डूंगरपुर Dungarpur: कपड़े सिलवाने जा रही एक युवती का जबरन अपहरण कर दुष्कर्म के दोषी को कोर्ट ने सुनाई 20 साल की सजा

Dungarpur: कपड़े सिलवाने जा रही एक युवती का जबरन अपहरण कर दुष्कर्म के दोषी को कोर्ट ने सुनाई 20 साल की सजा

Dungarpur: कपड़े सिलवाने जा रही एक युवती का जबरन अपहरण कर दुष्कर्म के दोषी को कोर्ट ने सुनाई 20 साल की सजा

डूंगरपुर: कपड़े सिलवाने जा रही एक युवती का जबरन अपहरण कर रेप के केस में आरोपी को कोर्ट ने 20 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है. वहीं दोषी पर 1 लाख 16 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है. रेप की ये घटना ढाई साल पहले धंबोला थाना क्षेत्र में हुई थी.

विशिष्ट न्यायालय पॉक्सो कोर्ट ने आज गुरुवार को रेप केस में सुनवाई पूरी करते हुए फैसला सुनाया है. विशिष्ट लोक अभियोजक योगेश जोशी ने बताया की 7 अक्तूबर 2019 को पीड़िता ने धंबोला थाने में केस दर्ज करवाया था. इसमें बताया की 22 सितंबर 2019 को वह कपड़े सिलवाने और फटे कपड़ों को ठीक करवाने पैदल पैदल जा रही थी. उसी समय आरोपी राजकुमार उर्फ राजू उर्फ राजेश पुत्र अमीरा उर्फ अमीर उर्फ हमीरा निवासी डाकनमारिया बाइक लेकर उसे रास्ते में मिला.  

आरोपी ने बाइक रोककर घर तक छोड़ने के लिए कहा. इस पर पीड़िता ने उसे मना कर दिया तो आरोपी राजकुमार ने डरा धमका कर उसे जबरन बाइक पर बैठा दिया. इसके बाद आरोपी उसे घर ले गया. आरोपी ने उसे एक कमरे में बंद कर दिया और रेप करता रहा. कुछ दिन उसे मामा के घर ले जाकर भी रेप किया. इसके बाद वापस घर लेकर आया. 6 अक्तूबर 2019 को  आरोपी राजकुमार समेत परिवार के लोग किसी की मौत पर बैठने के लिए गए. उसी समय वह मौका पाकर घर से निकल गई. पैदल चलकर वह अपने घर पहुंची और परिवार के लोगों को रेप की वारदात के बारे में बताया. इसके बाद पीड़िता अपने परिवार के लोगों के साथ थाने पहुंची और वारदात की रिपोर्ट दर्ज करवाई.

कोर्ट ने आरोपी को कई धाराओं में माना दोषी: 
विशिष्ट लोक अभियोजक योगेश जोशी ने बताया की मामले में पुलिस ने जांच करते हुए कोर्ट में चालान पेश किया. इस मामले में आज आखरी सुनवाई पूरी करते हुए कोर्ट ने आरोपी राजकुमार उर्फ उर्फ राजू उर्फ राजेश को विभिन्न धाराओं में दोषी माना हैं. कोर्ट ने 20 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है. वहीं 1 लाख 16 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है. कोर्ट ने मामले में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के माध्यम से पीड़ित प्रतिकार दिलाने की भी अनुशंसा की है.

और पढ़ें