Live News »

दिल्ली हिंसा: जज मुरलीधर का तबादला, पंजाब और हरियाणा HC भेजे गए

दिल्ली हिंसा: जज मुरलीधर का तबादला, पंजाब और हरियाणा HC भेजे गए

नई दिल्ली: दिल्ली हिंसा को लेकर बुधवार को सुनवाई के दौरान दिल्ली पुलिस को फटकार लगाने वाले दिल्ली हाई कोर्ट के जस्टिस एस. मुरलीधर का ट्रांसफर हो गया है. केंद्रीय कानून मंत्रालय की तरफ से जारी गजट नोटिफिकेशन में उन्हें पंजाब एंड हरियाणा हाई कोर्ट में ट्रांसफर किया गया है. 

नोटिफिकेशन हुआ जारी: 
आपको बता दें कि जस्टिस एस. मुरलीधर के तबादले को लेकर सुप्रीम कोर्ट के कलीजियम ने 12 फरवरी को ही सिफारिश की थी. जो नोटिफिकेशन जारी हुआ है उसमें कहा गया है कि सीजेआई एस. ए. बोबडे की सलाह पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दिल्ली हाई कोर्ट के जज जस्टिस एस. मुरलीधर को पंजाब एंड हरियाणा हाई कोर्ट में ट्रांसफर किया जाता है.

दिल्ली के हिंसा प्रभावित इलाकों का डोभाल ने किया दौरा, मौजपुर की गलियों में की लोगों से बातचीत

हाई कोर्ट ने पुलिस को लगाई थी फटकार:
बुधवार को दिल्ली हिंसा मामले में सुनवाई के दौरान हाई कोर्ट ने तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा था कि दिल्ली में दूसरे '1984' को नहीं होने देंगे. इससे पहले दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को फटकार लगाया था और कोर्ट में भाजपा  नेताओं का वीडियो देखा गया था. हाई कोर्ट ने कहा था कि हम अभी भी 1984 के पीड़ितों के मुआवजे के मामलों से निपट रहे हैं, ऐसा दोबारा नहीं होना चाहिए. नौकरशाही में जाने के बजाय लोगों की मदद होनी चाहिए. इस माहौल में यह बहुत ही नाजुक काम है, लेकिन अब संवाद को विनम्रता के साथ बनाये रखा जाना चाहिए.

Delhi violence: पीएम मोदी ने किया ट्वीट, जल्द से जल्द बहाल हो सामान्य स्थिति

और पढ़ें

Most Related Stories

निकिता मर्डर केसः हरियाणा के गृह मंत्री ने कहा- मुख्य आरोपी के कांग्रेस नेताओं से संबंध

निकिता मर्डर केसः हरियाणा के गृह मंत्री ने कहा- मुख्य आरोपी के कांग्रेस नेताओं से संबंध

चंडीगढ़: हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने बुधवार को दावा किया कि बल्लभगढ़ में कॉलेज छात्रा की हत्या के मामले के मुख्य आरोपी के राज्य में कांग्रेस के कुछ नेताओं से संबंध हैं और उनकी ओर से दबाव के चलते ही पीड़ित परिवार ने व्यक्ति के खिलाफ पूर्व में एक शिकायत वापस ले ली थी. इससे संबंधित घटनाक्रम में छात्रा निकिता (21) की हत्या के सिलसिले में गठित तीन सदस्यीय विशेष जांच दल (एसआईटी) ने बुधवार को अपनी जांच शुरू की और फरीदाबाद के बल्लभगढ़ में पीड़ित परिवार के सदस्यों से मुलाकात की.

{related}

एसआईटी टीम ने पीड़िता के घर का किया दौराः
सहायक पुलिस आयुक्त (अपराध) अनिल कुमार के नेतृत्व वाली एसआईटी ने बल्लभगढ़ में सोहना रोड स्थित पीड़िता के घर का दौरा किया और उसके अभिभावकों से कुछ मिनट बात की. यह जानकारी छात्रा के पिता ने संवाददाताओं को दी. पुलिस ने दो व्यक्तियों- मुख्य आरोपी तौसीफ और रेहान- को छात्रा की बल्लभगढ़ स्थित उसके कॉलेज के बाहर कथित रूप से हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. इस घटना को लेकर विरोध प्रदर्शन किये गए थे तथा छात्रों एवं स्थानीय लोगों ने सोहना रोड को बाधित कर दिया था.

