नई दिल्ली Documentary film काली पर छिड़ा विवाद, दिल्ली पुलिस ने पोस्टर के संबंध में किया मामला दर्ज

Documentary film काली पर छिड़ा विवाद, दिल्ली पुलिस ने पोस्टर के संबंध में किया मामला दर्ज

Documentary film काली पर छिड़ा विवाद, दिल्ली पुलिस ने पोस्टर के संबंध में किया मामला दर्ज

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने वृत्तचित्र ‘काली’ के विवादास्पद पोस्टर के संबंध में एक मामला दर्ज किया है. अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी.

तक बेखौफ अपनी आवाज बुलंद करती रहेंगी:
पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दिल्ली पुलिस की ‘इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रेटेजिक ऑपरेशन’ (आईएफएसओ) इकाई ने भारतीय दंड संहिता की धारा 153ए और 295ए के तहत मामला दर्ज किया है. इसस पहले, वृत्तचित्र ‘काली’ के पोस्टर पर काली मां को धूम्रपान करते और एलजीबीटीक्यू का झंडा थामे दिखाये जाने के कारण आलोचनाओं का शिकार हो रहीं फिल्म निर्माता लीना मणिमेकलाई ने सोमवार को कहा था कि वह जब तब जिंदा हैं, तब तक बेखौफ अपनी आवाज बुलंद करती रहेंगी. 

‘काली’ के पोस्टर की सोशल मीडिया मंचों पर कड़ी आलोचना की गई और विवाद बढ़ने के बाद हैशटैग ‘अरेस्ट लीना मणिमेकलाई’ भी ‘ट्रेंड’ करने लगा था.  सोशल मीडिया पर इसका विरोध करने वालों का आरोप है कि फिल्म निर्माता धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचा रही हैं.

सिगरेट पीते हुए दिखाना बेहद आपत्तिजनक है:
हिंदू सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु गुप्ता ने ट्वीट किया कि फिल्म में मां काली को सिगरेट पीते हुए दिखाना बेहद आपत्तिजनक है. बेहद शर्मनाक. हिंदू सेना दिल्ली पुलिस से लीना मणिमेकलाई के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग करती है. इस पूरे विवाद के बीच टोरंटो में रहने वाली निर्देशिका ने पलटवार करते हुए कहा था कि वह (इसके लिए) अपनी जान तक देने को तैयार हैं.

पोस्टर का अभिप्राय समझने के लिए वृतचित्र देखें:
मणिमेकलाई ने इस विवाद को लेकर लिखे एक लेख के जवाब में ट्विटर पर तमिल भाषा में लिखा कि मेरे पास खोने के लिए कुछ नहीं है. मैं जब तक जीवित हूं, मैं बेखौफ जीना चाहती हूं. अगर इसके लिए मुझे जान भी देनी पड़े, तो मैं वह भी देने को तैयार हूं. मदुरै में जन्मी फिल्म निर्माता ने शनिवार को सोशल मीडिया मंच पर ‘काली’ का पोस्टर साझा किया था और बताया था कि यह फिल्म टोरंटो में आगा खान संग्रहालय में 'रिदम्स ऑफ कनाडा' खंड का हिस्सा है. उन्होंने लोगों से अपील भी की कि वह पोस्टर का अभिप्राय समझने के लिए वृतचित्र देखें. सोर्स-भाषा 

और पढ़ें