Digital Baal Mela: राज्यमंत्री ममता भूपेश से विशेष संवाद, बच्चे जानेंगे 'महिला बाल विकास कितनी कहानी, कितना सच?' शाम 4 बजे गूगल मीट पर लाइव जुड़ें बच्चे

Digital Baal Mela: राज्यमंत्री ममता भूपेश से विशेष संवाद, बच्चे जानेंगे 'महिला बाल विकास कितनी कहानी, कितना सच?' शाम 4 बजे गूगल मीट पर लाइव जुड़ें बच्चे

Digital Baal Mela: राज्यमंत्री ममता भूपेश से विशेष संवाद, बच्चे जानेंगे 'महिला बाल विकास कितनी कहानी, कितना सच?' शाम 4 बजे गूगल मीट पर लाइव जुड़ें बच्चे

जयपुर: महिला बाल विकास! बच्चों ने सरकार के इस विभाग के बारें में तो सुना ही होगा....लेकिन आखिरकार महिला बाल विकास का काम होता क्या है?.. ये विभाग कैसे काम करता है?...इस विभाग की क्या योजनाएं होती हैं?....क्या जिम्मेदारियां होती है?.... कैसे ये विभाग देशभर के बच्चों और महिलाओं की सुरक्षा कर रहा हैं?....किस तरह देश के विकास में भागीदार बन रहा है?...ये सवाल हर किसी के मन में घर किए हुए है. अब डिजिटल बाल मेला के मंच पर बच्चे आज के संवाद में इन्हीं बातों पर ज्ञानवर्धन करेंगे.जी हां महिला बाल विकास कितनी कहानी, कितना सच? के विषय पर आज बच्चों से बात करने आ रही है महिला बाल विकास राज्यमंत्री ममता भूपेश. जो डिजिटल बाल मेला के गूगल मीट पर बच्चों से रूबरू होगी.

लाइव सेशन में राज्यमंत्री ना सिर्फ बच्चों को इस बारें में बताएंगी, बल्कि उनकी परेशानियां भी सुनेंगी और उनकी समस्याओं का निवारण करेंगी. आज का संवाद बच्चों के लिए बेहद खास होने जा रहा है जब वो सीधे राज्यमंत्री से रूबरू होंगे. उनके सामने अपनी सभी विडंबनाओं रखेंगे. राज्यमंत्री बच्चों के सभी सवालों का जवाब लेकर डिजिटल बाल मेला के मंच पर प्रवेश करेंगी. 

फ्यूचर सोसाइटी और एलआईसी द्वारा प्रायोजित एवं आईडीबीआई बैंक के सह प्रायोजन से आयोजित डिजिटल बाल मेला 2021 सीजन2 में बच्चे हर दिन राजनीति के बारें में कुछ नया सीख रहे है. ऐसे में ये संवाद भी बच्चों को राजनीति में एक अहम बात सीखाने जा रहा है. राज्यमंत्री ममता भूपेश जो कि राजस्थान सरकार में एकमात्र महिला मंत्री है. राजनीति में एक प्रखर वक्ता के तौर पर जानी जाती है.उन्होंने अपना पहला चुनाव वर्ष 2000 में सिकंदरा से जिला परिषद का लड़ा और जीत दर्ज की. इसके बाद 2003 में दौसा विधानसभा और 2013 में सिकराय से विधायक का चुनाव लड़ा, जिसमें उनको हार का सामना करना पड़ा.ममता भूपेश विधानसभा चुनाव 2008 में पहली बार विधायक चुनी गई थी, इसी कार्यकाल में उन्हें संसदीय सचिव भी बनाया गया था. ममता भूपेश ने क्षेत्र में स्कूल और कॉलेज सहित कई गांवों में स्कूल खुलवाए.
ऐसे में दशकों से राजनीति में अपनी छवि बरकरार रखने वाली ममता भूपेश अपने काम के प्रति काफी गंभीर है. यही कारण है मंत्री बनकर उन्होनें राजनेताओं के आगे अपना वर्चस्व कायम किया है. बच्चों और महिलाओं के मुद्दों पर बुलंद आवाज उठाने वाली ममता भूपेश अब बच्चों से उनके अधिकारों की बात करेंगी तो वही उन्हें सरकार द्वारा बच्चों के लिए बनायी गयी योजनाओं से भी अवगत कराएंगी.

15 जून से शुरू हुआ था बच्चों संग राजनेताओं का सीधा संवाद:
'बच्चों की सरकार कैसी हो' में बच्चे हर दिन राजनेताओं से बात कर राजनीति के हर पहलू को समझ रहे है. ऐसे में इस संवाद की शुरूआत श्रम राज्यमंत्री टीकाराम जूली से हुई जिसके बाद अभी तक बच्चों संग संवाद में बीजेपी के युवा विधायक रामलाल शर्मा,सूजानगढ़ विधायक मनोज मेघवाल,छात्र नेता ललित यादव,विधायक अविनाश गहलोत,योगा ट्रेनर दिव्या शेखावत,अमेरिका की एल्डरमैन बनी भारतीय मूल की श्वेता बैद, मनोचिकित्सक डॉ अनीता गौतम, विश्वप्रसिद्ध रूमा देवी, आदर्श नगर विधायक रफीक खान,सीकर सांसद सुमेधानंद सरस्वती,राजस्थान के उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी, राजस्थान के राजस्व मंत्री हरीश चौधरी,डॉ अजयवर्धन आचार्य,मनोवैज्ञानिक डॉ मनीषा गौड़,पूर्व शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी,डॉ सुभाष गर्ग,पीसीसी सचिव पुष्पेंद्र भारद्वाज. तो वही आरजे कार्तिक ,राज्यसभा सांसद नीरज डांगी, राजसमंद सांसद दीया कुमारी,आईपीएस पंकज चौधरी और नवलगढ़ विधायक राजकुमार शर्मा, कैबिनेट मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास और नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, विधायक दीप्ति माहेश्वरी, विधायक राजकुमार रोत, वही सुबोध स्कूल की प्रिंसिपल कमलजीत यादव, अध्यक्ष दामोदर प्रसाद गोयल, सीडब्ल्यूसी सदस्य रघुवीर सिंह मीणा ने भी बच्चों से संवाद किया. 

राजस्थान विधानसभा जाएंगे बाल राजनीति में शामिल हो रहे विजेता बच्चे:
14 नवंबर को बाल राजनीति में शामिल हो रहे विजेता बच्चों को राजस्थान विधानसभा के विशेष बाल सत्र में जाने का मौका दिया जाएगा. जहां बच्चे अपनी सरकार और उनकी कार्यविधि को करीब से जानेंगे.ये बच्चों के लिए एक बड़ा मौका है जिसके लिए बच्चों को सिर्फ अपने मन की बात देश के सामने लाने के लिए डिजिटल बाल मेला में अपनी एंट्री भेजनी है और फिर देश जानेंगा बच्चों की जुबानी 'बच्चों की सरकार कैसी हो'..

Digital Baal Mela 2021 की वेबसाइड के साथ अब बच्चे व्हॉटसप पर भी भेज सकते है अपनी एंट्री: 
'डिजिटल बाल मेला सीजन2' में 'बच्चों की सरकार कैसी हो' की किसी भी प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए बच्चों को अपना रजिस्ट्रेशन कराना होगा जिसके लिए बच्चे रजिस्ट्रेशन के लिए वेबसाइड www.digitalbaalmela.com के साथ ही डिजिटल बाल मेला के व्हॉटसप नंबर 8005915026 पर भी अपनी एंट्री भेज सकते है.

और पढ़ें