मुख्य आरोपी के हरियाणा के कुछ कांग्रेसी नेताओं से संबंधः
विज ने अंबाला में संवाददाताओं को बताया कि एसआईटी 2018 से घटनाक्रमों की भी जांच करेगी जिनके बाद यह हत्या की गई. उन्होंने कहा कि बल्लभगढ़ में 21 वर्षीय कॉलेज छात्रा की हत्या के मुख्य आरोपी के हरियाणा के कुछ कांग्रेसी नेताओं से संबंध हैं और उन्हीं के दबाव में पीड़ित परिवार ने 2018 में उस व्यक्ति के खिलाफ दर्ज की गई पहले की शिकायत वापस ले ली थी.

धर्मपरिवर्तन के लिए दबाव बनाने की भी जांच करेगी एसआईटीः
विज ने कहा कि एसआईटी 2018 से लेकर घटनाओं की जांच करेगी. यह जांच की जाएगी कि लड़की के माता-पिता को किन परिस्थितियों में अपनी शिकायत वापस लेने के लिए एक हलफनामा देने को मजबूर होना पड़ा. मंत्री ने कहा कि इस बात की भी जांच की जाएगी कि निकिता पर धर्मपरिवर्तन के लिए दबाव क्यों बनाया जा रहा था, बावजूद इसके कि उसने इनकार किया था. 

विज ने कहा- राज्य में इस तरह की दादागिरी नहीं होने दूंगाः 
आरोपी ने जिस तरह से छात्रा को उसके कॉलेज के बाहर दिन-दहाड़े गोली मारी उस पर टिप्पणी करते हुए विज ने कहा कि मैं राज्य में इस तरह की ‘दादागिरी’ नहीं होने दूंगा. आरोपियों को कानून के अनुसार दंडित किया जाएगा. बी.कॉम अंतिम वर्ष की छात्रा निकिता, सोमवार दोपहर में एक परीक्षा में शामिल होने के बाद अपने कॉलेज से बाहर निकली थी, तभी यह घटना हुई थी.

पीड़ित परिवार ने दो साल पहले भी की थी आरोपी की शिकायतः
छात्रा की मां ने बुधवार को अपने निवास पर संवाददाताओं को बताया कि मुख्य आरोपी ने दो साल पहले उसकी बेटियों को परेशान किया था और उससे शादी करने के वास्ते इस्लाम अपनाने के लिए दबाव डाला था जिससे उसने इनकार कर दिया था. छात्रा के परिवार ने दो साल पहले मुख्य आरोपी के खिलाफ कथित रूप से उसे परेशान करने के लिए पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी. हालांकि, शिकायत वापस ले ली गई थी क्योंकि आरोपी के रिश्तेदारों ने छात्रा के परिवार के सदस्यों को आश्वासन दिया था कि तौसीफ सुधर जाएगा और छात्रा को परेशान नहीं करेगा.

पीड़ित परिवार ने की मुख्य आरोपी के लिए मृत्युदंड की मांगः
छात्रा की मां ने अपने आंसू किसी तरह रोकते हुए कहा कि उसके बाद, हमारे और आरोपी या उसके परिवार के बीच कोई संपर्क नहीं था. निकिता नियमित रूप से अपने कॉलेज जा रही थी. वह एक होनहार छात्रा थी, उसने अपने कॉलेज में अच्छे अंक प्राप्त किए थे. उसने कक्षा 10वीं और कक्षा 12वीं में बहुत अच्छे अंक प्राप्त किए थे. उसे इस तरह से खोने से हमें झटका लगा है. पीड़ित परिवार ने मुख्य आरोपी के लिए मृत्युदंड की मांग की है. इस बीच, हरियाणा राज्य महिला आयोग की सदस्य रेणु भाटिया ने बुधवार को बल्लभगढ़ में पीड़ित परिवार से मुलाकात की. उन्होंने कहा कि मैंने उन्हें आश्वासन दिया है कि उन्हें हमसे जो भी सहायता की आवश्यकता होगी, हम वह देने के लिए तैयार हैं.
सोर्स भाषा

हरियाणाः भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार का एक वर्ष पूर्ण, कांग्रेस पर बरसे सीएम मनोहरलाल खट्टर 

हरियाणाः भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार का एक वर्ष पूर्ण, कांग्रेस पर बरसे सीएम मनोहरलाल खट्टर 

चंडीगढ़: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने कृषि कानूनों की आलोचना करने को लेकर मंगलवार को कांग्रेस पर जोरदार हमला बोलते हुए कहा कि जब भी सरकार कोई बड़ा फैसला करती है तो विपक्षी पार्टी हंगामा करती है. भाजपा-जजपा की गठबंधन सरकार के एक साल पूरा होने के मौके पर खट्टर और उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि सत्तारूढ़ गठबंधन राज्य को विकास के उच्च पथ पर ले जाने के लिए प्रतिबद्ध है.

