जयपुर दशहरा का पर्व आज, लेकिन आज नहीं होगा रावण, कुम्भकरण और मेघनाथ का दहन 

दशहरा का पर्व आज, लेकिन आज नहीं होगा रावण, कुम्भकरण और मेघनाथ का दहन 

 दशहरा का पर्व आज, लेकिन आज नहीं होगा रावण, कुम्भकरण और मेघनाथ का दहन 

जयपुर: देश के जाति एवं गौरव को बढ़ाने वाले उसकी महान संस्कृति की परम्पराओं और भीत्तरी ऊर्जा के प्रतीक विभिन्न त्यौहार मनाए जाते हैं. शरद ऋतु के एक ऐसे ही विशिष्ट त्यौहारों में से एक है दशहरा. यह आश्विन मास की शुक्ला दशमी को बड़े उत्साह ,उल्लास और उमंग के साथ मनाया जाता है, लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण के चलते जिला प्रशासन और नगर परिषद के संयुक्त तत्वाधान में हर साल आयोजित होने वाला दशहरे मेले का इस बार आयोजन नहीं होगा.

आमजन के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए मेले पर लगाई रोक:
जिला प्रशासन ने इस बार कोरोना संक्रमण के हालात को काबू में रखने और आमजन के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए इस मेले पर रोक लगाई है. ऐसे में इस बार दशहरे पर हर साल की भांति स्थानीय शहीद पूनम सिंह स्टेडियम में रावण, कुंभकर्ण और मेघनाद के पुतलों का दहन और आतिशबाजी नहीं होगी. कलेक्टर आशीष मोदी ने बताया कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए सबसे अधिक आवश्यक है सतर्कता. कोरोना वायरस की चेन को तोड़ने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग बेहद जरूरी है. 

जिले में दशहरे मेले का आयोजन स्थगित:
एक दूसरे से दूरी बनाकर ही कोरोना वायरस के संक्रमण पर रोक लगाई जा सकती है. ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का पालन करने के लिए जिले में दशहरे मेले का आयोजन स्थगित किया गया है. साथ ही उन्होंने लोगों से अपील की है कि, कोरोना महामारी को देखते हुए दशहरा और दीपावली का त्यौहार अपने परिवार के साथ सुरक्षित तरीके से घर में ही मनाएं. गौरतलब है कि हर बार जैसलमेर में बुराई पर अच्छाई की जीत के पर्व दशहरे के अवसर पर शहीद पूनम सिंह स्टेडियम में मेले का आयोजन होता था. जिसमें अन्य जिलों से आए कारीगरों द्वारा निर्मित रावण, कुम्भकर्ण और मेघनाद के आदमकद के पुतलों का दहन किया जाता था. साथ ही इस मेले में भारी संख्या में लोगों पहुंचते थे.

...फर्स्ट इंडिया के लिए सूर्य​वीर सिंह तंवर की रिपोर्ट

और पढ़ें