Digital Baal Mela: जनप्रतिनिधि और सामाजिक सरोकार! बाल मेला मंच पर आज राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हेमंत भाई गोयल से विशेष संवाद, शाम 4 बजे गूगल मीट से जुड़े बच्चे

Digital Baal Mela: जनप्रतिनिधि और सामाजिक सरोकार! बाल मेला मंच पर आज राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हेमंत भाई गोयल से विशेष संवाद, शाम 4 बजे गूगल मीट से जुड़े बच्चे

Digital Baal Mela: जनप्रतिनिधि और सामाजिक सरोकार! बाल मेला मंच पर आज राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हेमंत भाई गोयल से विशेष संवाद, शाम 4 बजे गूगल मीट से जुड़े बच्चे

जयपुर: फ्यूचर सोसाइटी और एलआईसी द्वारा प्रायोजित एवं आईडीबीआई बैंक के सह प्रायोजन से आयोजित ये मंच है डिजिटल बाल मेला के सीजन 2 में बच्चे हर दिन एक नये विषय पर ज्ञानवर्धन कर रहे है. आज बाल मेला में 'जनप्रतिनिधि और सामाजिक सरोकार' विषय पर संवाद होगा. जिसमें बच्चों को जनता के हितों की रक्षा करने के लिए अपनाये जाने वाले हर पहलू से मुखातिब कराने आ रहे है दिव्यांक अधिकार महासंघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हेमंत भाई गोयल. डिजिटल बाल मेला के प्रांगण पर आज शाम 4 बजे बच्चों से सीधा संवाद करेंगे. इस संवाद में हेमंत भाई गोयल बच्चों को बताएंगे कि कैसे वो जनप्रतिनिधि बनकर समाज के सभी कार्यों में जनता की रक्षा में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रहे है तो वहीं बाल राजनीति में शामिल हो रहे बच्चों को भी किस तरह अपने जीवन में एक सामाजिक सरोकार की भूमिका निभानी है.

हेमंत भाई गोयल का परिचय:
ना धरना,ना आन्दोलन,ना कोई प्रदर्शन,एक व्यक्ति काम अनेक, हम बात कर रहे है वन मैन आर्मी बन कर कर रहे काम हेमंत भाई गोयल की.जो कि राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिव्यांग अधिकार महासंघ विगत दो दशक से दिव्यांगजन सबलीकरण एंव अधिकार संरक्षण के लिए राष्ट्रीय स्तर पर काम कर रहे हैं.इन्होंने अपने सामाजिक सरोकारों को संपादित करने के लिए आज तक भी किसी भी प्रकार का सरकारी अथवा निजी स्रोत से आर्थिक मदद प्राप्त नहीं की है.दिव्यांग अधिकार संरक्षण के लिये इन्हें वन मैन आर्मी के रूप में ख्याति प्राप्त है. इनके सुझावों को क्रियांवित करते हुए सरकार ने ऐसी अनेक योजनाएं लागू की जो देश के अन्य किसी राज्य में लागू नहीं हैं.गोयल को राष्ट्रीय स्तर पर कांग्रेस सरकार के तत्कालीन केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डी नेपोलियन ने बैस्ट पैरेंट आफ पर्सन विद डिसेबलिटी अवार्ड से सम्मानित किया. वर्तमान केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत ने राष्ट्रीय प्रेरणा दूत अवार्ड से सम्मानित किया. अपने कार्यो को लेकर कई अवॉर्ड से सम्मानित हो चुके गोयल को राज्स्थान विधानसभा के स्पीकर सीपी जोशी ने राजस्थान गौरव अवार्ड से सम्मानित किया तो वही राजस्थान सरकार के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री भंवरलाल मेघवाल ने राज्य स्तरीय सर्वश्रेष्ठ सामाजिक कार्यकर्ता के अवार्ड से सम्मानित किया.

अपने इन्हीं गुणों से बच्चों को अब हेमंत भाई गोयल बच्चों का भविष्य संवारेंगे.जो कि डिजिटल बाल मेला के मंच पर बच्चों से जनप्रतिनिधि और सामाजिक सरोकारों विषय पर संवाद करेंगे.

15 जून से शुरू हुआ था बच्चों संग राजनेताओं का सीधा संवाद:
'बच्चों की सरकार कैसी हो' में बच्चे हर दिन राजनेताओं से बात कर राजनीति के हर पहलू को समझ रहे है. ऐसे में इस संवाद की शुरूआत श्रम राज्यमंत्री टीकाराम जूली से हुई जिसके बाद अभी तक बच्चों संग संवाद में बीजेपी के युवा विधायक रामलाल शर्मा,सूजानगढ़ विधायक मनोज मेघवाल,छात्र नेता ललित यादव,विधायक अविनाश गहलोत,योगा ट्रेनर दिव्या शेखावत,अमेरिका की एल्डरमैन बनी भारतीय मूल की श्वेता बैद, मनोचिकित्सक डॉ अनीता गौतम, विश्वप्रसिद्ध रूमा देवी, आदर्श नगर विधायक रफीक खान,सीकर सांसद सुमेधानंद सरस्वती,राजस्थान के उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी, राजस्थान के राजस्व मंत्री हरीश चौधरी,डॉ अजयवर्धन आचार्य,मनोवैज्ञानिक डॉ मनीषा गौड़,पूर्व शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी,डॉ सुभाष गर्ग,पीसीसी सचिव पुष्पेंद्र भारद्वाज. तो वही आरजे कार्तिक ,राज्यसभा सांसद नीरज डांगी और बच्चों को राजपरिवारों का लोकतंत्र में योगदान बताने के लिए राजसमंद सांसद दीया कुमारी ने बच्चों से सीधा संवाद किया. इसके अलावा आईपीएस पंकज चौधरी और नवलगढ़ विधायक राजकुमार शर्मा, कैबिनेट मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास और नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, विधायक दीप्ति माहेश्वरी, विधायक राजकुमार रोत, वही सुबोध स्कूल की प्रिंसिपल कमलजीत यादव,अध्यक्ष दामोदर प्रसाद गोयल, सीडब्ल्यूसी रघुवीर सिंह मीणा, राज्यमंत्री ममता भूपेश ने भी बच्चों से संवाद किया. 

राजस्थान विधानसभा जाएंगे बाल राजनीति में शामिल हो रहे विजेता बच्चे:
14 नवंबर को बाल राजनीति में शामिल हो रहे विजेता बच्चों को राजस्थान विधानसभा के विशेष बाल सत्र में जाने का मौका दिया जाएगा. जहां बच्चे अपनी सरकार और उनकी कार्यविधि को करीब से जानेंगे.ये बच्चों के लिए एक बड़ा मौका है जिसके लिए बच्चों को सिर्फ अपने मन की बात देश के सामने लाने के लिए डिजिटल बाल मेला में अपनी एंट्री भेजनी है और फिर देश जानेंगा बच्चों की जुबानी 'बच्चों की सरकार कैसी हो'..

Digital Baal Mela 2021 की वेबसाइड के साथ अब बच्चे व्हॉटसप पर भी भेज सकते है अपनी एंट्री: 
'डिजिटल बाल मेला सीजन2' में 'बच्चों की सरकार कैसी हो' की किसी भी प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए बच्चों को अपना रजिस्ट्रेशन कराना होगा जिसके लिए बच्चे रजिस्ट्रेशन के लिए वेबसाइड www.digitalbaalmela.com के साथ ही डिजिटल बाल मेला के व्हॉटसप नंबर 8005915026 पर भी अपनी एंट्री भेज सकते है.

और पढ़ें