{related} 

कांग्रेस किसानों को कर रही गुमराहः
हिसार में एक राज्य स्तरीय कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने भ्रष्टाचार मुक्त, पारदर्शी और राज्य के लोगों के प्रति जवाबदेह सरकार दी है. खट्टर ने हिसार में पत्रकारों से कहा कि अगले चार वर्षों में सरकार राज्य को विकास के उच्च पथ पर ले जाने के लिए प्रतिबद्ध है. खट्टर ने यह भी कहा कि कांग्रेस किसानों को यह कहकर गुमराह कर रही है कि नए कानूनों से वे बर्बाद हो जाएंगे, मंडियां और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) प्रणाली खत्म हो जाएगी और ये अधिनियम बड़े कारोबारी घरानों को उनका शोषण करने में मदद करेंगे. खट्टर ने चौटाला के पड़दादा और पूर्व उप प्रधानमंत्री का हवाला देते हुए कहा कि चौधरी देवीलाल कहा करते थे कि कभी-कभी किसानों को समझाना मुश्किल है, जबकि उन्हें गुमराह करना आसान है.  मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस लगातार झूठ फैला रही है और जब भी सरकार कोई बड़ा फैसला करती है तो उस पर पार्टी की हंगामा करने की आदत है, चाहे संविधान के अनुच्छेद 370 का मुद्दा हो या अयोध्या में राम मंदिर का.

चौटाला ने कहा-अगले चार वर्षों में हमारी सरकार हरियाणा को विकास के उच्च पथ पर ले जाएगीः
चौटाला ने अपने संबोधन में कहा कि एक साल पहले, विपक्ष कहता था कि इस सरकार के तीन महीने पूरे नहीं होंगे, फिर वे कहते थे कि यह छह महीने बाद गिर जाएगी, लेकिन अब हमने एक साल पूरा कर लिया है. उन्होंने कहा कि अगले चार वर्षों में, हमारी सरकार हरियाणा को विकास के उच्च पथ पर ले जाएगी.

एक साल के दौरान 10,000 नौकरियां दीः
वहीं खट्टर ने कहा कि हम पांच साल में एक लाख नौकरियां देंगे. पिछले एक साल के दौरान, हम पहले ही 10,000 नौकरियां दे चुके हैं. उन्होंने कहा कि सरकार हरियाणा के युवाओं के लिए निजी उद्योग में 75 प्रतिशत नौकरियों को आरक्षित करने के लिए प्रतिबद्ध है. मुख्यमंत्री ने कहा बरोदा उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी इंदुराज नारवाल के लिए सिर्फ पिता-पुत्र (पूर्व मुख्यमंत्री दीपेंद्र सिंह हुड्डा और उनके सांसद पुत्र दीपेंदर सिंह हुड्डा) ही प्रचार कर रहे हैं. इस सीट पर तीन नवंबर को उपचुनाव होना है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस का कोई अन्य नेता वहां जाने को तैयार नहीं है. खट्टर ने कहा कि विपक्षी पार्टी को पता है कि उनके उम्मीदवार के साथ वही होगा जो जनवरी 2019 में जींद उपचुनाव में पार्टी प्रत्याशी के साथ हुआ था.

खट्टर ने कहा-जब भी हमारी सरकार बड़ा फैसला करती है तो वें हंगामा करते हैंः
मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने जींद में बड़े नेता (रणदीप सिंह सुरजेवाला) को उतारा था, लेकिन उन्हें अपमानजनक हार का सामना करना पड़ा. वह सिर्फ जींद में ही नहीं हारे, बल्कि 2019 के विधानसभा चुनाव में कैथल की अपनी सीट भी हार गए थे और अब वह बिहार में प्रचार कर रहे हैं. खट्टर ने कहा कि जब भी हमारी सरकार बड़ा फैसला करती है तो वे हंगामा करते हैं. उन्होंने कहा कि जब अनुच्छेद 370 को निरस्त किया गया तब कांग्रेस ने हंगामा किया और दावा किया कि इससे कश्मीर घाटी में रक्तपात होगा. मुख्यमंत्री ने पूछा कि क्या कश्मीर में एक साल में कुछ हुआ है? खट्टर ने कहा कि कांग्रेस ने राम मंदिर मुद्दे पर हंगामा किया और कहा कि इससे देश में दंगे हो जाएंगे. संशोधित नागरिकता कानून पर भी कांग्रेस ने हंगामा किया.

