Live News »

देवी सिंह भाटी ने एक बार फिर केंद्रीय मंत्री अर्जुन मेघवाल पर साधा निशाना 

देवी सिंह भाटी ने एक बार फिर केंद्रीय मंत्री अर्जुन मेघवाल पर साधा निशाना 

श्रीगंगानगर। भाजपा के कद्दावर नेता और पूर्व मंत्री देवी सिंह भाटी ने लोकसभा चुनाव में अनुसूचित जाति कोटे में मेघवाल जाति के अलावा भी अन्य समाज के लोगों को टिकट देने की मांग की है। भाटी ने आज श्रीगंगानगर में कहा कि आरक्षित को रक्षण ओर उपेक्षित को संरक्षण के लिए उनका अभियान लगातार जारी है।

देवी सिंह भाटी आज से गंगानगर में अनुसूचित जाति के लोगों को जीनगर समाज धर्मशाला में संबोधित कर रहे थे। मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि बीकानेर और श्री गंगानगर में आज तक अनुसूचित जाति कोटे में मेघवाल समाज को ही टिकट दी गई है, जबकि अनुसूचित जाति कोटे में 59 जातियां आती है। 58 जातियों को आज तक उपेक्षित रखा गया है। उन्होंने कहा कि अगर उनको भी गले लगाया जाए तो निश्चित रूप से पार्टियों को बड़ी सफलता मिल सकती है। 

कार्यक्रम में पूर्व विधायक शिमला बावरी ने भी देवी सिंह भाटी की बात का समर्थन करते हुए कहा कि मेघवाल समाज के अलावा भी 58 जातियां जातियों को अगर प्रतिनिधित्व करने का मौका मिलता है तो वह अपना अपनी योग्यता दिखा सकते हैं। अगर मेघवाल समाज को टिकट फिर भी मिले तो क्या करेंगे? के सवाल पर देवी सिंह भाटी ने स्पष्ट कहा कि वे इसका विरोध करेंगे, वहीं शिमला बावरी ने इसका कोई सीधा जवाब नहीं दिया।

देवी सिंह भाटी ने कहा कि बीकानेर में मेघवाल समाज को ही लोकसभा की टिकट देने का विरोध के चलते अब सांसद अर्जुन राम  मेघवाल गंगानगर बार बार में आकर यहां जमीन तलाश रहे हैं, जबकि इसका विरोध होना चाहिए। गौरतलब है  गंगानगर में भी लोकसभा प्रतिनिधित्व के लिए 1972 से आज तक एक ही परिवार को लगातार टिकट मिलती आ रही है।
 

और पढ़ें

Most Related Stories

Rajasthan Lock Down: जब दूल्हा पहुंचा दुल्हनिया लेने, तो बिना अनुमति बारात लाना पड़ गया महंगा

Rajasthan Lock Down: जब दूल्हा पहुंचा दुल्हनिया लेने, तो बिना अनुमति बारात लाना पड़ गया महंगा

श्रीगंगानगर: एक ओर तो पूरे देशभर में कोरोना वायरस से बचाव के लिए लॉकडाउन है. तो वहीं दूसरी ओर लोग लॉक डाउन की धज्जियां उडा रहे है. ये उनके लिए, उनके परिवार के लिए, समाज के लिए और पूरे देश के लिए नुकसानदायी है. प्रदेशभर में लॉकडाउन के साथ धारा 144 लागू है.  इस बीच एक मामला प्रदेश के श्रीगंगानगर से सामने आया है. जहां पर बिना अनुमति दूल्हे को बारात लाना महंगा पड़ गया. 

तेलंगाना के सीएम सख्त, कहा-अगर तोड़ा लॉकडाउन तो लगेगा कर्फ्यू, होंगे देखते ही गोली मारने के आदेश जारी

पकडे गए तो छुपाया मुँह 
श्रीगंगानगर के लालगढ़ गांव में एक दूल्हा अपनी दुल्हन लेने बारात लेकर पहुंच गया है. जबकि पूरे प्रदेशभर में लॉक डाउन है, वहीं धारा 144 लागू है, इसके बावजूद बिना अनुमति के दूल्हा बारात लेकर पहुंच गया. जब पुलिस को इस बात का पता चला तो दूल्हे को पकड लिया, जब दूल्हे को पकडा तो दूल्हे ने शर्म के मारे अपना मुंह छुपा लिया. पुलिस ने दूल्हे और बारातियों को गाड़ी से नीचे उतारा और पूछताछ की. जिसमें करीब 10-11 लाेग सवार थे. दूल्हे ने शादी की परमिशन एसडीएम से लिए जाने की बात कही, लेकिन काेई दस्तावेज नहीं दिखा पाया. 

