डूंगरपुर Dungarpur: नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी चचेरे भाई को 20 साल की जेल, 21 साल उम्र होने तक बाल संप्रेषण गृह में रहेगा

Dungarpur: नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी चचेरे भाई को 20 साल की जेल, 21 साल उम्र होने तक बाल संप्रेषण गृह में रहेगा

Dungarpur: नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी चचेरे भाई को 20 साल की जेल, 21 साल उम्र होने तक बाल संप्रेषण गृह में रहेगा

डूंगरपुर: जिले की पॉक्सो कोर्ट ने 8 साल की मासूम से दुष्कर्म करने के मामले में दोषी अपचारी चचेरे भाई को 20 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है. वही कॉर्ट ने मामले में दोषी पर 41 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है. 17 वर्षीय दोषी अपचारी ने 13 नवम्बर को 8 साल की मासूम चचेरी बहिन को अपनी हवस का शिकार बनाया था. वही 17 नवम्बर को रामसागड़ा थाने में मामला दर्ज हुआ था.

डूंगरपुर पॉक्सो कोर्ट ने विशिष्ठ लोक अभियोजक योगेश जोशी ने बताया की 17 नवम्बर 2020 को रामसागड़ा थाने में पीड़िता की मां ने रिपोर्ट दी थी. जिसमे बताया था की वह 13 नवम्बर को सुबह अपनी 8 वर्षीय बड़ी बेटी व छोटी बेटी को घर पर छोड़कर खेत पर काम करने गई थी. वही पति मजदूरी करने गया था. पीड़िता की मां जब शाम को खेत से घर लौटी थी. उसकी बड़ी बेटी रो रही थी. जब पीड़िता से उसकी मां ने रोने का कारण पूछा तो उसने बताया की उसका चचेरे भाई घर आया था और उसके साथ चचेरे भाई ने दुष्कर्म करने की बात अपनी माँ को बताई. वही पीड़िता की मां ने पति के घर आने पर पूरी बात उसे बताई.

पुलिस ने मामला दर्ज करते हुए बाल अपचारी चचेरे भाई को अधिग्रहित किया: 
इसके बाद 17 नवम्बर को पीड़िता की मां ने रामसागड़ा थाने में रिपोर्ट दी. जिस पर पुलिस ने मामला दर्ज करते हुए बाल अपचारी चचेरे भाई को अधिग्रहित किया. फिर इसके बाद रामसागड़ा थाना पुलिस ने पॉक्सो कोर्ट में चालान पेश किया. इसी मामले में अंतिम सुनवाई करते हुए डूंगरपुर पॉक्सो कोर्ट ने अपचारी को दोषी करार देते हुए  दोषी को विभिन्न धाराओं के तहत 20 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है. वही 41 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया. इधर पॉक्सो कोर्ट ने वर्तमान में दोषी की उम्र 18 वर्ष 7 माह 13 दिन की होने से 21 साल की होने तक बाल संप्रेषण गृह भेजने के आदेश दिए है. इसके बाद उसे जेल में शिफ्ट किया जाएगा. 

और पढ़ें