कांग्रेस पर तंज-कहा-1962 के बाद कांग्रेस चीन के खिलाफ आवाज़ उठाने की हिम्मत नहीं जुटा पाईः
मुख्यमंत्री ने कहा कि जब कांग्रेस नीत संप्रग सत्ता में था तो उसमें इस डर से पाकिस्तान के खिलाफ उसके दुस्साहसों के लिए कार्रवाई करने की हिम्मत नहीं हुई, क्योंकि वह परमाणु हथियारों से लैस राष्ट्र है. मगर मोदी सरकार ने सर्जिकल स्ट्राइक और हवाई हमले करके उन्हें एक सबक सिखाया है. उन्होंने कहा कि 1962 के बाद कांग्रेस चीन के खिलाफ आवाज़ उठाने की हिम्मत नहीं जुटा पाई लेकिन आज चीन विश्व में अपने आप को अलग-थलग पा रहा है और पूरी दुनिया हमारा समर्थन कर रही है. खट्टर ने कहा कि कोविड-19 की चुनौतीपूर्ण स्थिति के बावजूद हरियाणा अन्य राज्यों की तुलना में बेहतर स्थिति में है.

खट्टर ने की दशहरे पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का पुतला जलाने की निंदाः
खट्टर ने हरियाणा में कुछ किसान नेताओं द्वारा दशहरे पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का पुतला जलाने की निंदा की और पूछा कि क्या राम भक्त प्रधानमंत्री की राक्षस राजा रावण से समानता करनी चाहिए ? खट्टर ने जजपा नेता और चौटाला के साथ मिलकर हिसार हवाई अड्डे के रनवे के विस्तार के लिए भूमि पूजा की. रनवे को 1200 मीटर से बढ़ाकर 3000 मीटर किया जाएगा जिसपर 165 करोड़ रुपये का खर्च आएगा. इसके अलावा उन्होंने 1688 करोड़ रुपये की 306 परियोजनाओं की नींव रखी या उद्धाटन किया.
सोर्स भाषा
 

बल्लभगढ़ में छात्रा की हत्या से रोष, लोगों ने लगाया जाम, गृह मंत्री ने दिए पीड़ित परिवार को सुरक्षा उपलब्ध कराने के निर्देश

बल्लभगढ़ में छात्रा की हत्या से रोष, लोगों ने लगाया जाम, गृह मंत्री ने दिए पीड़ित परिवार को सुरक्षा उपलब्ध कराने के निर्देश

फरीदाबाद: हरियाणा के बल्लभगढ़ शहर स्थित अग्रवाल कॉलेज की बीकॉम ऑनर्स की एक छात्रा की गोली मारकर हत्या किए जाने के मामले में मंगलवार को लोगों का गुस्सा फूट पड़ा और उन्होंने गौंछी-सोहना रोड पर जाम लगा दिया. वहीं, हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने पीड़ित परिवार को सुरक्षा उपलब्ध कराने के लिए फरीदाबाद के पुलिस आयुक्त को निर्देश दिया और कहा कि आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