Coronavirus Updates: देशभर में मरने वालों की संख्या हुई 11, तमिलनाडु में पहली मौत

पुलिस ने दूल्हे को थमाया एक पर्चा 
पुलिस ने दूल्हे को एक पर्चा थमा दिया. जिसमें लिखा था मैं समाज का दुश्मन हूं. किसी के कहने पर घर नहीं बैठूंगा. मैं खुद मरूंगा और सबकाे भी मारूंगा. गौरतलब है कि देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार रात 8 बजे राष्ट्र को संबोधित किया था. उन्होंने पूरे देशभर में 21 दिन के​ लिए लॉकडाउन करने की घोषणा की. वहीं प्रदेश के मुखिया अशोक गहलोत ने भी राजस्थान में लॉकडाउन और धारा 144 लागू कर रखी है. इसके बावजूद लोग अपनी हरकतों से बाज नहीं है. वे घरों में नहीं बैठ रहे है. सरकार और प्रशासन केवल उनके लिए ये सब कर रहे है. प्रदेशभर में कोरोना की रोकथाम के लिए ये कदम उठाये जा रहे है. 

श्रीगंगानगर पुलिस ने सामाजिक सद्भाव की मिसाल की पेश, सफाईकर्मी की बहन का भरा भात

श्रीगंगानगर पुलिस ने सामाजिक सद्भाव की मिसाल की पेश, सफाईकर्मी की बहन का भरा भात

श्रीगंगानगर: आमजन में विश्वास और अपराधियों में भय के ध्येय वाक्य का साकार करने वाली राजस्थान पुलिस का अनूठा रूप उस वक्त देखने को मिला, जब श्रीगंगानगर के महिला थाने में स्वीपर का काम करने वाले युवक की बहन की शादी में पूरा पुलिस थाना भाई बन गया और सीओ सीटी समेत अनेक पुलिस वाले भात (मायरा) भरने पहुंच गए.

9 माह की मासूम बेटी की जमीन पर पटककर पिता ने की हत्या, बाद जमीन में दफनाया

एक बारगी चौंक गए लोग:
सामाजिक सरोकारों की यह अनूठी मिसाल राजस्थान की श्रीगंगानगर पुलिस ने पेश ​की है. शुक्रवार दोपहर को पुराणी शुगर मिल के पास एक युवती की शादी में अचानक एक साथ इतने पुलिसकर्मियों को देख एक बारगी तो हर कोई चौंक गया. बाद में पता चला कि यह सब पुलिसक​र्मी भात लेकर आए हैं, तब हर कोई श्रीगंगानगर पुलिस की इस पहल की सराहना करता दिखा.सीओ सिटी इस्माइल खान ने बताया कि अजय नाम का युवक महिला थाने में लम्बे अरसे से स्वीपर का कार्य करता है. 

कोरोना को लेकर यूपी में अलर्ट, योगी सरकार का ऐलान, 22 मार्च तक बंद रहेंगे स्कूल और कॉलेज

63 हजार रुपए किए एकत्रित:
अजय की बहन की शादी का न्योता मिलते ही पुलिस वालों ने भी भात भरने की ठान ली और आज सभी पुलिसकर्मी भात लेकर इनके घर पहुंचे हैं. अजय की बहन दिव्या की शादी के लिए भात लेकर पहुंचने के लिए सभी पुलिसकर्मियों ने आर्थिक मदद की और 63 हजार रुपए और कुछ लेडीज सूट और फल एकत्रित किए। लोगों ने कहा कि महिला थाना पुलिस ने अच्छी पहल की है, जिससे समाज में पुलिस को लेकर अच्छा संदेश जाएगा.
 

