में आग लगने की घटना के बाद व्याकुल परिजन अपने प्रियजनों की तलाश में शुक्रवार की रात संजय गांधी अस्पताल पहुंचे. इनमें से एक, अजित तिवारी ने बताया कि उनकी बहन मोनिका (21) घटना के बाद से लापता है.

तिवारी ने कहा कि उसने पिछले महीने सीसीटीवी कैमरा पैकेजिंग ईकाई में काम शुरू किया था और बृहस्पतिवार को उसे पहली तनख्वाह मिली थी. हमें आग लगने के बारे में शाम पांच बजे सूचना मिली लेकिन यह अंदाजा नहीं था कि आग उसके कार्यालय की इमारत में ही लगी है. जब वह शाम सात बजे तक घर नहीं लौटी तो हमने उसकी तलाश शुरू की.

उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले की रहने वाली मोनिका अपने दो भाइयों और एक बहन के साथ दिल्ली के अगर नगर में रहती है. एक अन्य महिला अपनी बड़ी बेटी की तलाश में भटकती दिखी जो सीसीटीवी कैमरा पैकेजिंग ईकाई में ही काम करती है.

इमारत से करीब 60-70 लोगों को बचाया गया है:

महिला ने कहा कि मेरी बेटी पूजा पिछले तीन महीने से सीसीटीवी कैमरा पैकेजिंग ईकाई में काम कर रही है. हम मुबारकपुर में रहते हैं और हमें रात नौ बजे घटना के बारे में पता चला. उसकी बायीं आंख के नीचे कटे हुए का निशान है. हम विभिन्न अस्पतालों में उसकी तलाश कर रहे हैं. उसकी दो छोटी बहनें एक स्कूल में पढ़ती हैं.

पुलिस ने बताया कि राष्ट्रीय राजधानी के पश्चिमी इलाके में मुंडका मेट्रो स्टेशन के पास स्थित तीन मंजिला व्यावसायिक इमारत में शुक्रवार की शाम आग लगने से कम से कम 27 लोगों की मौत हो गई और 12 अन्य झुलस गए. उन्होंने बताया कि इमारत से करीब 60-70 लोगों को बचाया गया है. कुछ लोग अब भी फंसे हुए हैं. दमकल विभाग के अधिकारियों के अनुसार, आग लगने की सूचना शाम करीब चार बजकर 40 मिनट पर लगी, जिसके बाद 24 अग्निशमन गाड़ियों को मौके पर भेजा गया.

हमने खिड़कियों के शीशे तोड़े और किसी तरह भाग निकले:

इमारत के एक कार्यालय में काम करने वाले अंकित ने कहा कि जब आग लगी तब दूसरी मंजिल पर एक ‘प्रेरक सत्र’ चल रहा था. उसने कहा कि मैं बहुत भाग्यशाली हूं कि मैं बच गया. मैं भी अपनी जान गंवा सकता था. जब हमें आग लगने का पता चला तब इमारत की दूसरी मंजिल पर एक प्रेरक सत्र चल रहा था. हमने खिड़कियों के शीशे तोड़े और किसी तरह भाग निकले. एक अन्य व्यक्ति ने बताया कि उसकी एक रिश्तेदार लापता है. पुलिस ने बताया कि कम से कम 27 लोगों की मौत हो गयी है और 12 घायल हैं. बहरहाल, उन्होंने मृतकों की अन्य जानकारियां जैसे कि लिंग या उम्र के बारे में नहीं बताया. यह आग मुंडका मेट्रो स्टेशन के पिलर नंबर 544 के निकट लगी.

घटना पर गहरा दुख जाहिर किया और प्रभावित परिवारों के प्रति संवेदना जताई: 

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह और कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आग लगने से लोगों की मौत पर शोक जताया और घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, नेता विपक्ष व समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव और बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती ने भी घटना पर गहरा दुख जाहिर किया और प्रभावित परिवारों के प्रति संवेदना जताई है. सोर्स-भाषा 

और पढ़ें