{related} 

परिजनों ने पुलिस प्रशासन पर लगाया आरोप- कहा जो प्राथमिकी दर्ज की गई, उसमें खामियांः
छात्रा निकिता तोमर की सोमवार को हुई हत्या से गुस्साए सैकड़ों लोग आज सड़क पर उतर गए और पुलिस प्रशासन व सरकार से न्याय की मांग करने लगे. प्रदर्शनकारी आरोपियों को फांसी देने की मांग कर रहे थे. पुलिस हत्या के दोनों आरोपियों-तौफीक और रेहान को गिरफ्तार कर चुकी है. मुख्य आरोपी राजनीतिक परिवार से ताल्लुक रखता है. लोगों के प्रदर्शन के चलते पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे. मृतका के परिजनों ने पुलिस प्रशासन पर आरोप लगाया कि जो प्राथमिकी दर्ज की गई है, उसमें कुछ खामियां हैं. आरोपी निकिता पर धर्म बदलने का दबाव डाल रहा था, जिसका जिक्र इसमें नहीं किया गया है. उन्होंने मांग की कि मामला फास्ट ट्रैक अदालत में भेजा जाए तथा आरोपियों को फांसी की सजा दी जाए. परिजनों ने कहा कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं होतीं तब तक उनका प्रदर्शन जारी रहेगा. समाचार मिलने तक प्रदर्शनकारी एन.एच.-2 पर डटे हुए थे, जिन्हें समझाने का प्रशासनिक अधिकारी प्रयास कर रहे थे. उल्लेखनीय है कि सोमवार को आरोपियों ने पहले छात्रा को कार में खींचने का प्रयास किया और फिर असफल रहने पर गोली मारकर उसकी हत्या कर दी. इस पूरी घटना की सीसीटीवी फुटेज सामने आ गई है. इस मामले को लेकर मृतका के परिजनों ने फरीदाबाद के सेक्टर-23 में भी प्रदर्शन भी किया. परिजनों का आरोप है कि मुख्य आरोपी छात्रा पर शादी का दबाव बना रहा था.

हरियाणा के गृहमंत्री ने की पीड़ित परिवार को सुरक्षा देने की बातः
हरियाणा के गृहमंत्री ने कहा कि परिवार की सुरक्षा के लिए फरीदाबाद पुलिस आयुक्त से बात की गई है, जल्द ही उन्हें सुरक्षा दी जाएगी और आरोपियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी. उधर, पुलिस ने छात्रा को गोली मारने वाले मुख्य आरोपी तौफीक के साथ-साथ उसके साथी रेहान निवासी नूंह को भी मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया. अपराध शाखा डीएलएफ ने मुख्य आरोपी तौफीक को सोमवार रात ही गिरफ्तार कर लिया था. वह कबीर नगर, सोहना, गुरुग्राम का निवासी है.

पुलिस ने कहा-आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जाएगीः
पुलिस आयुक्त ओपी सिंह के अनुसार तुरंत प्रभाव से अपराध शाखा की 10 टीमों को जल्द से जल्द आरोपियों को गिरफ्तार करने के दिशा-निर्देश दिए गए थे. अपराध शाखा ने फरीदाबाद से पलवल एवं मेवात तक चलाए गए 5 घंटे के अभियान के दौरान मुख्य आरोपी को धर दबोचा. उन्होंने बताया कि आरोपी वर्ष 2018 में भी लड़की को अपने साथ ले गया था जिसपर मामला थाना सिटी बल्लभगढ़ में दर्ज किया गया था. गिरफ्तार आरोपी तौफीक की उम्र 21 वर्ष है. दूसरा आरोपी रेहान रेवासन मेवात का रहने वाला है. सिंह ने कहा कि पुलिस के पास पर्याप्त साक्ष्य हैं, जिनके आधार पर आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जाएगी.

मुख्य आरोपी तौफीक का राजनीतिक परिवार से ताल्लुकः 
मुख्य आरोपी तौफीक के दादा कबीर अहमद विधायक रह चुके हैं, जबकि चाचा खुर्शीद अहमद हरियाणा के पूर्व मंत्री रहे हैं. वहीं, एक अन्य रिश्तेदार आफताब अहमद वर्तमान में कांग्रेस के नूंह (मेवात) विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं और भूपेंद्र सिंह हुड्डा सरकार में परिवहन मंत्री भी रहे हैं. तौफीक के चाचा जावेद अहमद ने भी 2019 में सोहना विधानसभा क्षेत्र से बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ा था, लेकिन हार गए थे.
सोर्स भाषा

हरियाणा: आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में बढ़ोतरी के लिये भाजपा-जजपा सरकार पर बरसे हुड्डा

हरियाणा: आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में बढ़ोतरी के लिये भाजपा-जजपा सरकार पर बरसे हुड्डा

गोहाना (हरियाणा): हरियाणा के बरोदा विधानसभा में हो रहे उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में प्रचार करने आये प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने सब्जियों एवं आवश्यक वस्तुओं की आसमान छूती कीमतों के लिये प्रदेश की भाजपा-जजपा गठबंधन पर सरकार पर जमकर हमला बोला.

कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार पर बोला हमलाः
हुड्डा ने हालिया तीन कृषि कानूनों के लिये भाजपा की अगुवाई वाली केंद्र सरकार को भी जमकर आड़े हाथों लिया और कहा कि किसानों को उनके उत्पाद का उचित मूल्य नहीं मिल रहा है और ये तीनों कानून उन्हें आर्थिक संकट और तबाही की ओर धकेलेंगे. कांग्रेस नेता ने कहा कि अगर किसान सरकार की नीतियों का विरोध करते हैं तो उनकी आवाज को लाठियों से दबा दिया जाता है तथा झूठे मामले दर्ज कर उन्हें जेल भेज दिया जाता है. आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में बढ़ोतरी के लिये मनोहर लाल खट्टर सरकार पर निशाना साधते हुये हुड्डा ने कहा कि सब्जियों एवं आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में इतनी बढ़ोतरी हो गयी है कि आम लोगों के लिये रसोई को चलाना मुश्किल हो गया है. उन्होंने आरोप लगाया कि पूरा प्रदेश महंगाई एवं भ्रष्टाचार से परेशान है.

{related}

हुड्डा ने कहा-हर तबका सरकार के खिलाफ सड़क परः
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि आज प्याज, टमाटर एवं आलू की कीमतों में कई गुना वृद्धि हुयी है. दाल, चावल, आटा एवं चीनी की कीमतें उच्च स्तर पर हैं. बिजली की दरों में बढ़ोतरी हो चुकी है. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतें कम होने के बावजूद डीजल एवं पेट्रोल की कीमतें आसमान छू रही हैं. विधानसभा में विपक्ष के नेता ने कहा कि यह सब तब हो रहा है जब लोगों की आय और नौकरियां कम हो रही हैं. यही कारण है कि हर तबका सरकार के खिलाफ सड़क पर है. उन्होंने जोर देकर कहा कि बरोदा उपचुनाव लोगों के लिये एक अवसर है कि वे चुनाव में इस सरकार को आईना दिखायें जो हर मोर्चे पर नाकाम रही है.

निष्क्रिय सरकार की उलटी गिनती शुरूः
हुड्डा ने कहा कि लोगों को यह नहीं सोचना चाहिए कि यह केवल एक चुनाव है जिसमें उन्हें एक विधायक चुनना है बल्कि लोगों को यह संकेत भी देना है कि इस निष्क्रिय सरकार की उलटी गिनती शुरू हो चुकी है. उन्होंने कहा कि इस चुनाव में बरोदा से कांग्रेस उम्मीदवार इंदुराज नरवल की जीत राज्य के गरीबों एवं आम लोगों की जीत होगी. भाजपा ने इस सीट पर ओलंपिक पदक विजेता योगेश्वर दत्त को मैदान में उतारा है. कांग्रेस विधायक कृष्ण हुड्डा के ​अप्रैल में निधन से यह सीट रिक्त हो गयी थी.
सोर्स भाषा
 

हरियाणाः फरार आरोपी को पकड़ने गई पुलिस पर हमला, आरोपी को छुड़ाकर ले गए

हरियाणाः फरार आरोपी को पकड़ने गई पुलिस पर हमला, आरोपी को छुड़ाकर ले गए

सहारनपुर: हरियाणा के सहारनपुर में पुलिसकर्मियों से मारपीट कर एक आरोपी को उनसे छुड़ाकर ले जाने का मामला सामने आया है. यहां पुलिस ने एक गांव में दबिश देकर मुठभेड़ के मामले में फरार चल रहे आरोपी को गिरफ्तार किया उस समय वहां इकट्ठा हई भीड़ ने पुलिसकर्मियों से मारपीट की और आरोपी को छुड़ाकर ले गए.

{related}

जानकारी के अनुसार हरियाणा पुलिस ने सहारनपुर के गांव कोटड़ा में दबिश देकर मुठभेड़ के मामले में फरार चल रहे आरोपी जुबेर को जैसे ही गिरफ्तार किया वैसे ही महिलाओं और पुरुषों की भीड़ ने पुलिसकर्मियों से मारपीट की और आरोपी को छुड़ा लिया. यही नहीं लोगों ने गांव में ही रहने वाले एक बीएलओ को पुलिस का मुखबिर होने के शक में उसकी पिटाई कर दी. पुलिस ने इस मामले में सात आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है. 

