भूखण्ड विवाद के चलते खाप पंचायत ने पांच परिवारों को किया समाज से बहिष्कृत

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/03/25 01:57

भीलवाड़ा। आधुनिक दौर में भी अशिक्षा के चलते खाप पंचायतों के बोझ तले दबकर कुछ परिवार टूट रहे हैं। खाप पंचायतों के पंच-पटेलों के फैसलों से परेशान लोग अब कोर्ट और पुलिस की शरण जा रहे हैं। ऐसा ही एक मामला माण्‍डल तहसील के आरजियां ग्राम पंचायत के कीर खेड़ा ग्राम में सामने आया जहां एक परिवार के भूखण्‍ड विवाद में बीच पड़े पंच-पटेलों और खाप पंचायतों का फैसला नहीं माना तो 5 परिवारों को खाप पंचायत ने 5 साल के लिए समाज से बहिष्‍कृत कर उनका हुक्‍का-पानी बंद कर दिया। यही नहीं परिवार पर खाप पंचायत ने एक लाख रूपये का अर्थदण्‍ड भी लगाया। मजेदार बात यह है खाप पंचायत इस मामले में अपना फैसला परिवार पर लाद रहा है उस मामले में पहले ही भूखण्‍ड का विवाद कोर्ट मे विचाराधीन है।

आरजिया ग्राम पंचायत के कीर खेड़ा में रहने वाले बंशीलाल कीर का उसके चेचरे भाईयों के साथ भूखण्‍ड का विवाद करीब 1 दशक से चल रहा है। इसी भूखण्‍ड के विवाद को लेकर भीलवाड़ा तहसीलदार ने अपना फैसला बंशीलाल के पक्ष में सुना दिया। जिसके खिलाफ उसका चेचरा भाई ने जिला मजिस्‍ट्रेट कोर्ट में निगरानी दायर कर रखी है। इसी बीच चेचेरे भाई ने यह मामला कीर समाज के पंचों के सामने रखा। 27 फरवरी को कीर खेड़ा माता जी मन्दिर के बाहर जाति पंचायत बैठी और पंचों ने विचार-विमर्श के बाद देर रात फैसला सुना दिया। तुगलक्‍की फरमान सुनाते हुए खाप पंचायत ने यह विवादित भुखण्‍ड चेचेरे भाई को देने का फरमान बंशीलाल का सुनाया। बंशीलाल ने जब इस पर आनकानी की तो पंच-पटेलों ने सर्वसम्‍मत्ति से बंशीलाल सहित उसके पांचों भाईयों को समाज से बाहर कर दिया और उनका हुक्‍का-पानी बन्‍द करते हुए पूरे समाज को पाबन्‍द कर दिया कि उससे कोई भी सम्‍बन्‍ध नहीं रखे।

वही पीड़ित परिवार की बहू केशीबाई कीर का कहना है कि पंचों ने हमारे पीहर पक्ष पर पाबन्‍दी लगा दी है कि यदी वह हमें अपने घर बुलायेगें तो उन पर 20 हजार रूपये का जुर्माना लगाया जायेगा। इसके कारण अब हम अपने सुसराल भी नहीं जा रहे है। वहीं माण्‍डल थाना चौकी प्रभारी राजेश कुमार ने कहा कि हमने इसमें मामला दर्ज क‍र लिया है और जांच जारी है।

सोचने वाली बात यह है कि आधुनिक दौर में तमाम सामाजिक संगठनों व न्‍यायिक प्रक्रिया पर जोर देने वाले लोगों की कवायद इस दौर में कितनी सफल हुई है और कब ग्रामीण क्षेत्रों में इन खाप पंचायतों के फैसलों से मुक्ति मिलेगी।  

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in