हनी ट्रैप गिरोह चढ़ा पुलिस के हत्थे, दो अलग-अलग मामले में पांच आरोपी गिरफ्तार

हनी ट्रैप गिरोह चढ़ा पुलिस के हत्थे, दो अलग-अलग मामले में पांच आरोपी गिरफ्तार

श्रीगंगानगर: पुलिस ने आज जिले में दो अलग अलग बड़ी कार्रवाई करते हुए सोशल मीडिया के जरिए दोस्ती कर ब्लैकमेल करने के आरोप में कोचिंग छात्रा को तो दूसरी कार्रवाई में पीड़ित युवक को फंसा उसके साथ मारपीट कर वीडियो वायरल करने की धमकी दे कर ब्लैकमेल करने करने वाले हनी ट्रैप गिरोह का पर्दाफाश किया है.  

फेसबुक पर लड़की की फेक आईडी बनाकर ऑनलाइन लाखों की ठगी करने का एक शातिर आरोपी गिरफ्तार 

नग्न अश्लील वीडियो बना कर रहे थे पैसे की मांग: 
श्रीगंगानगर के सदर पुलिस थानाधिकारी हनुमाना रामा ने बताया कि हनुमानगढ़ जिले के निवासी विकास कुमार को हनी ट्रैप गिरोह की दो महिलाओं और दो पुरुषों द्वारा साजिशन फंसाया गया और उसके साथ मारपीट कर उसकी नग्न अश्लील वीडियो बना कर उससे 1 लाख 30 हजार रुपये की मांग की जा रही थी. जिस पर श्रीगंगानगर की सदर थाना पुलिस ने जाल बिछाकर गिरोह के चारों सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया गया.

महिलाओं से दुष्कर्म और हत्या करने वाले साइको किलर को फांसी की सजा 

कोचिंग छात्रा कर रही थी पैसों की मांग:
वहीं श्रीगंगानगर जिले की सूरतगढ़ सिटी पुलिस ने दुष्कर्म मामले में फंसाने की धमकी देकर युवक से 25 हजार रुपये की डिमांड कर रही कोचिंग छात्रा को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है. सूरतगढ़ सिटी थानाधिकारी रामकुमार ने बताया कि कोचिंग छात्रा ने पहले तो पीड़ित युवक से सोशल मीडिया पर दोस्ती की और फिर उसे ब्लैकमेल करने लगी जिस पर जाल बिछा कर उसे भी गिरफ्तार कर लिया गया. 

आमने-सामने की जोरदार भिड़ंत के बाद दोनों ट्रकों में लगी आग, दो जने जिंदा जले

आमने-सामने की जोरदार भिड़ंत के बाद दोनों ट्रकों में लगी आग, दो जने जिंदा जले

श्रीगंगानगर: जिले के सूरतगढ़ के राजियासर थाना के पास आमने-सामने दो ट्रकों में हुई भीषण भिड़ंत के बाद लगी आग में एक ट्रक का चालक जबकि दूसरे का सहचालक जिंदा जल गए. घटना सुबह करीब 9 बजे की बताई जा रही है. पंजाब के तरनतारन से चावल लेकर गुजरात के मुंदरा पोर्ट जा रहे ट्रक और नोखा से बीज लेकर श्रीगंगानगर आ रहे ट्रकों की राजियासर थाना से कुछ ही दूरी पर आमने-सामने भीषण टक्कर हो गई. 

प्रतापगढ़: मशहूर डांसर सपना चौधरी के कार्यक्रम में जोरदार हंगामा, पुलिस को करना पड़ा कई बार हल्का बल प्रयोग 

घायल हुए दोनों जनों को सूरतगढ़ के चिकित्सालय भर्ती करवाया:
दुर्घटना होते ही चावल भरे ट्रक का चालक सोनू केबिन में फंस गया. इसके साथ बैठा पंजाब के मखु का निवासी नाबालिग हैरिसन ट्रक से कूदकर सहायता के लिए चिल्लाने लगा. इसी दौरान आग और ज्यादा फैल गई और सोनू जिंदा जल गया. दूसरे ट्रक का चालक देवीलाल घायल अवस्था में बाहर निकल गया. लेकिन उसका भतीजा नोखा निवासी मनोज भी गाड़ी में फंस जाने से आग में जिंदा जल गया. हादसा होते ही राजियासर पुलिस मौके पर पहुंची तथा आग बुझाने के प्रयास शुरू किए साथ ही हादसे में घायल हुए दोनों जनों को सूरतगढ़ के चिकित्सालय भिजवाया. सूरतगढ़ के ट्रोमा सेंटर में भर्ती देवीलाल के पैर में फैक्चर है जबकि दूसरे ट्रक में सवार नाबालिग हैरिसन को मामूली चोटें आई है. 

