Digital Baal Mela: जब हर क्षेत्र में महिला धुरंधर, तो राजनीति में क्यों संख्या कम? आज बताएंगी कांग्रेस नेत्री रुक्क्षमणि कुमारी, शाम 4 बजे गूगल मीट पर संवाद

Digital Baal Mela: जब हर क्षेत्र में महिला धुरंधर, तो राजनीति में क्यों संख्या कम? आज बताएंगी कांग्रेस नेत्री रुक्क्षमणि कुमारी, शाम 4 बजे गूगल मीट पर संवाद

Digital Baal Mela: जब हर क्षेत्र में महिला धुरंधर, तो राजनीति में क्यों संख्या कम? आज बताएंगी कांग्रेस नेत्री रुक्क्षमणि कुमारी, शाम 4 बजे गूगल मीट पर संवाद

जयपुर: महिला और राजनीति सक्रियता. आज के दौर में महिलाएं हर क्षेत्र में अपनी बड़ी भूमिका निभा रही है. लेकिन राजनीति में ऐसा नहीं है. हालांकि सियासत में महिलाओं का रूझान बढ़ा है और वो पहले के मुकाबले अब राजनीति में अपना भविष्य बनाने की ओर कदम बढ़ाने लगी है. फिर भी ये आंकड़ा उस स्तर पर नहीं पहुंच सका. अब आखिरकार ऐसा क्यों? क्यों आज भी महिलाएं राजनीति में आने के लिए उतनी जागरूक नहीं है. अब बच्चों को इन्हीं सवालों का जवाब देने आ रही है ऑल इंडिया प्रोफेशनल कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष रुक्क्षमणि कुमारी.

फ्यूचर सोसाइटी और एलआईसी द्वारा प्रायोजित एवं आईडीबीआई बैंक के सह प्रायोजन से आयोजित ये Digital Baal Mela season 2 में आज 3 अगस्त शाम 4 बजे बच्चों को बताएंगी कि आखिरी राजनीति में महिला नेता की संख्या इतनी कम क्यों होती है. इसके पीछे क्या—क्या कारण है? वही इस संवाद में बच्चे कांग्रेस नेत्री से उनके राजनीति के अनुभव जानेंगे तो वही उनसे अपने मन का विषय से संबंधित सवाल भी कर सकते है. ऐसे में यदि बच्चें के पास महिला नेता के राजनीति में आने के संदर्भ में किसी प्रकार का कोई सुझाव, कोई राय या कोई विचार है तो वो संवाद में रुक्क्षमणि कुमारी के साथ साझा कर सकते है.

बात यदि रुक्क्षमणि कुमारी की करें तो 14 जुलाई 1979 को जन्मी रुक्क्षमणि कुमारी वर्तमान में ऑल इंडिया प्रोफेशनल कांग्रेस की प्रदेशाध्यक्ष है.26 जनवरी 2018 को ही उन्हें अखिल भारतीय पेशेवर कांग्रेस, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की पेशेवर शाखा के राजस्थान अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया था. इससे पहले साल 2016 में उन्होंने स्टार फाउंडेशन नामक एक गैर सरकारी संगठन की स्थापना की. जो कि ग्रामीण राजस्थान में महिलाओं और वंचित बच्चों के विकास के लिए काम करता है. इसके साथ ही वह राजस्थान महिला फुटबॉल संघ के अध्यक्ष के रूप में भी कार्यरत है. राजनीति में सामाजिक परिदृश्य से रूक्षमणि कुमारी ने काफी काम किये है. ऐसे में भारत की अन्य महिलाओं को राजनीति में आने के लिए वो क्या कहना चाहेंगी.... महिला की राजनीति में इतनी कम संख्या पर उनके क्या विचार है तो वही....इस आंकड़े को कैसे पूरा किया जाएं? इन्हीं सब सवालों के जवाब देने रूक्षमणि कुमारी बच्चों संग आज का संवाद करेंगी.

15 जून से शुरू हुआ था बच्चों संग राजनेताओं का सीधा संवाद:
'बच्चों की सरकार कैसी हो' में बच्चे हर दिन राजनेताओं से बात कर राजनीति के हर पहलू को समझ रहे है. ऐसे में इस संवाद की शुरूआत श्रम राज्यमंत्री टीकाराम जूली से हुई जिसके बाद अभी तक बच्चों संग संवाद में बीजेपी के युवा विधायक रामलाल शर्मा,सूजानगढ़ विधायक मनोज मेघवाल,छात्र नेता ललित यादव,विधायक अविनाश गहलोत,योगा ट्रेनर दिव्या शेखावत,अमेरिका की एल्डरमैन बनी भारतीय मूल की श्वेता बैद, मनोचिकित्सक डॉ अनीता गौतम, विश्वप्रसिद्ध रूमा देवी, आदर्श नगर विधायक रफीक खान,सीकर सांसद सुमेधानंद सरस्वती,राजस्थान के उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी, राजस्थान के राजस्व मंत्री हरीश चौधरी,डॉ अजयवर्धन आचार्य,मनोवैज्ञानिक डॉ मनीषा गौड़,पूर्व शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी,डॉ सुभाष गर्ग,पीसीसी सचिव पुष्पेंद्र भारद्वाज. तो वही आरजे कार्तिक ,राज्यसभा सांसद नीरज डांगी और बच्चों को राजपरिवारों का लोकतंत्र में योगदान बताने के लिए राजसमंद सांसद दीया कुमारी ने बच्चों से सीधा संवाद किया. इसके अलावा आईपीएस पंकज चौधरी और नवलगढ़ विधायक राजकुमार शर्मा, कैबिनेट मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास और नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, विधायक दीप्ति माहेश्वरी, विधायक राजकुमार रोत, वही सुबोध स्कूल की प्रिंसिपल कमलजीत यादव,अध्यक्ष दामोदर प्रसाद गोयल, सीडब्ल्यूसी रघुवीर सिंह मीणा,उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने भी बच्चों से संवाद किया. 

राजस्थान विधानसभा जाएंगे बाल राजनीति में शामिल हो रहे विजेता बच्चे:
14 नवंबर को बाल राजनीति में शामिल हो रहे विजेता बच्चों को राजस्थान विधानसभा के विशेष बाल सत्र में जाने का मौका दिया जाएगा. जहां बच्चे अपनी सरकार और उनकी कार्यविधि को करीब से जानेंगे.ये बच्चों के लिए एक बड़ा मौका है जिसके लिए बच्चों को सिर्फ अपने मन की बात देश के सामने लाने के लिए डिजिटल बाल मेला में अपनी एंट्री भेजनी है और फिर देश जानेंगा बच्चों की जुबानी 'बच्चों की सरकार कैसी हो'..

Digital Baal Mela 2021 की वेबसाइड के साथ अब बच्चे व्हॉटसप पर भी भेज सकते है अपनी एंट्री: 
'डिजिटल बाल मेला सीजन2' में 'बच्चों की सरकार कैसी हो' की किसी भी प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए बच्चों को अपना रजिस्ट्रेशन कराना होगा जिसके लिए बच्चे रजिस्ट्रेशन के लिए वेबसाइड www.digitalbaalmela.com के साथ ही डिजिटल बाल मेला के व्हॉटसप नंबर 8005915026 पर भी अपनी एंट्री भेज सकते है.

और पढ़ें