डॉक्टरों की कमी झेल रहे जवाहर अस्पताल के हालात और बिगड़े

Suryaveer Singh Tanwar Published Date 2019/07/15 09:58

जैसलमेर: पहले से रिक्त पदों की मार झेल रहे जैसलमेर से चार और डॉक्टरों का ट्रांसफर हो गया है. आदेश के अनुसार डॉ. चंद्रवीर सिंह गोदारा को पोकरण से बाड़मेर, डॉ. रणजीत सिंह को जैसलमेर से सीकर, डॉ. जयप्रकाश साटीवाल को जैसलमेर से केकड़ी अजमेर व डॉ. श्रीफल मीणा को भणियाणा से नागौर स्थानांतरित कर दिया गया है. 

तबादला तो किया, लगाया एक भी नहीं
जैसलमेर में पहले से रिक्त पदों की भरमार है. पिछली सरकार द्वारा भी जैसलमेर के लिए डॉक्टरों के आदेश किए गए, लेकिन यहां अधिकतर डॉक्टरों ने ज्वॉइन ही नहीं किया. हाल ही जिन डॉक्टरों ने ज्वॉइन किया था उनमें से चार का स्थानांतरण कर दिया गया है. इससे चिकित्सा व्यवस्था फिर से बेपटरी हो जाएगी. जानकारों के अनुसार सरकार द्वारा और भी स्थानांतरण किए जाने हैं. इसमें भी जैसलमेर के डॉक्टरों का स्थानांतरण होना तय है. अधिकतर मामलों में यह भी देखा गया है कि जैसलमेर में ज्वॉइन करने वाले अधिकतर डॉक्टर पीजी करने के लिए बाहर चले जाते हैं. नियमों के अनुसार पीजी करने के लिए डॉक्टरों को दो साल के लिए ग्रामीण क्षेत्र में अपनी सेवाएं देनी होती हैं.

डॉक्टरों के तबादले में राजनीति हो रही हावी
डॉक्टरों द्वारा पीजी करने के लिए ही जैसलमेर में ज्वॉइनिंग किया जाता है. दो साल पूरे होने के बाद डॉक्टर पीजी करने चले जाते हैं या दूसरी जगह अपना ट्रांसफर करवा लेते हैं. स्थानांतरण आदेश पूरी तरह से राजनीतिक हुए है. इसमें कोई दो राय नहीं है की हाई अप्रोच के कारण ही ट्रांसफर किए गए हैं. डॉक्टरों द्वारा जैसलमेर में ज्वॉइन तक नहीं किया जाता है. इससे इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि सरकारी आदेश को लेकर डॉक्टर कितने सजग है. जैसलमेर में रिक्त पदों को देखते हुए जनप्रतिनिधियों को अप्रोच कर पद भरने चाहिए, लेकिन ठीक इसके उलट यहां पर लगे डॉक्टरों का ही स्थानांतरण किया जा रहा है. 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in