दिल्ली सरकार ने बाल कल्याण कोष में दान का किया आग्रह, प्रतिमाह जरुरतमंद बच्चों को 2500 रु. देने की घोषणा की

दिल्ली सरकार ने बाल कल्याण कोष में दान का किया आग्रह, प्रतिमाह जरुरतमंद बच्चों को 2500 रु. देने की घोषणा की

दिल्ली सरकार ने बाल कल्याण कोष में दान का किया आग्रह, प्रतिमाह जरुरतमंद बच्चों को 2500 रु. देने की घोषणा की

नई दिल्ली: दिल्ली की आम आदमी पार्टी ने लोगों से दिल्ली बाल कल्याण कोष में दान करने और उन बच्चों का विवरण साझा करने का आग्रह किया है जो कोरोना वायरस महामारी के कारण अनाथ हो गए हैं या अपने माता-पिता में से किसी एक को खो दिया है.  

दिल्ली चाइल्डलाइन नबंर 1098 पर करें संपर्क: 
महिला एवं बाल विकास विभाग ने कहा कि अगर आप किसी ऐसे बच्चे को जानते हैं जिसने कोविड-19 की वजह से माता-पिता या दोनों में किसी को खो दिया है, तो चाइल्डलाइन को 1098 पर कॉल करें या हमें ऐसे बच्चे का विवरण मेल करें. महिला एवं बाल विकास विभाग ने सार्वजनिक घोषणा के माध्यम से लोगों से कहा कि दिल्ली बाल कल्याण कोष में दान दें ताकि देखभाल के जरूरतमंद बच्चों की सलामती, उनका संरक्षण और पुनर्वास सुनिश्चित हो सके. 

रिश्तेदारों की देखभाल से महरूम न हों बच्चे:
विभाग के मुताबिक, लोग आवासीय देखभाल, निर्वाह सहायता, शिक्षा, चिकित्सा और मानसिक स्वास्थ्य, व्यावसायिक प्रशिक्षण और कौशल विकास, पालक देखभाल आदि जैसी बच्चों की जरूरतों को प्रायोजित कर सकते हैं. इससे यह भी सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी कि भाई-बहन आपस में न बिछड़े या रिश्तेदारों की देखभाल से महरूम न हों. 

सीएम ने की जरुरतमद बच्चों के लिए 2500रु. प्रतिमाह की घोषणा:
दिल्ली बाल संरक्षण आयोग (DCPCR)  के एक सर्वेक्षण के मुताबिक, पिछले साल मार्च में महामारी के शुरू होने के बाद दो हजार से अधिक बच्चों ने कोरोना वायरस के कारण अपने माता या पिता में से किसी को खोया है जबकि उनमें से 67 के दोनों माता-पिता की मौत हो चुकी है. बयान के मुताबिक, 651 बच्चों ने मांओं को खोया है जबकि 1311 बच्चों ने अपने पिताओं को खोया है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ऐसे बच्चों के लिए प्रति माह 2,500 रुपये की वित्तीय सहायता देने की घोषणा की थी जो उन्हें 25 साल की उम्र तक मिलती रहेगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी जून में ऐसे बच्चों के लिए कई कल्याणकारी उपायों की घोषणा की थी. सोर्स-भाषा

और पढ़ें