 808वां उर्स: ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह में संदल की रस्म को किया अदा, जन्नती दरवाजा भी खोला 

VIDEO: नशे की लत ने बेटे को बनाया 'हैवान', पैसे नहीं देने पर मां को उतारा मौत के घाट

श्रीगंगानगर: जिले के चूनावढ़ में दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. बीती देर रात एक बेटे ने अपनी ही मां का कत्ल कर दिया. यह बेटा नशे का आदी था. मां से नशे के लिए लगातार पैसे की मांग कर रहा था. जब मां ने बेटे को पैसे देने से मना कर दिया तो बेटे ने रसोई में पड़ी फुकनी से लगातार सर में वार किए वह गला दबाकर उसकी हत्या कर दी. उसके बाद किसी को शक ना हो इसलिए अपनी मां का शव उसने घर में पड़े बेड की अलमारी में छुपा दिया.

पिता रसोई में गया तो वहां पर खून पड़ा देखा: 
जब हत्यारे का पिता देर शाम घर आया तो उसने अपनी पत्नी के बारे में पूछा तो उसने कोई जवाब नहीं दिया. उसके बाद जब उसका पिता रसोई में गया तो वहां पर खून पड़ा देख उसको शक हुआ. जब नशेड़ी बेटे से कड़ाई से उसने पूछताछ की तो बेटे ने सारा राज उगल दिया और कहा कि मैंने मां की हत्या कर दी है और शव बेड में छिपा दिया है तो पिता ने तुरंत ही पुलिस को फोन किया. पुलिस ने मौके पर आकर तुरंत हत्यारे बेटे को गिरफ्तार कर लिया और राउंडअप कर लिया  चूनावढ़ थाना एसएचओ परमेश्वर सुथार ने बताया कि यह लड़का नशे का आदी था पैसे नहीं देने पर अपनी मां की हत्या की है. बाकी हत्यारे को राउंडअप कर पूरी जांच की जा रही है.

अध्यापक द्वारा छात्राओं से छेड़छाड़ के मामले में 40 से ज्यादा लोग बैठे अनशन पर, परिजनों ने दी आत्महत्या की धमकी

अध्यापक द्वारा छात्राओं से छेड़छाड़ के मामले में  40 से ज्यादा लोग बैठे अनशन पर,  परिजनों ने दी आत्महत्या की धमकी

अनूपगढ़(श्रीगंगानगर): अनूपगढ़ के गांव 27A में सरकारी स्कूल के अध्यापक द्वारा छात्राओं से छेड़छाड़ के मामले ने तूल पकड़ लिया है. आज सुबह आरोपी अध्यापक को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर 40 से ज्यादा लोग स्कूल के गेट पर तालाबंदी कर आमरण अनशन पर बैठे हुए हैं. छात्राओं के परिजनों ने कहा कि शिक्षा विभाग ने अध्यापक को निलंबित कर दिया है लेकिन पुलिस ने इसे अभी तक गिरफ्तार नहीं किया है और यदि अध्यापक की गिरफ्तारी नहीं होती है तो वह 12 घंटों में छात्राओं समेत स्कूल के गेट पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर लेंगे.

ग्रामीण अध्यापक की गिरफ्तारी की मांग पर अड़े: 
आपको बता दें कि इस गांव के सरकारी स्कूल के अध्यापक अशोक यादव ने छात्राओं से छेड़छाड़ की थी जिस पर आक्रोशित ग्रामीणों ने प्रदर्शन किया था. शिक्षा विभाग ने कार्रवाई करते हुए इस अध्यापक को निलंबित कर दिया लेकिन ग्रामीण अध्यापक की गिरफ्तारी की मांग पर अड़े हुए हैं. साथ ही साथ ग्रामीण स्कूल की प्रधानाचार्य शारदा के भी निलंबन की मांग कर रहे हैं. 

