पुडुचेरी नारायणसामी सरकार से बहुमत साबित करने की मांग की, विपक्ष ने उपराज्यपाल के कार्यालय में दिया प्रतिवेदन

नारायणसामी सरकार से बहुमत साबित करने की मांग की, विपक्ष ने उपराज्यपाल के कार्यालय में दिया प्रतिवेदन

नारायणसामी सरकार से बहुमत साबित करने की मांग की, विपक्ष ने उपराज्यपाल के कार्यालय में दिया प्रतिवेदन

पुडुचेरी: पुडुचेरी में अखिल भारतीय एनआर कांग्रेस समेत विपक्षी दलों के शिष्टमंडल ने बुधवार को उप राज्यपाल के कार्यालय में एक अधिकारी को प्रतिवेदन देकर केंद्र शासित प्रदेश के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी की सरकार को सदन में बहुमत साबित करने का निर्देश दिये जाने की मांग की है.

पुडुचेरी के एक और कांग्रेस विधायक के इस्तीफे के बाद प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने बहुमत खो दिया है. विपक्षी दलों के सभी 14 विधायकों ने एन रंगासामी की अगुवाई में संयुक्त रूप से एक ज्ञापन राज निवास में विशेष कार्याधिकारी जी टी निधि दास को सौंपा. इनमें अखिल भारतीय एन आर कांग्रेस के एन रंगासामी समेत सात विधायकों के अलावा, अन्नाद्रमुक के चार और भाजपा के तीन नामित सदस्य शिष्टमंडल का हिस्सा थे. भातपा के तीन नामित विधायकों के पास भी वोटिंग का अधिकार है.

नारायणसामी से सदन में बहुमत साबित करने के लिये कहें: 
विपक्ष के नेता रंगासामी ने संवाददाताओं को बताया कि ज्ञापन एक अधिकारी को सौंपा गया है. उन्होंने कहा कि राज्यपाल से मांग की गयी है कि वह नारायणसामी से सदन में बहुमत साबित करने के लिये कहें. किरण बेदी को पुडुचेरी के उप राज्यपाल पद से कल रात हटा दिया गया है और तेलंगाना के राज्यपाल टी सुंदरराजन को केंद्र शासित प्रदेश का अतिरिक्त कार्य भार दिया गया है.

अब तक चार विधायकों ने दिया त्यागपत्र:
सुंदरराजन ने ट्वीट किया कि उन्हें पुडुचेरी में उप राज्यपाल के तौर पर काम करने का निर्देश मिला है. मंगलवार को जॉन कुमार ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था और पिछले महीने से अब तक वह चौथे विधायक हैं जिन्होंने त्यागपत्र दिया है. इसके बाद प्रदेश के 33 सदस्यीय सदन में सत्तारूढ़ कांग्रेस और द्रमुक गठबंधन के सीटों की संख्या कम होकर 14 हो गयी है.

और पढ़ें