दिव्यांग युवक ने एक ही मंडप के नीचे रचाई तीन महिलाओं से शादी

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/06/23 03:22

झाड़ोल(उयदपुर)। उदयपुर जिले के आदिवासी अंचल क्षेत्र झाड़ोल तहसील के गांव अडोल के रहने वाले एक दिव्यांग ने एक अनूठी शादी कर सभी को अचम्भित कर दिया है। दरअसल इस गांव के रहने वाले दिव्यांग युवक नक्कालाल कसौटिया ने एक मंडप के नीचे तीन महिलाओं से शादी रचाई है। ये युवक इनमें से पहली महिला के साथ 12 साल से तो दूसरी के साथ आठ साल से लिव इन रिलेशनशिप में रह रहा था। वहीं तीसरी दुल्हन दिव्यांग युवक नक्कालाल की साली है, जिसके साथ वह एक वर्ष से लिव इन में था। 

नक्कालाल बचपन से ही पोलियो जैसी गंभीर बिमारी से ग्रसित हो गया था। नक्कालाल के जीवन में आई पहली महिला कंतुबाई उससे उम्र में 13 साल बड़ी है। नक्कालाल बिना शादी पिछले 12 साल से उसके साथ लिव इन रिलेशनशिप में रह रहा है। अपनी पहली पत्नी कंतुबाई और दूसरी पत्नी पुनकी से संतान नहीं होने पर पिछले साल नक्कालाल अपने से पांच साल छोटी साली 27 वर्षीय रेखा को भी साथ ले आया। इसके बाद से वह तीनों ही पत्नियों के साथ एक साथ रहने लगा। रेखा के गर्भवती होने पर नक्कालाल ने विवाह करने की सोची। 

बुधवार को उसने अपनी तीनों लिव इन पार्टनर से अपने घर पर ही नाते-रिश्तेदारों की मौजूदगी में एक ही मंडप के नीचे शादी कर ली। आठ वर्ष पहले नक्कालाल पास के ही फोफटी गांव की दिव्यांग महिला पुनकी से प्यार कर बैठा और उसे भी अपने साथ घर ले आया जो की उसकी दूसरी पत्नी है। इसके बाद कंतुबाई व पुनकी दोनों ही नक्कालाल के साथ रह रही हैं। आपको बता दे की लिव इन रिलेशनशिप का सिस्टम केवल पाश्चात्य देशों में ही नहीं, बल्कि आदिवासी समुदाय में भी प्रमुखता से है। उदयपुर जिले में भी काफी बड़ा हिस्सा आदिवासी बहुलता वाला है। ऐसे में यहां भी आदिवासियों में ये परंपरा लंबे समय से देखी जाती है।

यहां कई साल तक लिव इन रिलेशनशिप में रहने के बाद शादी करने की परंपरा है। इसके अलावा अगर बिना रीति रिवाज से कोई भी युवक-युवती अगर शादी कर लेते हैं और जब उनमें आपसी संबंध के बाद बच्चा बच्ची होता है। तो उसको नाम देने के लिए भी उसके जन्म के पहले इस तरह का विवाह किया जाता है । यही नहीं आदिवासी समाज में बापा प्रथा भी एक मुख्य इसका कारण रहा है । बापा प्रथा के तहत अगर कोई भी युवक-युवती बिना रिवाज के अगर साथ रहते हैं । इस दौरान जब किसी कारणवश लड़की की मौत हो जाती है तो पीहर पक्ष के लोग लड़के से जुर्माने के रुप में राशि वसूल करते हैं । ऐसे में जुर्माने से बचने के लिए भी इस तरह का विवाह किया जाता है ।  
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in