मुंबई देवदत्त पडिक्कल ने बताया अपनी सफलता का राज, कहा- कोहली के साथ साझेदारी से बीच के ओवरों में बाउंड्री लगाने में आसानी हुई

देवदत्त पडिक्कल ने बताया अपनी सफलता का राज, कहा- कोहली के साथ साझेदारी से बीच के ओवरों में बाउंड्री लगाने में आसानी हुई

देवदत्त पडिक्कल ने बताया अपनी सफलता का राज, कहा- कोहली के साथ साझेदारी से बीच के ओवरों में बाउंड्री लगाने में आसानी हुई

मुंबई: रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर (आरसीबी) के सलामी बल्लेबाज देवदत्त पडिक्कल ने कहा कि कप्तान विराट कोहली के साथ साझेदारी के कारण उन्हें राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) मैच में बीच के ओवरों में गेंद को सीमा रेखा तक पहुंचाने में मदद मिली. बीस वर्षीय पडिक्कल ने गुरुवार को आईपीएल में अपना पहला शतक जमाया. उन्होंने 52 गेंदों पर 101 रन बनाए और कोहली के साथ 181 रन की अटूट साझेदारी करके रॉयल्स पर 10 विकेट से जीत दिलाई.

मुझे हमेशा विशेष तरह की भूमिका निभानी होती हैः
पडिक्कल ने मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा कि यह मैच की स्थिति से जुड़ा था. मुझे हमेशा विशेष तरह की भूमिका निभानी होती है और मैं जितना संभव हो इसे निभाने की कोशिश करता हूं. उन्होंने कहा कि कई बार बीच के ओवरों में स्थिति चुनौतीपूर्ण बन सकती है और तब गेंद को सीमा रेखा तक पहुंचाना आसान नहीं होता है. विकेट अच्छा था और हम साझेदारी आगे बढ़ा रहे थे और एक दूसरे का अच्छा साथ दे रहे थे. ऐसी स्थिति में बाउंड्री लगाना आसान हो जाता है क्योंकि हम स्ट्राइक रोटेट कर रहे थे.

शतक के बारे में नहीं जीत के बारे में सोच रहे थे पडिक्कलः
पडिक्कल से पूछा गया कि शतक के करीब पहुंचने पर उनके दिमाग में क्या चल रहा था, उन्होंने कहा कि वह अपने शतक के बारे में नहीं सोच रहे थे क्योंकि जीत महत्वपूर्ण थी. उन्होंने कहा कि ईमानदारी से कहूं तो मैं मैच का अंत करने पर ध्यान दे रहा था जो कि अधिक मायने रखता है. हम जल्द से जल्द जीत दर्ज करना चाहते थे. जब मैं क्रीज पर था तो अपने शतक के बारे में नहीं सोच रहा था. मेरे लिये मैच में जीत दर्ज करना महत्वपूर्ण था.  
सोर्स भाषा

और पढ़ें