जानकारी के अनुसार जुबेर के खिलाफ हरियाणा के पानीपत में 2017 में मुठभेड़ का मामला दर्ज हुआ था. मामला दर्ज होने के बाद से ही जुबेर फरार था. जुबेर के  कोटड़ा गांव में छुपे होने की सूचना मिलने पर पुलिस वहां पहुंची. पुलिस ने जैसे ही उसे गिरफ्तार किया वैसे ही लोगों की भीड़ ने पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया और उसे छुड़ाकर ले गए. वहीं लोगों ने मुखबिरी के शक में गांव के ही बीएलओ से भी की. पुलिस ने कुछ लोगों पर मामला दर्ज किया है.

केंद्र के कृषि कानूनों के विरोध में हरियाणा में किसान यूनियनों का प्रदर्शन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला फूंका

केंद्र के कृषि कानूनों के विरोध में हरियाणा में किसान यूनियनों का प्रदर्शन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला फूंका

अंबाला/कुरुक्षेत्र: भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के कार्यकर्ताओं ने हरियाणा में कई जगहों पर केंद्र के कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन किया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला जलाया. कुरुक्षेत्र के शाहबाद में भाकियू कार्यकर्ताओं ने हरियाणा के पूर्व मंत्री और भाजपा नेता कृष्ण कुमार बेदी के घर के पास प्रदर्शन किया. प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिये पुलिस ने पानी की बौछार का इस्तेमाल किया. कुछ प्रदर्शनकारियों ने काले झंडे ले रखे थे और उन्होंने नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग करते हुए केंद्र और भाजपा के नेतृत्व वाली प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की.

नारेबाजी कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला फूंकाः
भाकियू के प्रदेश अध्यक्ष गुरनाम सिंह के नेतृत्व में बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं ने अंबाला सिटी के निकट लखनपुर साहिब गांव में प्रदर्शन किया. प्रदर्शन स्थल पर किसानों ने केंद्र और भाजपा के नेतृत्व वाली प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की और कृषि कानूनों को वापस लिये जाने की मांग की. बाद में प्रदर्शन के तहत अंबाला और कुरुक्षेत्र में प्रदर्शनकारियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला फूंका. राज्य में कुछ अन्य जगहों पर भी भाकियू कार्यकर्ताओं ने ऐसा ही प्रदर्शन किया.

सुरक्षा इंतजामः काफी संख्या में पुलिसकर्मियों को किया गया तैनातः
गुरनाम सिंह ने संवाददाताओं से कहा कि जब तक केंद्र सरकार नए कृषि कानूनों को वापस नहीं ले लेती तब तक उसके खिलाफ प्रदर्शन जारी रहेगा.अंबाला, कुरुक्षेत्र और यमुनानगर जिलों समेत विभिन्न स्थानों पर सुरक्षा इंतजाम के तहत सुबह से ही काफी संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया था. इस महीने के शुरू में कुरुक्षेत्र पुलिस ने सिंह के खिलाफ प्रधानमंत्री को लेकर कथित रूप से आपत्तिजनक टिप्पणी करने पर मामला दर्ज किया था.

कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों की आवाज को दबाने के लिए ऐसे हथकंड़े अपना रही सरकारः
भाकियू नेता ने किसानों से अपील की थी कि वे दशहरे के दौरान प्रधानमंत्री का पुतला जलाएं. इसके बाद शाहबाद पुलिस थाने में उनके खिलाफ शिकायत दर्ज की गई थी. शिकायत सामाजिक कार्यकर्ता साहिल ने दर्ज कराई थी. इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए सिंह ने कहा कि सरकार नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों की आवाज को दबाने के लिए ऐसे हथकंडों का इस्तेमाल कर रही है.
सोर्स भाषा

पराली जलाने की समस्या को लेकर अदालत ने कहा- उच्चतम न्यायालय अपना काम कर रहा हैं अब केंद्र तथा राज्य सरकार भी आगे आए

पराली जलाने की समस्या को लेकर अदालत ने कहा- उच्चतम न्यायालय अपना काम कर रहा हैं अब केंद्र तथा राज्य सरकार भी आगे आए

नयी दिल्ली: पड़ोसी राज्यों पंजाब एवं हरियाणा में पराली जलाने की समस्या से निपटने के लिये उच्चतम न्यायालय अपना काम कर रहा है और अब केंद्र तथा राज्य सरकारों को भी इस दिशा में काम करना होगा. दिल्ली उच्च न्यायालय ने गुरुवार को यह टिप्पणी की. 