भ्रष्टाचार के खिलाफ नगर पालिका आंदोलन में अनोखा विरोध, भैंस के आगे बीन बजाकर किया गया प्रदर्शन

भ्रष्टाचार के खिलाफ नगर पालिका आंदोलन में अनोखा विरोध, भैंस के आगे बीन बजाकर किया गया प्रदर्शन

श्रीविजयनगर(श्रीगंगानगर): नगर पालिका द्वारा किए गए भ्रष्टाचार को लेकर कस्बे के कांग्रेसी व भाजपाई पार्षद एकजुट दिख रहे हैं. कांग्रेसी और भाजपाई पार्षद एकजुट होकर नगरपालिका के समक्ष धरना प्रदर्शन कर रहे हैं. छठे दिन भी जनप्रतिनिधियों का प्रदर्शन जारी रहा. 

नगरपालिका के बाहर भैंस के सामने बीन बजाया गया: 
जनप्रतिनिधियों ने प्रदर्शन का एक अनोखा तरीका अख्तियार कर आज प्रदर्शन किया. मौके पर नगरपालिका के बाहर भैंस के सामने बीन बजाया गया. पालिका के सामने प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों ने नगर पालिका अधिशासी अधिकारी को भैंस की संज्ञा देते हुए उसके आगे बीन बजाकर जोरदार प्रदर्शन किया. पालिका प्रशासन के द्वारा किए गए भ्रष्टाचार व गबन के मामले में एसीबी जिला प्रशासन डीएलबी में जाचें जारी है परंतु इसके बाद भी अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है.

गबन मामले में FIR नहीं होने को लेकर आक्रोश: 
वहीं नगर पालिका अध्यक्ष के करीबी रिश्तेदार द्वारा भूमि शाखा में किए गए गबन मामले में भी FIR नहीं होने को लेकर जनप्रतिनिधियों में भारी आक्रोश है. आंदोलन को देखते हुए कार्य एक उपखंड अधिकारी ने मध्यस्था कर समझौते का प्रयास किया परंतु पालिका प्रशासन समझौते से मुकर गया जिसके बाद आक्रोशित आंदोलनकारियों ने आंदोलन तेज करने का निर्णय लिया. पालिका के 20 में से 14 पार्षद व उपाध्यक्ष आंदोलन का समर्थन कर रहे हैं. गणतंत्र दिवस के मौके पर भी प्रदर्शनकारियों का आंदोलन जारी रह सकता है. 

VIDEO: एक अच्छी पहल, गरीब परिवार के बच्चों में शिक्षा की अलख जगा रहे तीन 'होनहार' 

VIDEO: एक अच्छी पहल, गरीब परिवार के बच्चों में शिक्षा की अलख जगा रहे तीन 'होनहार' 

श्रीगंगानगर: समाज के बीच कुछ अच्छा करने की ललक हो तो व्यक्ति यूं ही विशेष बन जाता है. शिक्षा ग्रहण करने के दौरान जहां युवा सामान्यत: अपनी पढ़ाई व घरों के कार्यों में हाथ बटाने तक ही सीमित रह जाते हैं, वहीं सादुलशहर के तीन होनहार न सिर्फ अपना नाम ऊंचा कर रहे हैं, बल्कि कस्बे में बेहतर शिक्षा का माहौल पैदा करने की कवायद में जुटे हैं. एमए बीएससी की पढाई कर चुके ये युवा करीब 140 बच्चों को नियमित रूप से शिक्षा देने का काम कर रहे हैं. यह सिलसिला पिछले करीब छह माह से लगातार चल रहा है. युवाओं के इस सकारात्मक प्रयास की न सिर्फ कस्बे में बल्कि दूर दराज के क्षेत्रों में भी प्रशंसा हो रही है. 

