Delta Plus Variants: मामूली सर्दी- जुकाम भी हो सकती है खतरनाक साबित, जानिए इसके फैलने के कारण

Delta Plus Variants: मामूली सर्दी- जुकाम भी हो सकती है खतरनाक साबित, जानिए इसके फैलने के कारण

Delta Plus Variants: मामूली सर्दी- जुकाम भी हो सकती है खतरनाक साबित, जानिए इसके फैलने के कारण

नई दिल्ली: इन दिनों डेल्टा वेरिएंट (Delta Plus Variants) को लेकर पूरी दुनिया में हड़कंप मचा हुआ है. कोरोना (Covid) का यह नया वेरिएंट बहुत तेजी से दुनिया में फैल रहा है. महामारी कोरोना वायरस (Corona Virus Epidemic) की दूसरी लहर का कहर कम हो गया है. लेकिन कोरोना अभी खत्म नहीं हुआ है. एक रिपोर्ट के अनुसार, यह नया वायरस अब तक 100 देशों में फैल चुका है. डेल्टा वेरिएंट के लक्षण अलग अलग नजर आ रहे है. इसमें मामूली सर्दी- जुकाम (Cold and Cough) भी खतरनाक साबित हो सकती है. क्योंकि जैसे जैसे कोरोना वायरस विकसित हो रहा है वैसे वैसे यह घातक हो रहा है.

हल्की जुकाम भी हो सकती है घातक:
एक रिपोर्ट के अनुसार, रिसर्च से पता चला है कि यदि किसी को मामूली सर्दी- जुखाम है और नाक से हल्का पानी आना ये डेल्टा वेरिएंट के लक्षण हो सकते है. यह रिसर्च ऑस्ट्रेलिया (Australia) की ग्रिफिथ यूनिवर्सिटी (Griffith University) ने किया है. विषाणु विज्ञान और संक्रामक रोग में अनुसंधान करने वाली लारा हेरेरो का कहना है कि जैसे-जैसे कोरोना वायरस विकसित हुआ है, वैसे वैसे इसके सामान्य लक्षण भी बदलाव आया है.रकार ने सोमवार से राष्ट्रीय राजधानी स्थित स्टेडियम और खेल परिसरों को बिना दर्शकों के खोलने की अनुमति दे दी है. DDMA की ओर से रविवार को जारी एक आदेश में यह जानकारी दी गई.

बुखार, खांसी, सिर और गले में दर्द आम लक्षण:
ब्रिटेन (Britain) से डेटा लेकर यह रिसर्च किया गया है. इसमें सबसे ज्यादा मामले डेल्टा वेरिएंट के शामिल किए गए है. लारा हेरोरे का कहना है कि बुखार और खांसी हमेशा से कोविड के सबसे आम लक्षण रहे हैं. इसके अलावा सिरदर्द और गले में दर्द भी कुछ लोगों में नजर आया. नाक बहने की शिकायत भी कम लोगों ने ही की है. इस दौरान सूंघने की शक्ति चली जाना जो मूल रूप में बेहद आम था. रिपोर्ट के अनुसार, अब यह लक्षण नौंवे स्थान पर है.

दो अहम फैक्टर से बीमार करता है वायरस:
डेल्टा वेरिएंट के लक्षण बदल पर बात करते हुए लारा हेरेरो ने कहा कि इंसान एक-दूसरे से अलग है. हमारे अंतरों की तरह हमारे प्रतिरक्षा तंत्र भी अलग हैं. इसलिए एक ही वायरस अलग-अलग तरीके से अलग-अलग संकेत और लक्षण पैदा कर सकता है. 

उन्होंने आगे बताया कि वायरस किस तरह से बीमार करता है यह दो अहम फैक्टर पर निर्भर करता है. पहला यह कि वायरल फैक्टर में वायरस की खुद की प्रतिकृत बनाने की गति और दूसरा- संचरण के माध्यम और अन्य चीजें शामिल हैं.

 

और पढ़ें