पराली जलाये जाने को रोकने संबंधी याचिका पर सुनवाई से इंकारः
पंजाब एवं हरियाणा में पराली जलाये जाने को रोकने के संबंध में तत्काल कदम उठाने का अनुरोध करने वाली याचिका पर सुनवाई से इंकार करते हुये दिल्ली उच्च न्यायालय ने यह टिप्पणी की. याचिका में यह दलील दी गयी थी कि पराली जलाने से कोरोना वायरस संक्रमण संबंधी समस्या और बढ़ेगी. दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश डी. एन. पटेल एवं न्यायमूर्ति प्रतीक जालान की पीठ ने कहा कि शीर्ष अदालत ने 16 अक्टूबर को एक समिति का गठन किया जो पराली जलाये जाने से रोकने के आलोक में इन राज्यों द्वारा उठाये गये कदमों की निगरानी करेगी. यह समिति उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश न्यायमूर्ति एम बी लोकुर की अध्यक्षता में गठित की गयी है.

{related}

सुधीर मिश्रा ने दायर की थी जनहित याचिकाः
उच्च न्यायालय ने कहा कि अगर इस अदालत में भी इस मामले की सुनवाई होगी तो विरोधाभासी आदेश पारित होने का खतरा बन जायेगा. इस टिप्पणी के साथ पीठ ने इस आवेदन का निपटारा कर दिया जिसे सुधीर मिश्रा नामक एक अधिवक्ता ने अदालत में पेश किया था. ​मिश्र ने 2015 में दायर अपनी मुख्य जनहित याचिका में राष्ट्रीय राजधानी में वायु प्रदूषण कम करने के लिये केंद्र सरकार को निर्देश दिये जाने का अनुरोध किया था.

पराली जलाने से राजधानी में बढ़ेगा वायु प्रदूषणः
मिश्र ने अपने आवेदन में कहा था कि पराली जलाये जाने की घटना से राष्ट्रीय राजधानी में वायु प्रदूषण महत्वपूर्ण रूप से बढ़ जायेगा और कोरोना वायरस महामारी के आलोक में स्वास्थ्य समस्यायें और बढ़ेंगी. आवेदन का निपटारा करते हुये अदालत ने मिश्र को यह आजादी दी कि आवश्यकता पड़ने अथवा कठिनाईं उत्पन्न होने पर वह भविष्य में अदालत को संपर्क कर कर सकते हैं. सुनवाई के दौरान अतिरि​क्त सोलिसीटर जनरल चेतन शर्मा ने कहा कि खराब वायु गुणवत्ता के कारण गुरुवार को आसमान में सूर्य नहीं दिखा और खराब वायु गुणवत्ता के कारण राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में आपातकाल जैसी स्थिति हो गई है.
सोर्स भाषा

हरियाणा: बिजली निगम के एसडीओ को बंधक बनाने के आरोप में 65 कर्मचारियों के खिलाफ मामला दर्ज 

हरियाणा: बिजली निगम के एसडीओ को बंधक बनाने के आरोप में 65 कर्मचारियों के खिलाफ मामला दर्ज 

जींद (हरियाणा): पुलिस ने यहां बिजली निगम के एसडीओ को बंधक बना कर हाथापाई करने के आरोप में पांच कर्मचारी नेताओं सहित 65 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. पुलिस ने एसडीओ की शिकायत पर मारपीट करने, सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने, बंधक बनाने तथा धमकी देने का मामला दर्ज किया है.

कार्यालय का घेराव कर की हाथापाईः
बिजली निगम के एसडीओ विनय सिंह ने पुलिस को दी शिकायत में कहा कि 16 अक्टूबर को कर्मचारियों ने कार्यालय का घेराव किया और बाद में उनके साथ हाथापाई भी की. शहर थाना पुलिस ने एसडीओ विनय सिंह की शिकायत पर 65 कर्मचारियों के मामला दर्ज किया है.

{related}

पांच नामजद कर्मचारियों को सहित 60 अन्य के खिलाफ मामला दर्जः 
शहर थाना के जांच अधिकारी सुलतान सिंह ने बताया कि बिजली निगम के एसडीओ द्वारा बिजली कर्मचारियों पर मारपीट करने, बंधक बनाने व सरकारी कार्य में बाधा डालने का आरोप लगाते हुए शिकायत दी थी. उस आधार पर पांच कर्मचारियों को नामजद कर 60 अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया है. पुलिस मामले की जांच कर रही है.
सोर्स भाषा