स्वयं के संसाधनों से शिक्षा की अलख जगाने का संकल्प:
कहतें हैं किसी भी परिवार, समाज व देश की तरक्की करनी हो तो सबसे पहले वहां की शिक्षा व्यवस्था को बेहतर करने की जरूरत होती है. नागरिक जब शिक्षित व जागरूक होगा तो स्वत: ही देश व समाज तरक्की के पथ पर अग्रसर होता है. इसी धारणा के अनुरूप अपने कस्बे को विशेष बनाने के लिए सादुलशहर के तीन युवाओं ने ठान ली है. कस्बे के वार्ड 19 की धानक धर्मशाला में पिछले कई महीनों से एक 'शिक्षा केंद्र' ऐसा भी लगता है, जिसमें असहाय और गरीब परिवार के बच्चे पढ़ने आते हैं और इन बच्चों को निःशुल्क शिक्षा दी जाती है. कस्बे के ही कुछ जागरूक युवाओं ने इसकी शुरुआत की है ओर इन लोगों ने स्वयं के संसाधनों द्वारा गरीब परिवार के बच्चों में शिक्षा की अलख जगाने का संकल्प लेकर प्रयास शुरू किए हैं. 

रोजाना दो से तीन घंटे शिक्षा:
इस शिक्षा केंद्र में कस्बे के विभिन्न स्कूलों के बच्चों को स्कूल टाइम के बाद रोजाना दो से तीन घंटे शिक्षा दी जाती है. केंद्र चलाने वाले अध्यापक श्यामलाल ने बताया की उन्होंने अपने जीवकाल में ऐसे बच्चों को देखा, जिनके माता पिता नहीं है, या वे गरीबी के कारण पढ़ नहीं पाते या उन्हें स्कूल से निकाल दिया जाता है. उन्ही बच्चों को शिक्षित करने के लिए उनके दिमाग में यह प्रेरणा आई और उन्होंने यह केंद्र शुरू किया. जगह के लिए उन्होंने वार्ड में बनी धानक धर्मशाला के खाली कमरों को चुना. इन कमरों की साफ सफाई की, गेट ठीक करवाए और बच्चों को पढ़ाना शुरू किया. वहीं रमनदीप खंडा ने बताया की शुरुआत में तीस बच्चे थे ओर अब इनकी संख्या 130 तक पहुंच गई है. इसके लिए कोई भी पैसा नहीं लिया जाता. उन्होंने बताया की कक्षा पांच से लेकर बारह तक के बच्चों को पढ़ाया जाता है. शिक्षा के साथ साथ बच्चों को नैतिक मूल्यों के बारे में भी बताया जाता है.

सामाजिक संस्थाओं का सहयोग:
इस केंद्र में कस्बे के विभिन्न स्कूलों के बच्चे शिक्षा ग्रहण करने आते हैं. पढाई कर रहे बच्चों ने बताया की वे यहां आकर काफी खुश हैं, क्योंकि उनकी आर्थिक स्तिथि ऐसी नहीं है कि वे ट्यूशन ले सके या फिर बड़े स्कूलों में पढ़ सके. इस केंद्र पर निशुल्क पढाई करवाई जा रही है, जिससे उन्हें काफी मदद मिल रही है. अन्य सहयोगी रवि कुमार ने बताया की केंद्र में डेस्क, लाइट, ब्लैक बोर्ड ओर अन्य सामान खुद की जेब से लाये हैं धीरे धीरे कुछ सामाजिक संस्थाओं ने भी सहयोग किया है. उन्होंने कहा की यदि समाज इस केंद्र को सहयोग करे तो बच्चों को ओर बेहतर तरीके से शिक्षा प्रदान की जा सकती है.

सकारात्मक प्रयास:
इन युवाओं के इस सकारात्मक प्रयास को देखते हुए कुछ सामाजिक संस्थाए भी उनका मनोबल बढ़ाने के लिए आगे आई हैं. शहीद भगत सिंह क्लब ओर भारत विकास परिषद् ने जरूरी मदद की. इन युवाओं की इस पहल में अब लोग भी भागीदार बन रहे हैं. ऐसे में आवश्यकता है, कस्बेवासियों ओर दानदाताओं से की वे भी सहयोग करें ओर इस पहल को आगे बढ़ाये. 

Open Covid-19