मधुमेह के मरीजों में बढ़ सकता है कैंसर का खतरा

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/10/06 03:59

नई दिल्ली। डायबिटीज आज—कल आम बीमारी हो गई है। लेकिन एक रिसर्च के दौरान पता चला है कि डायबिटीज के मरीजों में कैंसर होने का खतरा बढ़ सकता है और इस तरह के मरीजों के बचने की संभावना काफी कम है। स्वीडिश नेशनल डायबिटीज रजिस्टर के शोधकर्ताओं के मुताबिक डायबिटीज से पीड़ित 20 फीसद मरीजों में इस बीमारी से अछूते लोगों के मुकाबले कोलोरेक्टल कैंसर होने का खतरा सबसे ज्यादा होता है और पांच प्रतिशत मरीजों में स्तन कैंसर होने का खतरा अधिक होता है।

 डायबिटीज से पीड़ित लोग 
जिन लोगों को कैंसर हो और वे डायबिटीज से भी पीड़ित हों तो उनमें स्तन कैंसर और प्रोस्टेट कैंसर के कारण मौत की क्रमश 25 प्रतिशत और 29 प्रतिशत अधिक आशंका होती है। दुनियाभर में लगभग 41.5 करोड़ से अधिक लोग डायबिटीज से पीड़ित हैं। और वर्ष 2040 तक इस संख्या के बढ़कर 64.2 करोड़ होने की संभावना नजर आ रही है। 

30 साल में बढ़ी मधुमेह रोगियों की संख्या
इस अध्ययन पर शोध करने वाले जोर्नस्डोटिर कहती हैं कि हमारा अध्ययन यह नहीं कहता कि जिस व्यक्ति को मधुमेह है, उसे बाद में कैंसर हो जाएगा। चूंकि पिछले 30 साल में टाइप 2 डायबिटीज से पीड़ित लोगों की संख्या बढ़ी है तो हमारा अध्ययन मधुमेह से देखभाल के महत्व पर ज्यादा जोर देता है। अध्‍ययन से कुल मिलाकर यह निकला है कि डायबिटीज वाले रोगी अपनी खान—पान व खुद पर ज्‍यादा ध्‍यान दें जिससे वह कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से बच सकें। 

क्या है मधुमेह
शरीर में इन्सुलिन हार्मोन के स्रावण में कमी से मधुमेह रोग होता है। मधुमेह आनुवांशिक या उम्र बढ़ने पर या मोटापे के कारण या फिर अधिक तनाव के कारण हो सकता है। डायबिटीज ऐसा रोग है जिसमें व्यक्ति को काफी परहेज से रहना होता है। आजकल इस बीमारी से ज्यादा संख्या में युवा और यहां तक की बच्चे भी मधुमेह रोग से बच नहीं पा रहे है। 


 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in